निवेदन।


समर्थक

मंगलवार, 30 जून 2020

1810 ...रस्ते में फिसलन है दिन है आषाढ़ का ,

सादर नमस्कार
आज अल सुबह
हम...वज़ह जो भी हो
आज की प्रस्तुति में
अचानक हम..

ये बारिशें,ये वादियाँ,और ये फूलों के अदभुत रंग ,
धरा की रहस्यमई,अंगड़ाइयों के ये नवीन से ढंग ,
के चलो गुनगुनाएं तराने,इन वादियों में खो जाएं ,
गर मेरी नजर से देखो,तो ये बहारें दिखेंगी और। 

इन दिनों 
भरा पूरा कमरा 
है मेरा है जिसमें 8-10 लोग 
चिन्हित करके बताउं तो... 

हैं चार दीवारें 
है ऊपर छत 
तीन पर घूम रहे पंखे के साथ 
है 'गो कोरोना' के रिवीयू के साथ 
चिल्लाते एंकर वाला टीवी भी 

नक़ाब जब हटता है
और सच सामने आता है

मुखौटे में शैतान देख
रुदन तब मुस्कुराता है

चेहरा जब बदलता है
और शूल बन  चुभता है


गम के किस्से, ख़ुशी के ठेले हैं
ज़िन्दगी में बहुत झमेले हैं

वक़्त का भी अजीब आलम है
कल थी तन्हाई आज मेले हैं

बस इसी बात से तसल्ली है
चाँद सूरज सभी अकेले हैं

हाथों में 
मेहँदी है 
साड़ी शिफ़ान की |
मौसम में 
खुशबू है 
इतर और पान की |

रस्ते में
फिसलन है 
दिन है आषाढ़ का ,
नदियों का 
मंसूबा है 
शायद बाढ़ का ,
खेत में 
कछारों में 
हरियाली धान की |
...
चुनिन्दा रचनाएँ बस
विषय जारी
125 वां विषय
"सरहद"
उदाहरण...
कोई भी फिल्मी-गैर फिल्मी गीत के बोल भेजिए
रचनाएँ शनिवार 04 जुलाई शाम तक
ब्लॉग सम्पर्क फार्म द्वारा
सादर

12 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर भूमिका और प्रस्तुति।

    बिल्कुल सच कहा
    हम वहीं फिसलते हैं, जहाँ सबकुछ अच्छा दिखता है। अतः हे मन सावधान !!

    मेरे सृजन को स्थान देने के लिए आपका हृदय से आभार भाई साहब।
    प्रणाम।

    जवाब देंहटाएं
  2. कालिदास की कालजयी पंक्तियाँ "आषाढ़ मासे प्रथम दिवसे" का स्मरण कराती सरस प्रस्तुति!!!

    जवाब देंहटाएं
  3. बेहतरीन अंक..
    वाह जीजू..
    नमन..
    सादर..

    जवाब देंहटाएं
  4. बेहद खूबसूरत प्रस्तुति।

    जवाब देंहटाएं
  5. सराहनीय प्रस्तुतीकरण
    उम्दा लिंक्स चयन

    जवाब देंहटाएं
  6. मेरी गलती..,
    सूचना सभी को दी
    भूलवश दिन बदलना याद न रहा
    सादर..

    जवाब देंहटाएं
  7. बेहतरीन प्रस्तुति,सादर नमन सर

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत खूबसूरत प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  9. सादर धन्यवाद आपका दिग्विजय अग्रवाल जी मेरी कविता " छलकते से सागर " को पांच लिंकों का आनंद पर शामिल करने के लिए ! 🙏😊

    जवाब देंहटाएं
  10. भावभीनी हलचल ...
    आभार मेरी गज़ल को जगह देने के लिए ...

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...