निवेदन।


फ़ॉलोअर

गुरुवार, 10 जून 2021

3055...इंतज़ार कीजिए, यह वक़्त भी गुज़र जाएगा...

शीर्षक पंक्ति: आदरणीय ओंकार जी की रचना से। 

सादर अभिवादन।

गुरुवारीय अंक में आपका स्वागत है।

आइए अब आपको आज की पसंदीदा रचनाओं की ओर ले चलें-

लो आया नया विहान...कुसुम कोठारी 

झरनों का राग,पहाड़ों की अचल दृढ़ता,

सुरमई साँझ का लयबद्ध संगीत,

नीड़ को लौटते विहंग ,अस्त होता भानु,

निशा के दामन का अँधेरा कहता।

लो आया नया विहान।।


५७६.रात... ओंकार 

ऐसे में ख़ुद को थामे रखिए,

हाथों में हाथ डाले रहिए,

इंतज़ार कीजिए,

यह वक़्त भी गुज़र जाएगा.


उदासी | कविता | डॉ शरद सिंह

इस शब्द के भीतर

है कांच की तरह टूटे हुए

ख़्वाब की किरचें

जो लहूलुहान कर देती हैं

एहसास के

हाथों को, पैरों को

बल्कि समूचे जिस्म को

लहू रिसता है बूंद-बूंद

आंसू बन कर

और देता है जिस्म के

ज़िन्दा रहने का सबूत

कैसे कहूं कि उदासी क्या है?

 

नूतन तरु के गात हो रहे... अनीता 

शब्दों को आशय तुम देते

वाणी के तुम संवाहक हो,

तुम्हीं प्रेरणा लक्ष्य भी तुम्हीं

शुभता के शाश्वत वाहक हो !


ओ री जिंदगी...सुन तो सही... संदीप कुमार शर्मा 

सोचिए
जिंदगी हार रही है
या
हम
जिंदगी हार रहे हैं।
बचपन के बाद
कभी नहीं हंसते
अब
हर पल
हम
अपने जंजाल में
खुद फंसते हैं
और

फंसते जाते हैं। 


चलते-चलते पढ़िए कुछ अलग-सा- 

राजा आप का .. तड़ीपार ... (भाग-). अन्तिम भाग)... सुबोध सिन्हा 

पर जब उसी दिन शाम तक दुबारा फेसबुक पर झाँका, तो पाया कि उनकी तरफ से हम 'अनफ्रैंड' यानी तड़ीपार किए जा चुके हैं। अफ़सोस इस बात की रही, कि हम वेब पन्ने के उस अपशब्द वाले हिस्से का स्क्रीन शॉट (Screen shot) नहीं ले पाए थे, जिसे उन किन्नर मोहतरमा की कलुषिता को प्रमाण के तौर पर, उस दिन या आज भी दिखलाने पर, उनको आदर देने वाले सभी पटना के बुद्धिजीवियों की आँखें फटी की फटी रह जाती .. शायद ...

 

आज बस यहीं 

फिर मिलेंगे अगले गुरुवार। 


रवीन्द्र सिंह यादव 


11 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर
    हाथों में हाथ डाले रहिए,
    इंतज़ार कीजिए,
    यह वक़्त भी गुज़र जाएगा.
    सादर..

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. " यह वक़्त भी गुज़र जाएगा."- निश्चित रूप से वक्त, बुरा हो या अच्छा, गुजर ही जाएगा .. बस ! .. पीछे अपनी रफ़्तार के अनुसार ग़ुबार छोड़ जाएगा .. जिसे हमें झेलना होता है .. शायद ...

      हटाएं
  2. जी अवश्य ये वक्त भी गुजरेगा और ये फिजा भी बदलेगी...बदलेगा बहुत कुछ और बदलना होगा हमें भी क्योंकि इस जैसी कठिन परीक्षा हम और नही दे सकते हैं...बेहतर होगा कि हम सजग हो जाएं। बहुत अच्छे लिंक हैं और बहुत अच्छी रचनाएं। आपको बधाई आदरणीय रवींद्र जी। आभार सभी साथियों को जिनकी रचनाएं आज हमें देखने को मिल रही हैं।

    जवाब देंहटाएं
  3. प्रेरणात्मक भूमिक और उम्दा लिंक्स का चयन, आभार रवींद्र जी !

    जवाब देंहटाएं
  4. प्रेरणास्पद भूमिका के साथ बहुत सुंदर लिंक्स।

    जवाब देंहटाएं
  5. जी ! नमन संग आभार आपका ...
    आज इस मंच पर मेरी बतकही को जगह देने के लिए शुक्रिया। पर .. यह कहना अतिशयोक्ति नहीं होगी, कि आज का मंच इतनी सारी प्रभावशाली रचनाओं की उपस्थिति के बावज़ूद भी, आपकी ध्यानाकर्षण करने वाली भूमिका के आभाव में सूना-सूना लग रहा है .. कुछ-कुछ .. शायद ...

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर प्रेणनादायक सन्देश देता हुआ लिंक ।

    जवाब देंहटाएं
  7. सुंदर लिंक्स। आभार

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर लिंको के साथ बहुत सुंदर प्रस्तुति।
    सभी रचनाएं बहुत सुंदर सार्थक।
    सभी रचनाकारों को बधाई।
    मेरी रचना को पाँच लिंक पर रखने के लिए हृदय तल से आभार।
    सादर।

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...