पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

मंगलवार, 13 जून 2017

697....भारतीय सिस्टम फरार है!


जय मां हाटेशवरी....
कुछ लोग कहते है की बदल गया हूँ मैं,
उनको ये नहीं पता की संभल गया हूँ मैं,
उदासी आज भी मेरे चेहरे से झलकती है,
अब दर्द में भी मुस्कुराना सीख गया हूँ मैं।।

सादर अभिवादन....
2 जी, 3 जी 4 जी और अब 5 जी....
अब तो लगता है....
अन्न से नहीं....
डाटा से ही पेट भरना पड़ेगा....
सरकार को तो अब उनकी ही चिंता है....
हम भी तो डाटा वालों की ही जेबे भर रहे हैं न.....
 आलु,  गेहूं, चावल  2 रुपये....1 जीबी डेटा...147 रुपये मे...

"वे तुम्हारी आत्महत्या पर अफ़सोस नहीं करेंगे
आत्महत्या उनके लिए दार्शनिक चिंता का विषय है
वे इसकी व्याख्या में सवाल को वहीँ टांग देंगे
जिस पेड़ पर तुमने अपना फंदा डाला था-----अनुज लुगुन"
अब पेश है....कुछ चुनी हुई रचनाएं....

भारतीय सिस्टम फरार है!
image
समग्र मुल्क फरार है
जिस्म है जाँ फरार है
अवाम बैठी मुँह खोले
और हाकिम फरार है
क़ैदी है जेल में लेकिन
वहाँ सिपाही फरार है
देखो दुनिया दीवानी
जिए वही जो फरार है
सोचे है रवि बहुत पर
उसका कर्म फरार है

इस तरह खुद को बचा के रख लुँगा [कविता]- मनोरंजन कुमार तिवारी
IMAGE1
लिखूँगा जीवन को,
महफिलों की रौनक लिखूँगा,
दोस्तों के ठहाकों को, उनकी महक लिखूँगा,
आत्मग्लानि, अफ़सोस, और संताप नहीं लिखूँगा,
जीत का जश्न और संभावनाओं का आकाश लिखूँगा,
मैं तन्हाइयों की उबासी नहीं लिखूँगा,
सफर की उदासी भी ना लिखूँगा,

वे आ रहे है ... - ध्रुव सिंह एकलव्य
आसमां के पार से
स्वयं फंसे,मझधार से
इस धरा पर,धर्म रक्षक
हमको बुलाने !
वे आ रहें हैं.........

लघु कथा - Offline
पूछ लिया कि आपकी उम्र कितनी है?
मैंने प्रॉपर डेट ऑफ़ बर्थ के साथ
उसे जवाब भेज दिया।
तब से वो ऑफलाइन है।



स्मृतियों का ताजमहल---श्वेता सिन्हा
और मन के कोरे पन्नों
पर लिखी इबारत को
सजा दिया है भावहीन
खामोश संगमरमर के
स्पंदनविहीन महलों में,
जिसके खाली दीवारों पर
चीखती है उदासियाँ,
चाँदनी रातों में चाँद की
परछाईयों में बिसूरते है
सिसकते हुए जज्बात,
आदरणीय अनवर जलालपुरी  जी ने....
पावन गीता को समझा....
और उस अमर ज्ञान को....
उर्दू शायरी में सजाकर....
उन्हे उपहार स्वरूप दिया है....
जिनके कारण सारा विश्व....
आतंकवाद से पिड़ित है....
जो अमन को भुलाकर....
विश्व में केवल नफरत फैला रहे हैं....

 नहीं होती नापाक यह आत्मा....अनवर जलालपुरी
जो समझा करे मुझको पुरूषोत्तम
रखे जो न अज्ञानता में क़दम

उसी की इबादत तो है कामयाब
रहे रूह पर उसकी हरदम शबाब

यही इल्म है जिसमें कुल राज़ है
हे अर्जुन! यही मेरा अंदाज़ है

यही जान ले जो वह आरिफ़ बने
समझ ले वह कश्फ़ और काशिफ़ बने

धन्यवाद।







11 टिप्‍पणियां:

  1. सुंदर विविधतापूर्ण लिंकों का चयन,मेरी रचना को मान देने के लिए आभार कुलदीप जी।

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभ प्रभात !

    आज एक से बढ़कर एक
    विचारणीय रचनाओं का अंक
    लेकर आये हैं भाई कुलदीप जी।
    बधाई।
    देशभर में चर्चा का बिषय ...
    ज्वलंत मुद्दा ..... किसानों का मुद्दा ..
    रोशनी डालने के लिए आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  3. शुभ प्रभात
    अच्छी प्रस्तुति..
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  4. शुभप्रभात, आदरणीय कुलदीप जी
    आज की प्रस्तुति देश के ज्वलंत मुद्दों के सन्दर्भ में विशेष है
    इसके लिए आपको हृदय से आभार।
    "एकलव्य''

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर। शीर्षक लाजवाब दिया है कुलदीप जी।

    उत्तर देंहटाएं
  6. सामायिक विषयों पर प्रस्तुति बहुत बढियाँँ लिंक..
    शीर्षक उम्दा..

    उत्तर देंहटाएं
  7. लिंक कुछ इस तरह की होती है जो की न कुछ कम न कुछ ज्यादा बिलकुल उपयुक्त |
    जखीरा को स्थान देने हेतु धन्यवाद |

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही सुन्दर लिंक संयोजन....

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...