पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

शुक्रवार, 23 जून 2017

707....दिशा है अगर तो, है दिशाहीन

कहीं पर भी होती अगर एक मंज़िल,
तो गर्दिश में कोई सितारा न होता !
ये सारे का सारा जहां अपना होता,
अगर यह हमारा तुम्हारा न होता..!

चलिए चलें आज की पसंदीदा रचनाओं की ओर..

default
एक कारोबारी ने कार का नाम अपनी बेटी के नाम पर रख दिया और यहीं से मर्सिडीज नाम की शुरूआत हुई. कंपनी का नाम तो डाइम्लर मोटोरेन गेजेलशाफ्ट है.

चूम धरा का प्यासा आँचल
माटी के कण कण महकाये है
उदास सरित के प्रांगण में
बूँदों की गूँजें किलकारी
मौसम ने ली अंगड़ाई अब तो
मनमोहक बरखा ऋतु आयी है।

मायका मतलब
माँ बाबा का लाड़ ,
मायका मतलब
भाई का प्यार ,
मायका मतलब
भाभी की मनुहार ,


दर्द कोई बोलता हुआ....लोकेश नदीश
है मेरा अपना हौसला परवाज़ भी मेरी
मैं एक परिन्दा हूँ मगर पर कटा हुआ

मजबूरियों ने मेरी न छोड़ा मुझे कहीं
मत पूछना ये तुझसे मैं कैसे जुदा हुआ


नकारत्मकता से सकारात्मकता की ओर.......ऋतु आसूजा
बुराई को अच्छाई में बदलने की मेरी सोच बन आयी
नकारात्मक से सकारात्मक दृष्टि मैंने पायी
नकरात्मक सोच से करके विदाई
अब सकारत्मकता के बीज मैं बोता हूँ


समय तू पंख लगा के उड़ जा.......सुधा देवरानी
तब ना थी कोई टेंशन-वेंशन ना था कोई लफड़ा
ना आगे की फिकर थी हमको ना पीछे का मसला।
घर पर सब थे मौज मनाते खाते-पीते तगड़ा...
खेल-खेल में हँसते गाते या फिर करते झगड़ा ।


देश में पल पल 
जो हो रहा होता है
वही सब मेरे घर में
घट रहा होता है
कोई गांधी और 
कोई गोडसे
की दुहाई दे 
रहा होता है
कोई पटेल 
के नाम का
लोहा ले 
रहा होता है

आज्ञा दें यशोदा को


14 टिप्‍पणियां:

  1. शुभप्रभात ,आदरणीय दीदी
    सुन्दर लिंको का चयन ,लेख जानकारी से भरी
    उम्दा ! लिंक संयोजन
    आभार।
    "एकलव्य"

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह ! बहुत ही खूबसूरत लिंक संयोजन । बहुत सुंदर ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. आज का संकलन प्रेरक और अतिसुंदर है। साधुवाद

    उत्तर देंहटाएं
  4. सस्नेहाशीष छोटी बहना
    उम्दा प्रस्तुतीकरण

    उत्तर देंहटाएं
  5. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  6. शुभ प्रभात ।खूबसूरत रचनाओं का समागम। मौसम से लेकर रिश्तों की महक। सादर आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह!उम्दा लिकों का चयन।
    धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुंदर लिंक संयोजन ,मेरी रचना को मान देने के लिए बहुत आभार यशोदा दी।

    उत्तर देंहटाएं
  9. शुभ दोपहर....
    क्या बात है.....
    आनंद आ गया.....

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर लिंक संयोजन.....
    मेरी रचना को स्थान देने के लिए आपका हार्दिक आभार एवं धन्यवाद, यशोदा जी !

    उत्तर देंहटाएं
  11. टिप्पणियाँ जैसे बढ़ते हुऐ बच्चे आनन्द देते हैं पाठकों लेखकों का बढ़ता उत्साह ब्लॉग की दुनियाँ के अच्छे दिन आने का संकेत देते हैं। आज की सुन्दर प्रस्तुति में 'उलूक' की बकबक को भी जगह देने के लिये आभार यशोदा जी।

    उत्तर देंहटाएं
  12. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  13. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुन्दर लिंक संयोजन किया है आपने आज के लिए।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...