पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

शनिवार, 22 जुलाई 2017

736.. .स्पेशल केस


सबको यथायोग्य
प्रणामाशीष

बरसात का मौसम है
नाक गला भले बंद हो

दिमाग खुला रखें बाबा जादू टोना लिखिए
ओझा जन्तर मन्तर  लिखिए।।
माना कि सरकार बुरे हैं
फिर भी हद के अन्दर लिखिए।।




झंझावात है कभी आंसू आ जाते कभी सूख जाते. इस बीच कब अंतिम संस्कार हो गया,
चौथा, तेरहवीं, पूजा, हवन भी हो गया पता ही नहीं लगा.
हरिद्वार में गंगा स्नान हो गया और उसके बाद पेंशन का काम भी करवा दिया गया.
अब मिसेज़ रामनाथ घर में अकेली रह गईं और कुछ दिन अकेले रहना चाहती भी थीं.
उन्हें अब घर शांत नहीं सुनसान और खाली खाली लगने लगा.
रह रह के ख़याल आने लगा की यहीं रहूँ या किसी बेटा बेटी के साथ?




दीवारें हमारी दुनिया के लोगों से
भरी पड़ी है दूसरी दुनिया पर
सामंजस्य स्थापित करना
बहुत ही कठिन है
दूसरों के दुःख सुन कर
समझ कर अपना दुःख
तिनका सा लगता है




स्पेशल केस "और क्या। आई कांट बिलीव
कोई ऐसा कोम्बिनेशन भी पहन सकता है।
पथैटिक। बदलो फटाफट। रूको मैं ही निकाल कर लाती हूँ ।"
"अरे पहले नाश्ता तो दे दे। "
"रूको तो एक मिनट ही तो लगेगा ।
मैं निकाल रही हूँ तुम फटाफट बदल लेना। फिर नाश्ता लगाती हूँ ।"
कहते हुए सुम्मी शर्ट लेने अंदर चली गई ।
और रोहित बेचारा शर्ट के बटन खोलते हुए सोच रहा है




कमजोरी को बनाई ताक़तजब ममता 2007 के बाद घर से बाहर निकलने लगीं
तो उनकी माँ ने उन्हें यही नसीहत दी कि,
'' बेटा, आगे बढ़ना है तो कभी पीछे मुड़कर नहीं देखना."
 उसके बाद ममता पेंटिंग की दुनिया में पूरी तरह से रम गयीं.
गोलारोड स्थित एक निजी संस्था और पाटलिपुत्रा के उपेंद्र महारथी संस्था में
आज भी ममता करीब 200 -300 महिलाओं और
लड़कियों को मिथिला पेंटिंग का प्रशिक्षण दे रही हैं.

><><
फिर मिलेंगे




11 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात प्रभात दीदी
    सादर नमन
    सारे के सारे अनपढ़े थे...सब पढ़ ली
    आभार
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभप्रभात.....
    सुंदर संकलन....
    आभार आप का....

    उत्तर देंहटाएं
  3. अपठित लिंक थे सारे बहुत आभार विभा जी सुंदर रचनाएँ पढ़वाने के लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर लिंक्स के लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं
  5. पूरे दिन की खुराक दे देता है आपका ये संकलन...धन्‍यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  6. नए ढंग की प्रस्तुति है आज का अंक। सुंदर वैचारिक सूत्र चयनित हुए हैं इस प्रस्तुति में। आभार सादर।

    उत्तर देंहटाएं
  7. उत्तर
    1. पठनसामग्री के साथ साथ दिलो दिमाग को अच्छी खुराक दे देते हैं हलचल के सुंदर संकलन । सादर धन्यवाद एवं सभी चयनित रचनाकारों को बधाई।

      हटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...