निवेदन।


फ़ॉलोअर

रविवार, 31 मई 2020

1780....बस वो दिन ही अच्छे थे..... जब करोना नहीं था.....

जय मां हाटेशवरी......
आज मई का अंतिम दिन......
चार लॉक-डाउन भोग चुके हैं.....
कल से पांचवे की तैयारी.....
3 महीने से अधिक समय हो गया......
हम सबने सबसे अधिक समय.....
करोना पर चर्चा ही की होगी.....
टीवी चैनलों या सोशल मिडिया पर भी.....
बस करोना ही करोना.....
कभी विश्व के आंकड़े....
कभी देश के.....
कभी अपने राज्य व शहर में.....
करोना संक्रमितों की संख्या....
बढ़ती देख....चिंतित ही होते रहे हैं......
शायद आज कोई ऐसा व्यक्ति नहीं होगा.....
जो परेशान न हो.....
जो भय-भीत न हो......
कब होगा....ये तांडव समाप्त.....
हमे और अच्छे दिन नहीं चाहिये.....
बस वो दिन ही अच्छे थे.....
जब करोना नहीं था.....

मजदूरों के पलायन पर कविता
वस्तुस्थिति से वाक़िफ हर एक इंसान
जूझ रहा सूक्ष्म एक वायरस से जहान
गर्भवती महिलाएं  बूढ़े-बच्चे नौजवान
चल पड़े हैं पैदल देखो बिना समाधान ।
कई हादसों के हो गये असमय शिकार
दबी वक्त के सन्नाटे में रह गई चित्कार
व्यवस्थायें तो हुईं मगर बिलम्ब हो गया
हताशा ने तोड़ा सबर का बंध छल गया ।


Dard shayari
मशहूर हूँ तेरे दर्द के कारण।
नज़रें तुम्हारी, हुस्न तुम्हारा,
और हम पर कत्ल का इल्ज़ाम आया,
झुमकों ने तुम्हारी शरारत की,
तब जाकर मयख़ाने में जाम आया।


डर
भूख भी
मरने की
वजह हो सकती है
भूखे लोग
डरे रहते हैं कि
मर न जाएं
डरे लोग
दुबके हैं
पर भूख और डर की समग्रता
करवा रही है


चाह -अचाह

लोग ठिठकते हैं पल भर को उसे निहार
भँवरे गीत सुनाते हैं
तितलियाँ तृप्त होती हैं पराग से
वह किसी घड़ी चुपचाप झर जाता है !


वे भी मेरी निष्पक्षता और मंतव्य को समझते थे।
पिता नाखुश ही रहा। उसके इस बर्ताव से युवक को दुःख के साथ-साथ क्रोध भी बहुत आया और उसने अपने पिता से कहा कि लगता है आप मेरी सफलता से ईर्ष्या करते हैं !
मेरी यशो-कीर्ति आपको अच्छी नहीं लगती। आप किसी दुर्भावना के तहत मेरी हर कृति में खामियां निकाल देते हैं ! ऐसा क्यों ? आज आपको बताना ही पडेगा ! अपने पुत्र की बात सुन शिल्पकार गंभीर हो गया ! पर आज समय आ पहुंचा था सच बताने का ! उसने अपने बेटे को शांत हो जाने को कहा और बोला कि मैं तुम्हें अपने से भी बड़ा शिल्पकार बनता हुआ देखना चाहता हूँ ! इसीलिए मैं तुम्हारी हर कलाकृति में मीन-मेख निकाला करता हूँ और इसीलिए अब तक तुम अपनी कला को और बेहतर करने के लिए जुट जाते थे। मुझे पता था कि जिस दिन मैंने तुम्हारी कला की प्रशंसा कर दी; उसी दिन तुम संतुष्ट हो जाओगे !


छलावा
जीवन कोल्हू के वर्तुल में
निरंतर जोते हुए
बैल की तरह
जिसे कभी कौतूहल
तो कभी सहानुभूति से
देखा जाता है,
उनके प्रति
 सम्मान और प्रेम का
 प्रदर्शन
 छलावा के अतिरिक्त
 कुछ भी नहीं


महामारी 
लोग तड़प कर बीमारी से मर रहें हैं,
सब चुप है पर कुछ नहीं कर रहे |
इस महामारी में जाति धर्म है
इस बार केवल एक दूजे के लिए मर्म हो |
लड़ना है इस महामारी से अगर,
मिल जुलकर चलना होगा हर डगर |



धन्यवाद।

6 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बेहतरीन प्रस्तुति! आभार और बधाई!

    जवाब देंहटाएं
  2. शुभ प्रभात
    इकत्तीस मई
    लॉकडाउन समाप्ति घोषणा
    वेलकम 31 मई
    आभार
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर प्रस्तुति..

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर प्रस्तुति।
    बहुत आभार आदरणीय कुलदीप जी मेरी रचना शामिल करने के लिए।
    सादर।

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...