पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

रविवार, 16 जुलाई 2017

730.....हिन्दी कुत्ता अंग्रेजी में भौंका

सादर अभिनन्दन
शुभ रविवार....
आज मुझे काम पर लगा दिया गया..

आज की मेरी पसंदीदा रचनाएँ....


"सुघड़ गृहणी ".......रेवा टिबड़ेवाल
आँखों से अब 
आँसू नहीं बहते 
जज़्ब हो गए हैं कोरों मे ........ 
दिल भी अब 
दुखता नहीं 
बांध दिया है सिक्कड़ों से 


अनवरत ताक रही हूँ
आसमान के वर्तमान को या
अपने अतीत को
और उन छवियों में
अपनों को तलाशती
मैं तुम्हें देख पा रही हूँ


आशाएं.....कमलकिशोर पाण्डेय
'स्व' तक सीमित और दिखावे वाले 
महानगर में भी
बेहोशी आ जाने पर 
अपने सहयात्री को 
पानी दे देता
कोई अनजान शख्स



कुछ भी व्यर्थ नहीं....श्वेता सिन्हा
कुछ भी व्यर्थ नहीं जीवन में
हर बात में अर्थ को पा लो
चंद साँसों की मोहलत मिली है,
चाहो तो हर खुशी तुम पा लो

सफल आदमी.......भास्कर चौधुरी
और
सामाने बैठी औरतों की
ज़ोरदार तालियों के बीच
वह उतर आया
मंच से आहिस्ते आहिस्ते
झूमते झूमते !!

शब्द-शब्द हाइकू .....अनुपमा त्रिपाठी
शब्दों से प्रभु  ...
सजादो  मेरा मन ....
कविता  खिले ...

व्यथा मुखर ....
शब्द हुए प्रखर .....
काव्य निखर .....


अर्धसत्य...मीना शर्मा
कैसे समझूँ मैं तुम्हें ?
कैसे जानूँ ?
मन घुट रहा है सवालों से !
अच्छा, इतना तो बता दो,
तुम्हें सत्य कैसे कहूँ ?
और 'अर्धसत्य' कहूँ,
तो मंजूर होगा क्या तुम्हें ?

उलूक उवाच...डॉ. सुशील जोशी

अब जनाब क्या 
सारी की सारी बात 
हम ही आपको 
बताते चले जायेंगे 
कुछ बातें आप 
अपने आप भी
पता नहीं लगायेंगे
पता लगाईये और
हमें भी बताइये 
कुछ पैसा खर्च 
वर्च कर जाइये
हवाई जहाज से 
यात्रा कर के आईय़े 
आप जरूर किसी 
ना किसी ऎसे 
कुत्ते से टकरायेंगे





11 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात....
    बेहतरीन प्रस्तुति..
    आभार
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेहतरीन संकलन ! मेरी रचना को शामिल करने हेतु बहुत बहुत धन्यवाद आदरणीय ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रभावी लिनक्स |मेरी रचना को शामिल करने हेतु सदर आभार आदरणीय दिग्विजय जी !

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही सुन्दर पोस्ट लिंक्स सहजे आपने |बहुत बढ़िया जी |

    उत्तर देंहटाएं
  5. रविवारीय अंक अपनी विशेषता के साथ पेश हुआ है। बेहतरीन सूत्रों का चयन। आभार सादर।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बढिया लिकों का चयन..
    धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुन्दर प्रस्तुति। आभार दिग्विजय जी 'उलूक' के 'कुत्ते' को आज की हलचल में जगह देने के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  9. @हिन्दी कुत्ता अंग्रेजी में भौंका.....पर दरवाजे पर आ दुम अपनी भाषा में ही हिलाता है

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...