पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

सोमवार, 7 दिसंबर 2015

142.........चुप रहे शायद बात सुधर जायेगी












सादर अभिवादन स्वीकारें

कमाल की तक़दीर 
पायी है उस शख्स ने......

जिसने तुझसे 
मुहब्बत भी ना की हो, 
और पा लिया तुझे .....

अभी लगभग एक घण्टे पहले ही याद आया
कल सोमवार है..

कल मुझे अपनी प्रस्तुति बनानी है
सो आनन-फानन में तैय्यार की हुई प्रस्तुति....
आइए चले चुनिन्दा रचनाओं की कड़ियाँ देख लें पहले...


नीलिमा शर्मा
कुछ कह देने से
बात बिगड़ जाएगी
चुप रहे शायद
बात सुधर जायेगी
बात बात की ही नही थी
उनके मूड की थी


सुधिनामा में....
कुछ अनछुई सी निशानियाँ
कुछ डगमगाती रवानियाँ
जाने किस खला में बिला गयीं
तेरे नाम थीं जो कहानियाँ !


अर्पित सुमन में....
.....कुछ ख़याल 
बुन रही हूँ मैं 
तुम्हारे एहसास के 
हर फंदे पर 
डाल रही हूँ 
एक बेजोड़ बुनाई 


मेरे मन की में....
जब मैंने स्कूल में कार्य करना शुरू किया उस समय मुझे पता नहीं था - मैं किस तरह कार्य करूँगी ... परिस्थितियाँ कुछ ऐसी बन गई थी कि मेरे सामने आगे जीवन चलाना और साथ दो बच्चों का भरण-पोषण करना एक चुनौती था ...


उन्नयन में....
क्यों    मिलता  है  ऐसा    हाल,
मलाल   है ,     जिंदगी       से -

क्या   पहनने  ओढ़ने  को  सिर्फ
दर्द  ही   हैं,  सवाल  है  जिंदगी से-


कविता मंच में....
तुम बता दो कि
सज़ा मेरी क्या होगी
मुझे जाना होगा
तुम्हारे दिल को छोड़
अपनी दुनिया में वापस
या फिर तेरे दिल में ही रहने की
उम्र क़ैद मुझे मयस्सर होगी !!


कौन कहता है 
"पैसा" 
सब कुछ 
खरीद सकता है.
"दम" है 
तो टूटे हुए 
"विश्वास" 
को पाकर दिखाए.

आज्ञा दें यशोदा को













8 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर आनन फानन प्रस्तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत रुचिकर ब्लॉग है। मैंने पूरा ब्लॉग देखा, अच्छा लगा। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर सार्थक पठनीय सूत्रों से सजी हलचल ! मेरी रचना को आज की हलचल में सम्मिलित करने के लिये आपका हृदय से आभार यशोदा जी !

    उत्तर देंहटाएं
  5. शायद तेरी कोख में बुझदिल पैदा नहीं होते ...
    इसलिए ऐ फलस्तीन की मिटटी तुझे सलाम ..

    जब भी फलस्तीन का जिक्र आता है जहन में एक बहादूर और सहन करने वाले लोगों की
    छवि उभर आती है फलस्तीन की जनता पर क्रूर इस्राइली जुल्म की इंतिहा सालों से जारी है......
    लेकिन ..........
    फलस्तीन की उस जमीन को सलाम
    जिसके के हर बगीचे को दुश्मनों ने रोंद दिया जहाँ की हर खिड़की का शीशा तक जुल्म का शिकार होकर टुटा है..स्कूल अजायब घर नजर आते है...उस देश की हर वादी में अमन का कत्ल हुआ है.
    उस जमीन के हर घर में एक शहीद की तस्वीर दीवार पर जरूर मिलेगी है.......
    उस जमीन की हर औरत को सलाम..........
    जो खून से लथपथ अपने बच्चो को गोद में लेकर कहती है ऐ जालिम इससे ज्यादा तेरे जुल्म की इन्तिहा क्या होगी लेकिन फ़िक्र ना कर में ऐसे बहादुर बच्चो को फिर जन्म दूंगी
    उस जमीन के हर बच्चे को सलाम....
    यतीम होना इस देश के बच्चे शायद जानते तक न हो फिर भी दुश्मन के सामने खड़े होकर कहते है .
    ढा ले जुल्म तू आखरी हद तक ऐ दुश्मन लेकिन .हम तेरे सामने नहीं झुकेंगे ..हम भी जवानी में कदम रखेंगे हम फिर लड़ेंगे ....क्योंकि हमें बहादुरी सिखाई जाती है. बुजदिली नहीं


    ऐ फलस्तीनियों आखिर तुम किस मिट्टी के बने हो ..कितना जुल्म सहन करोगे .....

    उत्तर देंहटाएं
  6. आभार मेरे ब्लॉग को लिंकित करने के लिए

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...