निवेदन।


फ़ॉलोअर

शनिवार, 15 जुलाई 2017

729... देवदूत



सबों को यथायोग्य
प्रणामाशीष

बेड़ा पार हो जाए 
जो मिल जाए



पर फिर जो कुछ हुआ उसकी तो मैंने कल्पना भी नहीं की थी,
 दो-तीन घंटे के अंतराल में ही मेरे सामने मेज पर दो लाख रुपयों का ढेर लगा हुआ था। 
ऐसी रकम जो हफ्तों से आँख-मिचौनी कर रही थी, मेरे सामने पड़ी थी।
 समझ नहीं आ रहा था कि क्या कहूँ क्या न कहूँ। हालत यह कि जुबान बंद, 
आँखें भीगी हुई और मन अपने सहयोगियों के उपकार के आगे नतमस्तक था।





लहू से सींचकर खेतों को, जो जीवन उगाता है,
जरा सी रोशनी देदो, उसे भी आशियाने की।।
खुदाओं की तरह, मेरी  अकीदत के जो वारिस है,
उन्हें आदत निराली है, हमें अक्सर रुलाने की ।।
मुझे कोई भी मुझ जैसा, मनाने वाला  हो 'मोहन'
ये ख्वाहिश है हमारी भी, कि थोड़ा रूठ जाने की ।।




जोर से इनसे मत भिड़ना 
ये सड़कों के सब कोलतार 
जो हाथ गलाते रहते हैं
ये आग के ऊपर रोजाना ही 
आते जाते रहते हैं
ये बेसब्री और सब्र के नीचे
कुछ बतियाते रहते हैं




प्रवहमान धारा से ही कलकल-छलछल का नाद निकलता है. 
यदि स्थिर जल से ऐसा स्वर निकले तो फिर यही समझा जाये कि 
उसकी गहरी छाती से असंतोष के बुलबुले निकल रहे हैं. 
मंद मंद डोलती पत्तियाँ और बहता पवन – 
दोनों एक दूसरे से पृथक नहीं होते.




हमारी दुनिया के लोगों से 
भरी पड़ी है दूसरी दुनिया पर 
सामंजस्य स्थापित करना 
बहुत ही कठिन है 
दूसरों के दुःख सुन कर 
समझ कर अपना दुःख 
तिनका सा लगता है


><><

फिर मिल्रेंगे

विभा रानी श्रीवास्तव



9 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात....
    सादर नमन दीदी
    बेहतरीन प्रस्तुति..
    आभार
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  2. सुंदर संकलन
    सभी रचनायें उम्दा हैं

    जवाब देंहटाएं
  3. सुरुचिपूर्ण संकलन के लिए साधुवाद!!!

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत बढिया संकलन
    धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  5. सादर अभिवादन. सुंदर एवं विचारणीय सूत्रों का संकलन। समाज के उपेक्षित सरदारों का बखान करती बेहतरीन रचनाएं एवं तत्वज्ञान की चर्चा करते सूत्र। आभार सादर।

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत ही सुन्दर उम्दा लिंक संयोजन...

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर सूत्र सुन्दर हलचल।

    जवाब देंहटाएं
  8. सुंदर और जरा अलग हटकर सी रचनाओं का संकलन ।

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...