निवेदन।


फ़ॉलोअर

बुधवार, 17 जून 2020

1797 ...ग़ज़ल ही ग़ज़ल

सादर अभिवादन
आकस्मिक प्रस्तुति
अपरिहार्य कारणों से आज
पम्मी बहना व्यस्त हैं
हमें मैसेज आया कि
ताबड़-तोड़ प्रस्तुति
फौरन से पेश़्तर
हाज़िर करें...
सो प्रस्तुत है
ब्लॉग आब़सार के
चंद कतरे...
ब्लॉग निगारा हैं
मीनू भागिया
कुछ ग़ज़लें..
......

अहल-ए-शौक़ के  घरों  में  पलते  हैं  बोन्साई
बारिशों को खिड़कियों  से  देखते  हैं  बोन्साई

चमकने लगे  कैसे  कट  छंट  कर फर्श  पे
पहाड़ भी इक  दिन  बन  जाते  हैं बोन्साई

अपना  कद  कुछ  और बढ़ा  ले तू इन्सां
तेरे  लिए तो  हदों  में सिमटते  हैं बोन्साई




दरिया कूज़े में कैसे समाया होगा
सहरा की प्यासी रेत से बनाया होगा

बहुत एहतियात से उठाना तुम इसे
ग़र्दिश ए मस्ती ने इसे घुमाया होगा



दिल्लगियां करने लगा है मेरा आब शार
बलखाता इठलाता सा आवारा आब शार

फूल , तिनके , पत्ते  सबको साथ लेकर
बन बन भटकता है बंजारा आबशार

गुल ,बुलबुलें, शबनम ,शाखें करते हैं बातें रातों की
झिलमिल तारे जाते जाते कह जाते हैं बातें रातों की

तेज़ हवाओं में भटका था कल रात इक मुसाफिर
क़दमों के निशाँ और टूटे पत्ते कहते हैं बातें रातों की

सिलसिले धडकनों के बेताबियाँ यायावर
तगाफुल साँसे बदहवासियाँ यायावर

हर धड़कन के साथ है ज़िन्दगी यकीन
जिस्म में दौड़ते लहू की बेज़ारियां यायावर

....
My Photo
आदरणीय मीनू भागिया
दो ब्लॉग है
आबशार और अक्सर ऐसा होता है
दोनो 2014 से बंद है

........
और अंत में इस हफ़्ते का विषय
हम-क़दम का नया विषय
यहाँ देखिए
सादर



7 टिप्‍पणियां:

  1. आज की ये ताबड़-तोड़ प्रस्तुति वाक़ई धमाकेदार रही! साधुवाद!!!

    जवाब देंहटाएं
  2. गज़लें लाज़वाब है।
    बहुत बहुत आभारी हूँ दी।
    सादर।

    जवाब देंहटाएं
  3. कुछ हसरतें अनकही और पिन्हा है बेबसी
    तड़पती मौजों की तिश्नगियाँ यायावर
    खारजार दामन है कोई दश्त तो नहीं
    आ गिरती हैं इसमें वीरानियाँ यायावर
    वाह! 👌👌👌👌👌लाजवाब प्रस्तुति👌👌🙏३ हार्दिक शुभकामनायें और आभार 🙏🙏

    जवाब देंहटाएं
  4. लाजवाब प्रस्तुति..
    आभार

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...