पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

मंगलवार, 11 जुलाई 2017

725....बढ़ते जाते आदमी,सीमित मगर ज़मीन.

जय मां हाटेशवरी....


आज विश्व जनसंख्या दिवस है....

जनसंख्या बढ़ती गई,यूँ ही बेतरतीब.
तो मानव को अन्न-जल,होगा नहीं नसीब.
जनसंख्या की वृद्धि के,निकले ये परिणाम.
जीवन के हर मोड़ पर, कलह और कुहराम.
पैदा होते प्रति मिनट,नित बच्चे तैतीस.
विषम परिस्थति हो गई,क्या होगा हे ईश.
फुटपाथों पर सो रहे,लाखों भूखे पेट.
क़िस्मत करने पर तुली,इनका मटिया-मेट.
जनसंख्या ने कर दिया,पैदा अहम् सवाल.
कैसे भावी पीढियां,झेलें भूख-अकाल.
बढ़ते जाते आदमी,सीमित मगर ज़मीन.
अन्न बढ़ायें किस तरह,बेचारे ग्रामीण ?
--------------------------------
-कुंवर कुसुमेश
स्वागत है आप का....
पढ़िये आज के लिये मेरी पसंद....


विश्‍व जनसंख्‍या दिवस के बारे में महत्‍वपूर्ण जानकारी - 
Important information about World Population Day

यह दिवस सबसे पहली बार 11 जुलाई 1987 को मनाया गया था क्‍योंकि इसी दिन विश्‍व की जनसंख्‍या 5 अरब को पार कर गई थी इसे देखते हुऐ संयुक्त राष्ट्र ने जनसंख्या वृद्धि को लेकर दुनिया भर में जागरूकता फैलाने के लिए यह दिवस मनाने का निर्णय लिया क्‍योंकि आज दुनिया के हर विकासशील और विकसित दोनों तरह के देश जनसंख्या विस्फोट से चिंतित हैं भारत में बढती जनसंख्‍या की बजह से देश को लगातार बेरोजगारी, गरीबी, भुखमरी बढ़ेगी आने वाली पीढ़ियों के लिए सुरक्षित और स्वस्थ रह पाना मुश्किल होगा ऐसा अनुमान है कि भारत में एक मिनट में लगभग 25 बच्‍चे जन्‍म लेते हैं जनसंख्‍या के हिसाब से चीन विश्‍व में प्रथम स्‍थान पर और भारत दूसरे स्‍थान पर है इसी को देखते हुए भारत सरकार परिवार नियोजन के कई कार्यक्रम चला रही है

जनसंख्या विस्फोटः
आज विश्व की जनसंख्या लगभग 7 अरब से भी ज़्यादा है। भारत की जनसंख्या लगभग 1 अरब, 21 करोड़, 1 लाख, 93 हज़ार, 422 है। भारत की पिछले दशक की जनसंख्या वृद्धि दर 17.64 प्रतिशत है। विश्व की कुल आबादी का आधा या कहें इससे भी अधिक हिस्सा एशियाई देशों में है। चीन, भारत और अन्य एशियाई देशों में शिक्षा और जागरुकता की कमी की वजह से जनसंख्या विस्फोट के गंभीर खतरे साफ दिखाई देने लगे हैं। स्थिति यह है कि अगर भारत ने अपनी जनसंख्या वृद्धि दर पर रोक नहीं लगाई तो वह 2030 तक दुनिया की सबसे बड़ी आबादी वाला देश बन जाएगा।


एक ग़ैर रवायती ग़ज़ल : कहने को कह रहा है------
  सत्ता का ये नशा है कि सर चढ़ के बोलता
  जिसको भी देखिये वो सर-ए-पुर-ग़रूर है
  ये रहनुमा है क़ौम के क़ीमत वसूलते
  ’आनन’ फ़रेब-ए-रहनुमा पे क्यों सबूर है ?

जब ये तब वो
इस पर खुद को रजिस्टर कीजिये और अनगिनत लाभ लीजिये इसके Applets का उपयोग करके। ... कैसे उपयोग करना है ये साईट खुद ही समझा देगी | इस पर आप सर्च में जाकर ब्लॉगिंग को चुनिए क्योंकि अभी ब्लॉगिंग के लिए सुविधा चाहिए। .. हाँ पोस्ट के Url  के साथ #हिंदी_ब्लॉगिंग टैग भी देना न भूलियेगा ,और जो भी टैग आप देना चाहें। .. यहां से आपकी ब्लॉगपोस्ट फेसबुक, ट्वीटर या इस जैसे ढेरों सोशल साईट्स पर आपकी सुविधानुसार ब्लॉग पर पब्लिश होते ही शेयर हो जायेगी आपको अलग से लिंक देने की जरूरत नहीं पड़ेगी। ...

वरना सॉरी बोल, तुम्हीं पर डालूँ माला
लेकर प्रभु का नाम, वक्ष चीरूंगा तेरा |
पहनूँगा मैं स्वयं, ठीक यदि दिल कर डाला |
वरना सॉरी बोल, तुम्हीं पर डालूँ माला ||

खो गए बुलबुल के तराने
यह विडंबना ही है कि विकास के पथ पर अग्रसर मानव समाज में अब पक्षियों के अस्तित्व पर चर्चा नहीं होती.कुछ पशु भले ही सामाजिक,राजनैतिक दृष्टि से महत्वपूर्ण हो गए हों लेकिन विकास का बाजारवाद पक्षियों के विलुप्त होते जाने पर चर्चा नहीं करता.हकीकत यही है कि भले ही हम उत्तरोतर आधुनिक होते जा रहे हैं,नयी तकनीक से गृहनिर्माण कर रहे हैं,कीटनाशकों का अंधाधुंध इस्तेमाल कर रहे हैं,हर दूसरे घरों की छतों पर मोबाईल के टावरों को बनने देते रहे हैं  लेकिन सामजिक जीवन में पक्षियों के अस्तित्व को भी नहीं नहीं नकारते.
किसी शायर ने वाजिब ही कहा है कि.........
आलम को लुभाती है पियानो की सदाएं
बुबुल के तरानों में अब लय नहीं आती

*रोला छन्द* - *गुरु पूर्णिमा की शुभकामनायें*
दूर   करे   अज्ञान , वही   गुरुवर   कहलाये
हरि  से  पहले  नाम, हमेशा  गुरु  का  आये ।।


धन्यवाद।

13 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात भाई कुलदीप जी
    आज विश्व जनसंख्या दिवस है
    2030 की हालात को सोच कर
    भयातुर हो गई हूँ
    बाकी रचनाएँ बेहतरीन है
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभ प्रभात ,आदरणीय
    कुलदीप जी
    मनुष्य 'सतत संपोषणीय विकास' की बात करता है किन्तु
    बढ़ती जनसंख्या को देखकर ,ये विचार छले से प्रतीत होते हैं
    प्रत्येक हाथ रोटी , प्रत्येक हाथ काम इस प्रगति से संभव नहीं
    भविष्य में होने वाला संघर्ष संसाधनों को लेकर तय है
    ज्ञानवर्धक लेखों का चयन ,सुन्दर लिंक
    आभार ,"एकलव्य"

    उत्तर देंहटाएं
  3. विश्व जनसंख्या दिवस
    चिन्तनीय...
    बढ़ने से रोकने में सरकार की मदद नहीं
    अपने आप में दृढ़ विश्वास चाहिए
    हाँ एक बात अवश्य सरकार कर रही है
    जनसंख्या में कमी लाने का...?
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  4. जी, आदरणीय,
    सचमुच आज का एक विचारणीय विषय है। जनसंख्या के बढ़ते जंगल में आगे की स्थिति दयनीय ही होगी निश्चित है।
    ज्ञानवर्द्धक पठनीय लिंको का चयन।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  6. देखा जाए तो देश की सबसे बड़ी समस्या हमारी आबादी ही है !

    उत्तर देंहटाएं
  7. ज्ञानवर्द्धक विचारणीय लिंको का चयन
    बहुत बढिया..
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर लिंक्स.मुझे भी शामिल करने के लिए आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  9. विश्व जनसँख्या दिवस पर आज भाई कुलदीप जी ने महत्वपूर्ण लिंक प्रस्तुत किये हैं। बढ़ती जनसँख्या आज विस्फोटक स्थिति के साथ हमारे समक्ष एक चुनौती बनकर खड़ी हो गयी है। आज जब प्रति सेकण्ड 4 बच्चे पैदा हो रहे हैं वहीं प्रति सेकण्ड 1.8 अर्थात लगभग 2 व्यक्तियों की मृत्यु होती है। साफ़ तौर पर जन्म दर अधिक है। कुछ आंकड़े -

    सन विश्व जनसँख्या

    1000 40 करोड़
    1804 1 अरब
    1960 3 अरब
    2000 6 अरब
    जुलाई 2017 7.5 अरब

    आभार सादर।

    उत्तर देंहटाएं
  10. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  11. जनसंख्या का विषय सोचनीय है....
    बहुत ही उम्दा लिंक संयोजन...

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...