निवेदन।


फ़ॉलोअर

मंगलवार, 8 जून 2021

3053..गंजी खोपड़ियों पर लाल-हरी रोशनी पड़ रही है।

भारतीय साहित्य के आँचलिक चित्रकार फणीश्वर नाथ रेणु जी का यह जन्म शताब्दी वर्ष है। 
उनके प्रसिद्ध उपन्यास 'मैला आँचल' की कुछ अंतिम पंक्तियों को देखें। 
कितना सच उतरता है आज के मातमी माहौल पर भी! 
सच में, साहित्यकार युग-द्रष्टा होता है।
.........
"लेबोरेटरी! ....... 
विशाल प्रयोगशाला। ऊँची चहारदीवारी में बंद प्रयोगशाला।........ 
साम्राज्य-लोभी शासकों की संगीनों के साये में वैज्ञानिकों के दल खोज कर रहे हैं, 
प्रयोग कर रहे हैं। .........
गंजी खोपड़ियों पर लाल-हरी रोशनी पड़  रही है। ..........
मारात्मक, विध्वंसक और सर्वनाशा शक्तियों के सम्मिश्रण से एक ऐसे बम की रचना हो रही है 
जो सारी पृथ्वी को हवा के रूप में परिणत कर देगा .......
ऐटम ब्रेक कर रहा है मकड़ी के ........जाल की तरह! 
चारों ओर एक महा-अंधकार! सब  वाष्प! प्रकृति-पुरुष ........
अंड-पिंड! मिट्टी और मनुष्य के शुभचिंतकों की छोटी-सी टोली अँधेरे में टटोल रही है। 
अँधेरे में वे आपस में टकराते हैं।
..........
दिवि सूर्यसहस्त्र ...."
साभार आदरणीय विश्वमोहन कुमार

सादर नमस्कार
भाई कुलदीप जी आज नहीं हैं
सह लीजिए आज हमें

आज की रचनाएँ....

सोच - विचारों की शक्ति जब कुछ उथल -पुथल सा करती हो उन भावों को गढ़ कर मैं अपनी बात सुना जाऊँ जो दिखता है आस - पास मन उससे उद्वेलित होता है 
उन भावों को साक्ष्य रूप दे मैं कविता सी कह जाऊं.

सडकों के सन्नाटे में ये
हादसे क्यूँ कर हो रहे हैं ?
प्रगति के साथ - साथ ये
इंसानियत के जनाजे
क्यूँ निकल रहे हैं ?

.......
यह अनंत सृष्टि एक रहस्य का आवरण ओढ़े हुए है,
काव्य में यह शक्ति है कि उस रहस्य को उजागर करे या
उसे और भी घना कर दे! लिखना मेरे लिये
सत्य के निकट आने का प्रयास है.

बाहर ही बाहर यदि मन को लगाया
तो पीड़ा और संताप दिखेगा
अंतर गुहा में पल भर बिठाया
तो श्रद्धा का फूल स्वयं खिलेगा
......

जबकि नहीं है यह समय
स्थगित रहने का
क्योंकि
विश्वास, प्रेम, सुकून
सब कुछ तो है स्थगित।
......

बंजारा घर में बंधकर नही रह सकता
भाई सुबोध जी अभी-अभी कौरेन्टाईन से उठे हैं
निकल लिए सैर के लिए..
अनवरत
हैं तर तेरी
यादों की
तरलता से
सोचें
हमारी ..
........................
खुश रह कर दूसरों को भी सदा खुश रखने का
कुछ असंभव सा कार्य करते हुए
खुशी पाने की भरसक कोशिश करता रहता हूं।
आस-पास कोई गमगीन ना रहे यही कामना रहती है। ...शर्मा गगन

भगवान श्रीकृष्ण जब गांधारी के सामने पहुंचे, तो गांधारी का अपने क्रोध पर वश नहीं रहा ! 
बिना कुछ सोचे-समझे उन्होंने श्रीकृष्ण को श्राप दे डाला ! 
“अगर मैंने प्रभु की सच्चे मन से पूजा तथा निस्वार्थ भाव से अपने पति की सेवा की है, 
तो जैसे मेरे सामने मेरे कुल का हश्र हुआ है, उसी तरह तुम्हारे वंश का भी नाश हो जाएगा !'' 
सब सुन कर भी कृष्ण शांत रहे ! फिर बड़ी ही विनम्रता से बोले, मैं आपके दुःख को समझता हूँ !
यदि मेरे वंश के नाश से आपको शांति मिलती है, तो ऐसा ही होगा ! 
पर आपने व्यर्थ मुझे श्राप दे कर अपना तपोबल नष्ट किया ! 
विधि के विधानानुसार ऐसा होना तो पहले से ही निश्चित था ! तब कुछ क्रोध शांत होने पर गांधारी को भी पछतावा हुआ और 
श्री कृष्ण से उन्होंने क्षमा याचना की ! पर जो होना था वह तो हो ही चुका था !
......
आज्ञा दें
दिग्विजय  


 

15 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर अंक
    आभार...
    सादर...

    जवाब देंहटाएं
  2. वाह! बहुत सुंदर अंक।
    सभी रचनाएँ अनुपम,सुंदर एवं संदेशपूर्ण।
    मंच पर उपस्थित सभी आदरणीयजनों को सादर प्रणाम 🙏

    जवाब देंहटाएं
  3. दिग्विजय जी ,
    आज तो आपने अचंभित ही कर दिया ।
    ये पंक्तियाँ पढ़ते हुए लगा कि ये तो मेरी लिखी हैं ---यानि पूरा परिचय ही छाप दिया ।

    सोच - विचारों की शक्ति जब
    कुछ उथल -पुथल सा करती हो
    उन भावों को गढ़ कर मैं
    अपनी बात सुना जाऊँ
    जो दिखता है आस - पास
    मन उससे उद्वेलित होता है
    उन भावों को साक्ष्य रूप दे
    मैं कविता सी कह जाऊं.

    इतने सोचती कुछ एक और आश्चर्य सामने आ गया जिसे बहुत कम लोगों ने पढ़ा आप उसे ढूँढ़ लाये ।
    आभारी हूँ । बाकी लिंक्स अभी पढ़ती हूँ । इस आश्चर्य के सदमे से बाहर तो आऊँ । 😄😄😄😄😄

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. गड़े मुर्दा उखाड़ने वाले मेरे सबकुछ
      पेशे से चार्टर्ड अकाउंटेंट हैं..
      कभी-कभी ही आते हैं..
      आभार दीदी..
      सादर नमन..

      हटाएं
    2. आभार,
      गड़ा-मुर्दा (छुपाए हुए कागजात)
      देवी जी भी एम.काम.,एल.एलबी.,है
      लिखने में वकीलगिरी दिखा गई
      सादर वन्दे..

      हटाएं
  4. सर्वप्रथम, नमन संग आभार आपका, अपने मंच तक मेरी सोच/रचना को लाने के लिए ... साथ ही अपनी आज की भूमिका में वर्तमान के बहाने फणीश्वर नाथ रेणु जी और 'मैला आँचल' को याद करने के लिए धन्यवाद ...

    जवाब देंहटाएं
  5. सार्थक भूमिका और नए अन्दाज़ में रचनाओं को प्रस्तुत करने का अनुपम प्रयोग, बहुत बहुत बधाई और आभार!

    जवाब देंहटाएं
  6. सम्मिलित कर मान देने हेतु हार्दिक आभार ! स्नेह बना रहे

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  8. This is really fantastic website list and I have bookmark you site to come again and again. Thank you so much for sharing this with us first kiss quotes
    spiritual quotes
    shadow quotes
    blood donation quotes
    frustration quotes
    smile quotes
    upsc motivational Quotes

    जवाब देंहटाएं
  9. बहित सुंदर लिंक संयोजन।

    जवाब देंहटाएं
  10. शुभ संध्या..
    सभी को आभार..
    सादर वन्दे...

    जवाब देंहटाएं
  11. दिग्विजय अग्रवाल जी, आभारी हूं कि आपने मेरी कविता को "पांच लिंकों का आनन्द" में स्थान दिया। हार्दिक धन्यवाद 🙏

    जवाब देंहटाएं
  12. आपके द्वारा संजोए गए सभी लिंक्स अत्यंत रुचिकर हैं। आपके श्रम को साधुवाद 🙏

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...