पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

शनिवार, 30 अप्रैल 2016

288 सपने में कई रंग भरे हैं



सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष

दिन गुज़रते हैं फिर भी
वक़्त थमा  हुआ सा है.

ये एक अजीब मौसम है
शादियों का त्यौहार

 इसमें दिन और रात का हिसाब
आपस में गड्डमड्ड सा हो गया है



कर्कशा महिलाएं


मचाता उथल- पुथल इस कदर कि वह अब चींख कर कहना चाहती थी
,"गाय गुड खाती हैं,गाय गुड खाती हैं।
मगर जाने उसके होंठो को क्या हो गया
दबी भावनाओं के साथ फैलते चले जाते और निकाल देते
 ऐसे शब्द जो नही कहने होते और
न ही सुनने होते किसी को
" गाय गु..खाती है ,गाय गु.. खाती हैं



आप कहते हो तो चले जाते है


वो ख़्वाब-ए-खलिश या कशिश थी कोई ,
वो इस तरह ख़्यालों को बे-ख़्याल बनाते हैं।
कैसे कहूं अब यह बात मैं ।
वो नही बे-यक़ीन मगर ,
बे-यक़ीन का यक़ीन क्यों दिलाते है



खुल कर जिओ



जब भी कोई ऐसे व्यक्ति का विचार  , जो मेरे मन को दुखी करता है
तो मैं स्वतः ही उससे बाहर निकलने का प्रयास करती हूँ
और उसमें कामयाब भी हो जाती हूँ
सच मानिये मेरे पास ऐसा कोई भी नहीं है ,
जिसके साथ मैं अपनी परेशानियों को बाँट सकूँ ।
 मगर मैंने जीवन से सीखा है .............




अंत भला तो सब भला



इस बात को समय अपने साथ चलाते चलाते स्वीकारना सिखला देता है।
इस सफर में क्या खोया पाया क्या दिया लिया समस्त हानि लाभ को
इकठ्ठा कर इन सबका हिसाब किताब भले ही करके
हम अपने मन को व्यथित करें पर इससे हमारा कुछ भला नही होता
उलटे अपनी ही ऊर्जा का क्षरण करते रहते हैं हम घुट घुट कर



बात इतनी सोचना तुम



हाथ में उनके फ़कत तारीकियाँ ही रह गयीं
तुमसे पहले जो गये थे रोशनी को छोड़कर

ख़ाक पे आये तो आके ख़ाक में ही मिल गये
वो सफ़ीने जो कि आये थे नदी को छोड़कर

साथ देना चाहते हो साथ रहकर तो सुनो!
सब गवारा है मुझे धोखाधड़ी को छोड़कर




उसकी आँखों में



मन की धरती
सुनती है तुम्हारे शब्द
जो उपजते हैं समर्पण से
पूरी निष्ठा के साथ
जैसे पहरूए तैनात हैं
अपने प्राण देकर
सरहद के पक्ष में



सपने में कई रंग भरे


उस पहाड़ी पर चढ रही हूँ जहाँ से
बादलो में
छुपा सूरज अंधेरे
को खाकर ,
डकार मार
आसमान मे मुस्कराकर
ठहर जाता हैं
सपने में कई रंग भरे हैं




फिर मिलेंगे .... तब तक के लिए

आखरी सलाम




विभा रानी श्रीवास्तव


7 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढ़िया प्रस्तुति सुन्दर सूत्रों के साथ ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छा प्रयास है आदरणीया विभा जी....लिंक शामिल करने के लिए साधुवाद

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ,लिंक शामिल करने के लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं
  4. बढ़िया हलचल प्रस्तुति
    आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  5. संस्थापक महोदय जी, आपका प्रयास सराहनीय और बेहतरीन है। हमे आपका यह कदम बहुत अच्छा लगा। इसलिए आपके ब्लाॅग को हमने Best Group Blogs में लिस्टेड किया है।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...