निवेदन।

*हम अपने पाठकों का हर्षित हृदय से सूचित कर रहे हैं कि शनिवार दिनांक 14 जुलाई, रथयात्रा के दिन हमारे ब्लॉग का तीसरा वर्ष पूर्ण हो रहा है, साथ ही यह ब्लौग अपने 11 शतक भी पूरे कर रहा है, इस अवसर पर आपसे
आपकी पसंद की एक रचना की गुज़ारिश है, रचना किसी भी विषय पर हो सकती है, जिससे हमारा तीसरी वर्ष यादगार वर्ष बन जाएगा* रचना दिनांक 13 जुलाई 2018 सुबह 10 बजे तक हमे इस ब्लौग के संपर्क प्रारूप द्वारा भेजे।
सादर


समर्थक

गुरुवार, 14 अप्रैल 2016

272....जो कभी...... न मिलूं तो गम न करना

चौदह अप्रैल

बाबा साहेब भीमराव आम्बेडकर जी की जयन्ती
शत्-शत् नमन उनको


हाँ प्रेम है तो 
परिवर्तन है, 
अन्यथा नक्कारखाने में 
तूती की आवाज़ और 
.........निष्कर्ष,
स्वभाव नहीं बदलता.......
-रश्मि दीदी 

चलते हैं आज की रचनाओं की ओर....

"चलते चल, पथिक.. 
डगर का अस्तित्व.. 
तुझसे ही होगा"

ये चाहतें न  .... 
सच बड़ी ही अजीब होती हैं 
बेमुरव्वत सी कभी भी कहीं भी 
सरगोशियों में दामन थाम 
कदमों को उलझा देती है 

मैं जब कढ़ाई या बुनाई करती हूँ ...... 
तो जब गाँठ डालना होता है ..... 
गाँठ डालना होगा न 

भर्तृहरि एक किंवदंती है 
एक इतिहास-सिद्ध कवि के अलावा
जो कहीं हमारे भीतर हमारे ही मन के 
वृत्तांत अंकित करती है किसी कूट भाषा में 

ये है आज की शीर्षक रचना...
तुम्हे........ मैं
जो कभी...... न मिलूं 
तो गम न करना 
माना, तुमको अज़ीयत होगी 


आज बस....
फिर तो मिलना ही है...
सादर....
यशोदा















4 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात छोटी बहना
    सब कुशल मंगल न
    मेरे शब्दों को मान स्थान देने के लिए आभारी हूँ

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...