निवेदन।


फ़ॉलोअर

शनिवार, 23 फ़रवरी 2019

1317.. सरकार


सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष

किसी की शख़्सियत का बैठ अंदाज़ा लगाना मत।
किसी के शक्ल के पीछे छिपी फ़ितरत नहीं दिखती।

निगल जाते डकारे बिन सभी अज़गर जरा बचना।
अगर है चुप समंदर तो हमें जुर्रत नहीं दिखती।

My photo
ख़ुश्क मौसम, रात रूमानी
वो खुश्क मौसम था, वो रात रूमानी थी।
वर्षों छिपा रखा था, वो बात बतानी थी।
कैसे इज़हार कर देता, जो उन्हें थी जल्दी।
चंद लफ्ज़ पड़ते कम, वर्षों की कहानी थी।

My photo
सरकार
मैंने भी उनका भ्रम दूर करना उचित
दूर करना उचित समझा और कहा-
'भाई, किसी भी व्यक्ति की पहचान
उसके व्यक्तित्व से होती है, सरकार से नहीं।'


मोबाइल
प्रशांत नाम है उनका| चल रहे थे तो एक पैर कही पड़ते
और दुसरे कही और, ऐसा लग रहा था जैसे भंग चढ़ा रखी हो|
 और आँखे रक्त सी लाल मानो कई दिनों से सोया न हो,
टेबल पर आकर बैठ गए|
प्रोफ़ाइल फ़ोटो

सुनने का कमरा
कभी-कभी क्लास का माहौल
जितना हाथ में होता है उतना ही
हाथो से बाहर भी रहता है |
बहुत सारे विवरण और किस्से
एक साथ सामने होते हैं|

जीना सरल नहीं होता
चरण कठोर धरा पर लेकिन,
शीष विषद नील अम्बर में।
मोह युक्तता, मोह मुक्तता,
एक साथ पनपे अन्तर में।
><
फिर मिलेंगे...

हम-क़दम अब बारी है अगले विषय की
उनसठवाँ विषय

क़रार 
उदाहरण
तुम हो पहलू में पर क़रार नहीं
यानी ऐसा है जैसे फुरक़त हो 

है मेरी आरज़ू के मेरे सिवा

तुम्हें सब शायरों से वहशत हो

किस तरह छोड़ दूँ तुम्हें जानाँ


तुम मेरी ज़िन्दगी की आदत हो 

रचनाकार जॉन ऐलिया


अंतिम तिथिः 23 फरवरी 2019
प्रकाशन तिथिः 25 फरवरी 2019


11 टिप्‍पणियां:

  1. एक साथ, एक ही समय में, जीना सरल नही होता है।
    जीवन का बड़ा सत्य।
    सभी को प्रणाम।

    जवाब देंहटाएं
  2. शुभ प्रभात दीदी
    सादर नमन
    सदा की तरह बेहतरीन प्रस्तुति
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  3. सुप्रभात
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति ।

    जवाब देंहटाएं
  4. इस टिप्पणी को लेखक ने हटा दिया है.

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत सुन्दर विभा जी ! आपके एक शेर को मैं अपने अंदाज़ में कहूँगा -
      निगल जाते डकारे बिन, सभी नेता, ज़रा बचना,
      अगर है चुप कोई नेता, जुगाली कर रहा होगा.

      हटाएं
  5. घोर अभावों के जमघट में,लय संगीत भरे पनघट में,
    एक साथ, एक ही समय में, जीना सरल नही होता है।...
    बेहतरीन प्रस्तुति 👌
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  6. बेहतरीन रचना संकलन एवं प्रस्तुति सभी रचनाएं उत्तम

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत शानदार प्रस्तुति हर रचना लाजवाब ।
    सभी रचनाकारों को बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  8. शानदार प्रस्तुतिकरण उम्दा पठनीय लिंक संकलन...

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...