पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

रविवार, 28 मई 2017

681...''कारवां तो हम बनाते हैं''

                                                       

 ''कारवां तो हम बनाते हैं''
आओ ! साथी, हम
मिल करके
दूर देश को
साथ चलें
कोमल सा
एक हृदयस्पर्शी
एक दूजे की
आवाज़ बनें।
सादर अभिवादन आप सभी गणमान्य पाठकों का
आज की पसंदीदा रचनाओं की ओर
कदम बढ़ाते हैं


 'भावों की गरिमा'.... 'सुधा सिंह जी' 


                                              


भावों की क्या बात करें
भावों की अपनी हस्ती है
भावो के  रंग भी अगणित हैं
इससे ही दुनिया सजती है
                              


                                                                       
                                              
बुजुर्गों के लिये थोड़ी मुहब्बत द़िल मे रख लेना
मुसलसल उम्र ढ़लती है शज़र गिर जायेगा एक दिन।    
                                                                           
                       
'अंतर्मन' ...... आदरणीय 'विभा ठाकुर जी' की रचना मन को छूती हुई 


                                                        

कही कोई देख न ले कि
बेटी के जन्म पर माँ खुश हैं
कही कोई सास को ताने न मार दे
तेरी बहु कैसी है आई!

अपनी रचना के माध्यम से सपनों के महत्व  पर प्रकाश डालते हुए कहते हैं कि 
प्रत्येक मानव के जीवन में स्वप्न अहम् भूमिका निभाते हैं  

                                                     

गूँजती हैं कहीं जब ठिठकते से कदमों की आहट,
 बज उठती है यूँहीं तभी टूटी सी वीणा यकायक,



                                                   

मृदुल-स्नेह की विह्वलता सी
ईश की अनुपम सुन्दरता सी.
दायित्व निभाती हर पल सारे
बहाती ममता साँझ-सकारे

'श्वेता सिन्हा जी' की अनूठी रचना जो 'भावनाओं' को 'प्रकृति' से जोड़ती है

                                                           


हवा के नाव पर सवार

बादल सैर को निकलते है
असंख्य ख्वाहिशों की कुमुदनी
में खिले सितारों की झालर
झील के पानी में जगमगाते है


                       
    अंत में, मैं "एकलव्य" आदरणीय 'यशोदा दीदी' एवं 'पाँच लिंको का आनंद' परिवार के सभी सदस्यों का हृदय से आभार प्रकट करता हूँ जिन्होंने मुझे आज की प्रस्तुति बनाने योग्य समझा।    
आज्ञा दें 
धन्यवाद। 








12 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत उम्दा संकलन,सुंदर लिंकों का चयन,मेरी रचना को मान देने के लिए शुक्रिया।

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभ प्रभात.....
    मंजे हुए चर्चाकार की तरह
    कमाल की प्रस्तुति
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  3. शुभ प्रभात जी
    सारी रचनाए बहुत सुन्दर है 🌹

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत उम्दा प्रस्तुति. मेरी रचना को स्थान देने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया. सादर

    उत्तर देंहटाएं
  5. एकलव्य जी को उनकी रचनाओं के संकलन के अथक प्रयास हेतु बधाई। भाई मजा आ गया।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  7. अपनी सशक्त रचना के माध्यम से समाज को करारा जवाब

    उत्तर देंहटाएं
  8. स्वागत है 'एकलव्य'। बहुत उम्दा प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत बढियासंकलन...
    गहन अध्ययन का परिणाम-ध्रुव जी!बहुत बहुत शुभकामनाएं...

    उत्तर देंहटाएं
  10. आज की प्रस्तुति के लिए एकलव्य जी बधाई के पात्र हैं। पाठकों की अभिरुचियों के अनुरूप रचनाओं का चयन कर आपने आज के अंक को आकर्षक और विचारणीय प्रस्तुति बना दिया है। सभी चयनित रचनाकारों को भी हार्दिक बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  11. खूबसूरत हलचल! हार्दिक बधाई एकलव्य जी ।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...