निवेदन।


समर्थक

शनिवार, 23 मई 2020

1772... कदम

सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष
जीवन में जिंदा होना थोड़ा सा मुश्किल है,
हर रोज तो बेख़ुदी ही ज़मीर का कातिल है।

कल की ही बात है 'हाइकु चर्चा' में डॉ. जगदीश व्योम जी ने एक गहरी बात कही,-
"आजकल वही सबसे अधिक परेशान हैं , जो अधिक संवेदनशील हैं ।"
तो 'अति सर्वत्र वर्जयेत्'। इंसान बने रहने के लिए क्या होना चाहिए..

पहला कदम



कदम बढ़ाने की जरूरत है

कदम बढ़ाने की जरूरत है – कविता | Anil Kumar ...

काजल के पर्वत पर चढ़ना

काजल के पर्वत पर चढ़ना, और चढ़ कर पार उतरना


फौजी बीवी




ठोस कदम



बाधाएँ आती है आएँ,
घिरें प्रलय की घोर घटाएँ,
पावों के नीचे अंगारे,
सिर पर बरसें यदि ज्वालाएँ,
निज हाथों से हँसते–हँसते,
आग लगा कर जलना होगा।
कदम मिलाकर चलना होगा।अटल बिहारी वाजपेयी
><><><
पुन: मिलेंगे...
><><><
अब बारी है आज के विषय की
आज का विषय है
चित्राधारित लेखन


इस चित्र को देखकर जो भाव और विचार उमड़ते हैं
से शब्दों में पिरोना है।
रचना भेजने की
अंतिम तिथि : 23 मई 2020
प्रकाशन तिथि : 25 मई 2020




11 टिप्‍पणियां:

  1. "आजकल वही सबसे अधिक परेशान हैं ,
    जो अधिक संवेदनशील हैं ।"
    बेमिसाल, हरदम की तरह...
    सादर नमन..

    जवाब देंहटाएं
  2. 🙏🙏पांच लिंक मंच को नमन और समस्त पाठकवृंद को अभिवादन 🙏🙏
    कदम विषय पर बेमिसाल अंक। निए ब्लॉग और नये चिंतन से परिचय बहुत अच्छा है।
    लक्ष्मण रेखा बड़ी क्षीण है, बड़ी क्रूर है काई,
    कदम कदम पर फिसलायेगी रेशम सी चिकनाई !!
    काजल के पर्वत पर चढ़ना, और चढ़ कर पार उतरना,
    बहुत कठिन है निष्कलंक रह करके ये सब करना !!!
    बस यही है एक नैतिक बोध से भरे वयक्ति की उलझन, कि कुत्सित मानसिकता वाली राजनीति की बिसात हर कदम पर बिछी है। इस शोधपरक शानदार अंक के लिए आपको बधाई आदरणीय दीदी 🙏🙏। आशा है आगे भी ऐसे ही शानदार अंक आते रहेंगे। सुप्रभात और प्रणाम 🙏🙏🌹🌹

    जवाब देंहटाएं
  3. "आजकल वही सबसे अधिक परेशान हैं , जो अधिक संवेदनशील हैं ।"
    काश कि कुछ संवेदनशीलता देश के तथाकथित जन प्रतिनिधियों के हृदय में भी जागृत हो सके।
    सभी रचनाएँ एक से बढ़कर एक है दी।
    हमेशा की तरह शानदार अंक।
    सुप्रभातम् दी।
    सादर।

    जवाब देंहटाएं
  4. सुंदर उत्कृष्ट रचना प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  5. व्वाहहहहह..
    सदा की तरह
    अभी एक महीना और वहीं गुज़ारें
    सादर नमन

    जवाब देंहटाएं
  6. उत्कृष्ट लिंकों के साथ शानदार प्रस्तुति...

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...