पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद

समर्थक

गुरुवार, 25 मई 2017

678.....पाठकों की पसंद .. आज की पाठिका बहन पम्मी सिंह

सादर अभिवादन
पाठको की पसंद का एक नया अंक
एक नई पाठिका...

My Photo
गिर के तू उठे वही
जब हार की भी हार हो।
नभ तलक पुकार हो
जब तेरी सिंह दहाड़ हो।
अश्रु बन भीगा दे लब
बहा तू अशांत नीर को

ज़िस्म इंसान का है  कुछ तो   ख़ताएँ होंगी  
ज़िंदगी का है   सफ़र कुछ तो  बलाएँ होंगी

उसके लहज़े में महकती है वतन की खुशबू 
कुछ मिट्टी  का असर, माँ की   दुआएँ होंगी

बता  कौन  तेरी  ख़ुशी  ले  गया
कि  कासा  थमा  कर  ख़ुदी  ले  गया

समझते  रहे  सब  जिसे  बाग़बां
गुलों  के  लबों  से  हंसी  ले  गया

पता नही क्यों भावुक बनकर,
सपनो में, मैं खो जाता हूँ।
स्वप्न लोक में, स्वप्न सखा संग,
बीज प्यार के बो जाता हूँ।
यूँ तो कुछ नहीं बताने को..चंद खामोशियाँ बचा रखे हैं
जिनमें असीर है कई बातें जो नक़्श से उभरते हैं

खामोशियों की क्या ? कोई कहानी नहीं...
ये सुब्ह से शाम तलक आज़माए जाते हैं
कुछ टूटे सितारों की आस में
हर रात छत से गुज़र जाती हूँ
आधे -अधूरे बेतरतीब इखरे-बिखरे
पलों,संयोग को समेटते हुए न जाने
कई संयोग वियोग में बदल ..
रह जाती है बस वही इक ...कसक


:: पाठक परिचय ::
पम्मी सिंह के ही शब्दों में....
मैं इन्हीं हर्फों और सप्हों में रची बसी हूँ,क्योंकि
हमारे होने और बनने में कई लोगों के साथ-साथ 
भावों और अहसासों का सहयोग होता हैं। जी, 
धन्यवाद।
pammisingh70ps@gmail.com

अगली बार फिर उपस्थित होंगे हम
एक नए पाठक के साथ
सादर..






9 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात.....
    शाबाश...
    अच्छी रचनाएँ
    आभार
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. आदरणीय ,'पम्मी सिंह'जी बहुत ही उम्दा चुनाव व संकलन हार्दिक शुभकामनायें हृदय से आभार। "एकलव्य"

    उत्तर देंहटाएं
  3. आदरणीय ,यशोदा दीदी मेरी पसंद की रचनाओं को सम्मान एवम् नव अवसर प्रदान करने के लिए हृदय से आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  4. शुभ प्रभात दी
    बहुत अच्छा संकलन

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  6. खूबसूरत संकलन! मेरी रचना को स्थान देने के लिए हार्दिक आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. पाठिका पम्मी दीदी को विश्वमोहन भैया का सादर धन्यवाद एवम सुरुचिपूर्ण संकलन के लिए बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर सूत्र। सुन्दर प्रस्तुति ।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...