पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

रविवार, 9 जुलाई 2017

723....सुबह सुबह ताजी ताजी गरम गरम

परसों तो आई थी मैं
आज फिर से मैं ही
चलिए कोई बात नहीं...
निगाह डालिए मेरी आज की पसंद पर...
आज पूर्णिमा है.. 
सोने में सोहागा.. 
इसे गुरु पूर्णिमा भी कहते हैं

इसी अवसर पर कविता दीदी की एक रचना....


दादू सब ही गुरु किए, पसु पंखी बनराइ .......कविता रावत
झूठे, अंधे गुरु घणैं, बंधे विषै विकार।
दादू साचा गुरु मिलै, सनमुख सिरजनहार।

दादू वैद बिचारा क्या करै, जै रोगी रहे न साच।
मीठा खारा चरपरा, मांगै मेरा वाछ।।

‘दादू’ सब ही गुरु किये, पसु पंखी बनराइ।
तीन लोक गुण पंच सूं, सब ही माहिं खुदाइ।।



कहीं न कहीं डरते हैं
अपनी विनम्रता से
अपनी सहनशीलता से
अपनी दानवीरता से
अपनी ज़िद से
अपने आक्रोश से
अपने पलायन से  ...
बस हम मानते नहीं
तर्क कुतर्क की आड़ में
करते जाते हैं बहस

‘जन गण मन’ में
खड़े रहे जो,
‘जन’ को देख न पाते हें.
सड़क किनारे भीख माँगते,
रग्घू फिर मर जाते हें.

दिल के मुकदमे में दिल ही हुआ है दोषी
हो गया फैसला बेकार है सुनवाईयाँ भी

कर बदरी का बहाना रोने लगा आसमां
चाँद हुआ फीका खो गयी लुनाईयाँ भी

मिल के बैठे हों जहां दो-दिल वहाँ मुस्कान ना हो
ऐसा भी क्या है खिले लब पे तू इतना शान ना कर

आरजू तेरी मुझे तुझको भी मेरी ज़ुस्तज़ू है
बात पे पर्दा लगा कर मौत भी आसान ना कर

ऋतु ये आशा की, फिर आए न आए!
उम्मीदों के बादल, नभ पर फिर छाए न छाए!
चलो क्यूँ ना इन बूँदों में हम भीग जाएँ!

फ़िर भी आज़, एक फ़िक्र सताती है मुझे

कहीं मेरे कपड़े मैले ना हों जायें
कहीं मेरी रुह ,दाग़दार ना हो जाए
कहीं मेरे कफ़न की चमक फीक़ी ना पड़ जाए

जीवन की यादों में......
वक्त बेवक्त उफनती ,
लहरेंं "मन-सागर" में........
देखो ! कब तक सम्भलती
हैं, ये यादें जीवन में.........?
लेखनी समझे उलझन,
सम्भल के लिख भी पाये......



मेरे घर में जितने 
अखबार आते हैं 
उनमें से एक के 
मुख्य पृष्ठ पर है 
मैं इसे पढ़ पाया
तब से कुछ भी 
समझ में नहीं 
आ रहा है 
इस समाचार का 
विश्लेषण दिमाग 
नहीं कर पा रहा है 
.......
इस माह ही हूँ मैं
31 जुलाई के बाद मैं नहीं मिलूँगी..
आज्ञा..
सादर ....









11 टिप्‍पणियां:

  1. वाह्ह्ह...दी, पठनीय सुंदर लिंकों का चयन।
    गुरु पूर्णिमा की हार्दिक शुभकामनाएँ सभी को।
    मेरी रचना शामिल करने के हृदय से आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभ प्रभात !
    गुरुर्ब्रह्मा गुरुर्विष्णु र्गुरुर्देवो महेश्वरः
    गुरु साक्षात परब्रह्मा तस्मै श्रीगुरवे नमः
    आज का विशेषांक शानदार लिंक्स का संकलन है। अंत में आदरणीय यशोदा बहन जी की घोषणा विचलित करती है। आभार सादर।

    उत्तर देंहटाएं
  3. शुभ प्रभात आदरणीय ,दीदी
    आपसबको गुरुपूर्णिमा की
    हार्दिक शुभकामनायें,
    सुन्दर लिंक समायोजन
    आज की प्रस्तुति अच्छी लगी।
    आभार ,
    "एकलव्य"

    उत्तर देंहटाएं
  4. शुभप्रभात!
    गुरु पूर्णिमा की हार्दिक बधाई
    बहुत सुंदर लिकों का चयन..
    धन्यवाद।
    पर अंतिम वाक्यों से कुछ हलचल...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति में मेरी पोस्ट शामिल करने हेतु आभार!
    सबको गुरु पूर्णिमा की हार्दिक शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  6. 31 जुलाई के बाद कहाँ मिलेंगी? बहुत सुन्दर प्रस्तुति यशोदा जी। आभार 'उलूक' के सूत्र को जगह देने के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर लिंक संयोजन...
    मेरी रचना को स्थान देने के लिए हार्दिक धन्यवाद......
    31 जुलाई से कब तक आप....
    जल्द ही आइयेगा यशोदा जी! हम सबको आपका इंतज़ार रहेगा......कुछ दिनो का आराम ही दे सकते है आपको...अलविदा ना कहना.....सादर आभार...

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...