निवेदन।

*हम अपने पाठकों का हर्षित हृदय से सूचित कर रहे हैं कि शनिवार दिनांक 14 जुलाई, रथयात्रा के दिन हमारे ब्लॉग का तीसरा वर्ष पूर्ण हो रहा है, साथ ही यह ब्लौग अपने 11 शतक भी पूरे कर रहा है, इस अवसर पर आपसे
आपकी पसंद की एक रचना की गुज़ारिश है, रचना किसी भी विषय पर हो सकती है, जिससे हमारा तीसरी वर्ष यादगार वर्ष बन जाएगा* रचना दिनांक 13 जुलाई 2018 सुबह 10 बजे तक हमे इस ब्लौग के संपर्क प्रारूप द्वारा भेजे।
सादर


समर्थक

शनिवार, 8 जुलाई 2017

722... लघुकथा



यथायोग्य आप सभी को
प्रणामाशीष


टहलते छ: साल हो गये यहाँ
सभी से परिचय पुराना है

कैसे कहूं (कहूँ) मैं कौन हूँ


ढलता हूं नित नये आकार में
आयाम बदलता हूं व्यवहार के
जिसने जैसा चाहा
वैसा होता रहा हूं
हां मगर थोड़ा थोड़ा
खोता रहा हूँ
सर्वमान्य सम्पूर्ण होने की चाह में
अधूरा सा होता रहा हूँ


सब सहना है



आप जो भी कहेंगे
आप जो भी करेंगे
लोगों को कुछ न कुछ कहना है
इस दिया में रहना है


घर के बड़े बुजुर्ग



समझाना चाहते है उन्हें
दुनियादारी के तौर तरीके
पर आज की पीढ़ी नहीं लेना चाहती
उनके अनुभव व विचार
जो सिर्फ अपनी ही चलाना चाहते है
लेकिन हमारे पढ़े लिखे होने से दुनियादारी
नहीं चलती
अनुभव का होना बहुत
ज़रूरी है



लघुकथा




"ठीक है, लेकिन यहाँ तक इस कमरतोड़ बोझ को उठाके लाया कौन है?"
"अच्छा, आधे-आधे पर राजी होते हो?"
"ठीक है…खोलो संदूक।"
संदूक खोला गया तो उसमें से एक आदमी बाहर निकला।
उसके हाथ में तलवार थी।
उसने दोनों हिस्सेदारों को चार हिस्सों में बाँट दिया।



अक्षय सुख के विपुल भंडार



फिर मिलेंगे

विभा रानी श्रीवास्तव



8 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात
    आदरणीय दीदी
    सादर नमन
    वाह..आज फिर एक विषय
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. पंकज झा की पंक्तियाँ...

    सत्य, धर्म, कर्तब्य पालन,पुरुष के पुरुषार्थ से,
    समुद्र मंथन और साहस,अहंकार के त्याग से,
    सहज स्वक्ष प्रेम स्नेह,भीतर के आवाज(बुद्धि-विवेक) से,
    प्रार्थना आशीर्वाद और सहयोग,प्रारव्ध के स्वीकार्य से,
    आप हरपल समृद्ध होते है,अक्षय सुख के विपुल भंडार से...

    स्वमंथन कराती ये प्रेरक पंक्तियाँ आज की प्रस्तुति को विशेष बनाती है। सुंदर प्रस्तुतिकरण। साधुवाद विभा जी।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर लिंकों का चयन प्रेरक रचनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही सुन्दर लिंक्स....

    उत्तर देंहटाएं
  6. विचारणीय लिंक्स का संयोजन। लघुकथा बेमिशाल और प्रेरक है। आभार सादर।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...