निवेदन।


फ़ॉलोअर

मंगलवार, 15 जून 2021

3060.....चलती का नाम ऑनलाइन ज़िंदगी :

जय मां हाटेशवरी...... 🌹😊🌹😊🌹😊🌹😊🌹😊 
“हर रिश्ते में विश्वास रहने दो; 
जुबान पर हर वक़्त मिठास रहने दो; 
यही तो अंदाज़ है , जिंदगी जीने का; 
न खुद रहो उदास ... न दूसरों को रहने दो ...
” सादर नमन..... 
हर दिन के साथ..... 
घटता करोना का आंकड़ा...... 
एक नया आनंद दे रहा है...... 
अपनी सुरक्षा अपने हाथ में है..... 
पढ़िये.....मेरी पसंद.....  
            
🌺🙏सुप्रभात 🙏🌺 
अन्न फल से संतुष्ट कहती मिट्टी भी हितकारी हो। 
सपरिवार हम सबके लिए हर पल मंगलकारी हो। 
   
गए प्रेम वश राम जी, जब शबरी के द्वार।  
खाकर जूठे बेर को, दिया उसी को तार।।  

संदेश दिलों का ला रहा, ढाई आखर प्रेम। 
प्रियतम की तस्वीर को, छिपा रहा बन फ्रेम।।
 
पुलकित यह जग हो रहा, जब मिले प्रेम की राह।
 फूल बिखरते जाएंगे ,गर मन में हो चाह।। 

बीता नहीं है 
कोविद काल हुआ 
भयावह है 

काश! ऐसा कुछ हो जाए 
ये दुख, ये दर्द,  
ये भूख, ये बीमारी, 
ये बेरोजगारी, ये लाचारी 
ये भ्रष्टाचारी, ये सपने सरकारी   
सब के सब आ जाएँ 
किसी पीडीएफ में  
और किसी मोबाइल की 
मेमोरी से हो जाएँ  
हमेशा के लिए गुल!!  

आजकल की नई पीढ़ी धार्मिक कारणों को कम मानती है। इसलिए उन्हें धार्मिक के साथ-साथ वैज्ञानिक कारण बताना भी जरूरी हो जाता है। बैठे-बैठे पैर हिलाना स्वास्थ्य की दृष्टि से बहुत ही हानिकारक है। पैर हिलाने से घुटनों और जोडों के दर्द की समस्या हो जाती है। पैरों की नसों पर दबाव पड़ने का दिल पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है, जिससे हार्ट अटैक का ख़तरा बढ़ने लगता है। बैठे-बैठे पैर हिलाना यह सिर्फ़ एक आदत ही नहीं बल्कि एक बीमारी है और इस बारे में लोगों को जानकारी नहीं है। इस बीमारी को ‘रेस्टलेस लेग्स सिंड्रोम’ (Restless Legs Syndrome) कहा जाता है। 
 
जताता नही वो किसी को। 
अपने आँसू पीकर हरदम 
हंसाता रहता सभी को, 
धन्यवाद।

11 टिप्‍पणियां:

  1. बेहतरीन अंक
    आभार आपका..
    सादर..

    जवाब देंहटाएं
  2. सुंदर संकलन। मेरी रचना को पांच लिंको का आनंद में शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद, कुलदीप भाई।

    जवाब देंहटाएं
  3. `बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  4. व्सुप्रभात
    मेरी रचना को स्थान देने के लिए आभार सहित धन्यवाद कुलदीप जी |

    जवाब देंहटाएं
  5. हार्दिक आभार आपका मेरे शब्दों को मान देने हेतु
    श्रमसाध्य प्रस्तुतीकरण के लिए साधुवाद

    जवाब देंहटाएं
  6. वाह! बहुत बढियां !
    साधुवाद


    our url : www.margdarsan.com

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...