पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

बुधवार, 14 जून 2017

698... उम्मीद तो हरी है...



 शुभ भोर बंदन...

चलो चंद लम्हों के सिरहाने लेकर, 
कई लफ्ज़ों के अनमोल लहज़ों से
कुछ अपनी कुछ तुम्हारी इन पांच लिंकों के
जरिए चंद फ़साने लिखते हैं......

अथ आज दोहा एकादश से,

धर्म केरि मर्याद बिनु बुरे रीति बरताए || || 
भावार्थ :--वह अर्थ अनर्थ कारी है जो अनीति पूर्वक अर्जित 




 चौथाखंभा से रचित समयपरक रचना,
(अरुण साथी, बरबीघा, बिहार)

हरिया। यही मेरा नाम है। किसान हूँ, अक्सर किसानों का यही नाम होता है ।

जब से सरकार ने गोली मारने के बाद एक करोड़ मुआवजा देने का ऐलान किया है
 तभी से सोच रहा हूं क्यों ना मैं भी मर ही जाऊं।


अहसासों से परिपूर्ण रचना मेरी स्याही के रंग से...
                                                                                      

कानों में उड़ेल जाती हैं 
ढेर सारा गर्म लावा 
वो स्लो पॉयजन 
फैलता जाता है



अत्यंत विचारणीय विषय उम्मीद तो हरी है....से,
सच तो यह है कि

हमने
घर के भीतर से





हकीकत बयान करती सारगर्भित रचना स्वप्न मेरें...से
मेहनत की मुंडेर पे पड़ा होता है
जरूरी है नसीब का होना
सौ मीटर की इस रेस को जीतने के लिए  
या फिर ...

इस नवीसी पर नवद्भावनाओं की
आकांक्षी।
।।इति शुभम्।।
धन्यवाद।

21 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात..
    सुन्दर रचनाएँ
    साधुवाद
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही सुंदर प्रस्तुति।।। धन्यवाद पम्मी जी।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बढ़ियाँ प्रस्तुतीकरण

    उत्तर देंहटाएं
  4. शुभ प्रभात !


    आज विचारणीय ,मर्मस्पर्शी रचनाओं का अंक

    लायी हैं पम्मी जी।

    सादर आभार ।
    दोहा एकादश बार - बार पठनीय....

    उत्तर देंहटाएं
  5. एक गोली मुझे भी मार दो.....

    ज्वलंत मुद्दे को प्रस्तुत करती

    बरबस हमारा ध्यान आकृष्ट करती है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. भावभीनी सी हलचल
    आभार मुझे आज के संकलन में जगह देने के लिए ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर संकलन सराहनीय लिंकों का चयन पम्मी जी👌👌👌

    उत्तर देंहटाएं
  8. शुभप्रभात आदरणीय, पम्मी जी
    आज की प्रस्तुति कई रंग लेकर आई है
    संवेदनाओं से ओत-प्रोत
    एक तरफ समस्यायें
    दूसरी तरफ उनके समाधान की आस
    ,उम्दा प्रस्तुति !
    सुन्दर लिंक समायोजन ,आभार।
    ''एकलव्य''

    उत्तर देंहटाएं
  9. बढ़ियाँ प्रस्तुतीकरण!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. चर्चानवीस पम्मी जी की "पांच लिंकों का आनंद" में सम्मलित सूत्र आनंद देने वाले हैं। "पांच लिंकों का आनंद" का चर्चा मंच ब्लॉग जगत को नई दिशा दे रही है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. बेहतरीन सूत्र संयोजन । एक से बढ़कर एक रचना । बहुत बहुत धन्यवाद आदरणीया ।

    उत्तर देंहटाएं
  12. बेहतरीन सूत्र संयोजन । एक से बढ़कर एक रचना । बहुत बहुत धन्यवाद आदरणीया ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. बेहतरीन लिंक संयोजन.....

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  15.  आप सभी के स्नेह, अवसर और टिप्पणी के लिए धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  16. हर बार की तरह अच्छे वाचन की संतुष्टि प्रदान करती हुई
    बेहतरीन कडियों का संकलन। प्रस्तुतकर्ता पम्मी जी धन्यवाद आपका ...

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत सुन्दर प्रस्तुति है.

    उत्तर देंहटाएं
  18. बेहद सुंदर संकलन राचनाओ का । मेरी रचना को स्थान देने पर तहेदिल से धन्यवाद ।



    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...