समर्थक

बुधवार, 20 अप्रैल 2016

278...जाने क्यूँ सब कुछ भूल जाता है

सादर अभिवादन...
गरमी रायपुर में ही है
ऐसा कहा जा रहा है
रायपुर वासियों के द्वारा...
भारत ही एकमात्र देश है
जहां छः ऋतुएँ होती है...
जो परिपक्व कर देती है
मनुष्य के मस्तिष्क को....

चलें...आगे बढ़ें..गरमियां तो आते-जाते रहती है....

जीवन भर
देखे उसने
सिर्फ एक जोड़ी पैर
और सुनी
एक रौबदार आवाज-
"चलो"


हम भोजन के बिना तो दो तीन दिन रह सकतें हैें लेकिन पानी की प्यास अगर अभी लगी तो अभी चाहिए । हद से हद एकाध घन्टे का विलम्ब सहा जा सकता है , उससे ज्‍यादा नहीं क्योंकि पानी की प्‍यास होती ही ऐसी है । जल ही जीवन है यूँ ही नहीं कहा जाता है । 


टूटे हुए तारे।
चलो, फिर इक बार बुने वही ख़्वाबों 
की दुनिया, कुछ रंगीन धागे 
हो तुम्हारे, कुछ रेशमी 
अहसास रहें 
हमारे।



तुम्हारे 
आंसुओं की वजह 
में ,,मेरा वुजूद ,,
मेरी ज़िंदगी थी अगर ,,,
यह राज़ तुमने मुझे 
पहले अगर बता दिया होता 
सच ,,खुद को खत्म कर लेते 


ये है प्रथम व शीर्षक कड़ी

जिंदगी  
मैं सोचती हूँ  
जब भी तुम्हें  
तो फिर  
जाने क्यूँ सब कुछ  
भूल जाता है 
...........
आज्ञा दें...
दिग्विजय







6 टिप्‍पणियां:

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...