पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

सोमवार, 29 मई 2017

682....ओ ! 'राही' तूं ,सुन ले !

ओ ! 'राही'
तूं सुन ले ! रे 
'एहसास' हृदय के 
चुन ले ! रे 
'नज़दीक' ही हैं 
वे स्वप्न तुम्हारे 
व्यर्थ 'माज़रा' 
'आत्मभ्रमण'  का 
देख ! तनिक 
अंतर्मन में, 

सादर अभिवादन 
आपसभी आदरणीय, पाठकों का 
 शब्दों की दुनियां भी अजीब है
हमारे कोमल हृदय को अपने शब्दों की जालिका में उलझाती ! 
सुख-दुःख रुपी पोत पर ब्रह्माण्ड की सैर कराती !
ख़ैर हम आज की रचनाओं की ओर 
अपने आवारा  मन को ले चलतें हैं  

 "नज़दीकियाँ" ........ 
आदरणीय 'रवींद्र सिंह यादव जी' जिनकी लेखनी कौशल का मैं मुरीद हूँ 


ये     घड़ी     रुकी     रहे
रात    जाए   अब   ठहर,
दीवानगी  का ये  ख़याल
बेताबियों  को  भा  गया।
देखने   चकोर  चाँद  को
  नदी  के  तीर   आ  गया।

"खामोशियाँ"..... 
आदरणीय,राकेश जी "राही" जो लेखक होने से बेहतर एक 'अच्छा पाठक' होने में विश्ववास रखते हैं ,
जो इनकी साहित्य के प्रति समर्पण की भावना को दर्शाती है। हम इनका सम्मान करते हैं
  

बड़ी उम्मीद ले कर तेरे दर पर आया हूँ,
नाउम्मीद का ख्याल भी, बेचैन करती है।   


"एहसास"....... 
आदरणीय, "ऋतु आसूजा" जी जिनकी रचना बताती है जीवन के सच्चे 'एहसास'


    एहसास की रूह से आह निकली
बस करो एहसासों से खेलने का
     शौंक ना पालों ।

   "आत्म भ्रमण"...... 
आदरणीय, "शुभा जी" भ्रमर रूपी मन की व्याख्या करतीं हैं 


 कब से खोज रही थी 
जिस निर्मल प्रेम को
देखा तो दुबका बैठा था 
इक कोने में 
जगाया , झकझोर के उठाया 

   "ये क्या है माज़रा"..... 
आदरणीय, "मीना गुलयानी" द्वारा रचित ये रचना जीवन से हजारों प्रश्न करती है



   जिंदगी तो मेरी इक लम्बी सुरंग है
जहाँ पे खड़ा हूँ मै वहीँ कोई सिरा



"पाँच लिंकों का आनंद'' परिवार के नवीन सदस्य के रूप में यह मेरी पहली प्रस्तुति है,
समस्त आदरणीय पाठक एवं लेखकगणों के सहयोग का आकांक्षी 
आज्ञा दीजिए 
धन्यवाद।  

"एकलव्य" 




  


10 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर लिंक संयोजन एकलव्य जी की भावाभियक्ति के साथ। इस अंक में चयनित सभी रचनाकारों को बधाई। मेरी रचना आज के अंक में शामिल करने के लिए आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह्ह्ह...सुंदर बहुत रचनाएँ बहुत सुंदर लिंकों का चयन
    ध्रुव जी।हार्दिक शुभकामनाएँ स्वीकार करें।

    उत्तर देंहटाएं
  3. शुभ प्रभात भाई
    अच्छा चयन
    साधुवाद
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय , यशोदा दीदी एवं "पाँच लिंकों का आनंद" परिवार के सभी सदस्यों का हृदय से आभार प्रकट करता हूँ, जिनके अमूल्य सहयोग से आज की प्रस्तुति करने में ,मैं सक्षम हो सका। सभी पाठकों एवं रचनाकारों को मेरी ओर से बहुत-बहुत शुभकामनायें, आभार। "एकलव्य"

      हटाएं
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ध्रुव जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. नए कलेवर के साथ "पाँच लिंकों का आनंद" की 682 वां अंक बहुत ही अच्छा लगा। चर्चाकार के रूप में ध्रुव भाई को इस सुन्दर प्रस्तुति के लिए बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  6. शुभप्रभात....
    सुंदर....
    पहली प्रस्तुति पर आप को शुभकामनाएं....
    आभार आप का।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सूंदर प्रस्तुति आज का पांच लिंको का आनन्द
    सभी रचनायें और रचनाकार स्वयं में श्रेष्ट हैं

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...