पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

बुधवार, 1 मार्च 2017

593...कलाबाजी कलाकारी लफ्फाजों की लफ्फाजी जय जय बेवकूफों की उछलकूद और मारामारी

सादर अभिवादन

लो.. बीत गया फरवरी 

और... आ गई गरमवरी

कालचक्र का काम है घूमना
घूमते रहता है निरन्तर
थकते नहीं देखा उसे..

आज की पसंदीदा रचनाएँ देखें....


कोई गिला नही....पुष्पेन्द्र गंगवार
रोते तो हैं आज भी हम दर्द से मगर
माँ के सलीके सी नज़र उतरता नहीं ।
गलतियां होती हैं मगर क्या है कायदा
मेरे पिता सा कोई मुझे डाँटता नहीं ।

मुस्कुराहटों के मौसम के संग भी 
आ सकती हैं निराश बारिशें 
तमाम सभ्यताओं के बारे में जान लेने के बाद भी 
बची रह सकती है असभ्यता


लघु-क्षण.....पुरुषोत्तम सिन्हा
क्षण, जिसमें था सतत् प्रणय का कंपन,
निरन्तर मृदु भावों संग मन का अवलम्बन,
अनवरत साँसों संग छूटते साँसों का बंधन,
नैनों के अविरल अश्रृधार का आलिंगन,
हो सके तो! लौटा देना तुम मुझको मेरा वो लघु-क्षण....


पलाश के दोहे.........डॉ. अपर्णा त्रिपाठी
सत्कर्मो की अग्नि मे, जब तपती मानुष देह | 
काम क्रोध होते भस्म, मिलती प्रभु की नेह || 

सच्चा धन बस प्रेम है, बाकी सब जग मे झूठ | 
खर्च होय से बढत जाय, ना खर्च से जाय छूट || 



खुल जा सिम-सिम........डॉ. सरोज गुप्ता
बाखुशी दी चाबी आप को ! 
दिखाओ न आँखें बाप को !! 
बुझी राख में भी है आग ! 
धुआं न समझो भाप को !!


मतभेद या राष्‍ट्रभेद ?....अलकनन्दा सिंह
''भारत तेरे टुकड़े होंगे, हम क्‍या चाहें- आज़ादी'' जैसे नारों ने पिछले साल तो बवाल मचाया ही, अब इस साल भी दिल्‍ली यूनीवर्सिटी के रामजस कॉलेज से जो कुछ शुरू हुआ है, उसे सिर्फ और सिर्फ देश में अस्‍थिरता लाने व सेना के खिलाफ एक ''खास सोच वाले'' तबके की शरारती सोच ही कहा जाएगा जो किसी ना किसी तरह खबरों में रहना चाहता है।


बात पते की... डॉ. सुशील जोशी


मिलाता चल 
आदमी की 
कलाबाजियों 
को देखकर 
‘उलूक’ 
आठ जगह 
एक साथ 
घुस लेने की 
कारीगरी 
छोड़ कर 
हर जगह 
एक हाथ 
या एक पैर 
छोड़ कर 
आना सीख 

और अन्त में
ब्लॉग क्यों लिखा गया
कब से लिखा जा रहा है
मैं समझती हूँ ये
नवोदित साहित्यकारों को
मांजता है.... और मंज चुके
साहित्यकार अब ओझल हो चुके हैं
क्योंकि उनकी रचनाएँ 

अब पत्र-पत्रिकाओं में छपने लगी है
लिखना तो बहुत चाहती हूँ पर ..फिर कभी
आज तो गुरमेहर को पढ़िए
और गुरमेहर को सुनिए


आज्ञा दीजिए यशोदा को
सादर









9 टिप्‍पणियां:

  1. सुप्रभात
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभ प्रभात सुंदर संकलन आभार आपका

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर प्रस्तुति । आभार यशोदा जी 'उलूक' के सूत्र 'कलाबाजी कलाकारी लफ्फाजों की लफ्फाजी जय जय बेवकूफों की उछलकूद और मारामारी' को जगह देने के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  5. मैं अपनी रचना को सम्मानित होते देख कर अभिभूत हूँ।
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...