निवेदन।


फ़ॉलोअर

शनिवार, 2 फ़रवरी 2019

1296... सहानुभूति


सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष
अवैतनिक होकर आज़ादी गिरवी रखें
आस विश्वास आश्वास विप्लवी रखें
छल आत्मसम्मान सबके बटोर लें
पहला भावात्मक  तत्व है जो कि सभी प्राणियों में होता है
जबकि दूसरा तत्व संज्ञानात्मक है जो केवल मनुष्यों में है|
दूसरों के कष्ट या संवेगों को संबंधित व्यक्ति के दृष्टिकोण से
समझने की योग्यता सिर्फ मनुष्य में होती है|
परिचितों के प्रति, आत्मीय जन के प्रति, साथी मनुष्यों के प्रति या
 जो हमारे जैसे होते हैं उनके प्रति  समानुभूति अधिक होती है|
सहानुभूति
समझते हो जो किसी का दर्द,
तो उसका साथ पीछे से भी ना छोड़ना।
बंधन बांधना ऐसे की, फिर उसको
कभी अपने व्यवहार से ना तोड़ना।
एक होटल में पार्टी के दौरान कब लड़कियां बीयर की बोतलें मंगा कर पी गई,
पता ही नही चला?पैसे देते वक्त बिल में उन बोतलों का जिक्र आया
तब मुझे पता चला कि देवियों ने सुरापान किया था।
पापा अपनी बेटी को अपने पैरों पर खड़ा करने के लिए शहर में पढ़ने भेजते हैं ।
अपवादस्वरूप छोटी-मोटी गिरावटों को अगर परे रखें तो
भी सेंसेक्स अपनी रौ में मस्तराम ही बना हुआ है।
 मार्केट के जानकार लोग बता रहे हैं कि सेंसेक्स में
बनी तेजी को अभी कुछ साल और प्रभावी रहना है!
Pixabay
><
स्वानुभूति समानुभूति के चक्कर में ढूँढ़ते रहे
उर्वरा जमीं सहानुभूति के लिए
फिर मिलेंगे...
अब बारी है हम-क़दम  की
छप्पनवा क़दम
विषयः
याद
उदाहरण

फिर से आज बौराई शाम
देख के तन्हा मन की खिड़की
दबे पाँव आकर बैठी है
लगता है आज न जायेगी
यादों में पगलाई शाम

अंतिम तिथिः 02 फरवरी 2019
प्रकाशन तिथिः 04 फरवरी 2019


13 टिप्‍पणियां:

  1. बंधन बांधना ऐसे की, फिर उसको
    कभी अपने व्यवहार से ना तोड़ना।
    संक्षिप्त शब्दों में बड़ा संदेश, परंतु राजनेताओं की तरह कभी झूठे आश्वासनों का बंधन मत बांधना ,छल का बंधन मत बांधना , सदैव स्नेह का बंधन बांधों, भले ही स्वयं के हिस्से में दर्द हो।
    सभी को सुबह का प्रणाम। बहुत ही सुंदर अंक।

    जवाब देंहटाएं
  2. आदरणीय दीदी....
    सदा की तरह बेहतरीन प्रस्तुति
    आभार...
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ।

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत बढ़िया अंक..
    धन्यवाद।

    जवाब देंहटाएं
  5. नमस्कार बिभा दी ,बहुत उन्दा प्रस्तुति ,साहनभूति के अलग अलग रूप

    जवाब देंहटाएं
  6. सहानुभूति ('सहानुभूति', 'भावना का समुदाय') किसी के लिए देखभाल और चिंता की भावना है, अक्सर कोई व्यक्ति, उसे बेहतर देखने या खुश करने की इच्छा के साथ। दया के मुकाबले, सहानुभूति से साझा समानता का अधिक अर्थ है, और अधिक निजी निवेश। हालांकि, सहानुभूति के विपरीत, सहानुभूति को एक साझा दृष्टिकोण या साझा भावनाओं को शामिल करने की आवश्यकता नहीं है दरअसल, सहानुभूति व्यक्ति के प्रति सहानुभूति रखने वाले व्यक्ति की अपेक्षा सहानुभूति के बारे में अक्सर अधिक होती है। सहानुभूति और सहानुभूति अक्सर एक-दूसरे के लिए आगे बढ़ती हैं, लेकिन ऐसा करने की आवश्यकता नहीं है।

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर हलचल की प्रस्तुति
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  8. सहानुभूति एक व्यापक शब्द है जिसमें सुखद एहसास निहित होते हैं। सहानुभूति के विभिन्न आयाम प्रस्तुत करती यह प्रस्तुति विचारणीय एवं सारगर्भित है। विभा दीदी को नमन।

    सभी चयनित रचनाकारों को बधाई एवं शुभकामनाएँ।

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...