निवेदन।


फ़ॉलोअर

शनिवार, 25 जनवरी 2020

1653.. बेवकूफी





सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष
बेवकूफी पर शायरी के लिए इमेज परिणाम


अपने आस पास का फैला वो यथार्थ।  जिसे आप देखते तो थे मगर
उसे उस नजर से देखना चूक गये थे जिस नजर से अनूप शुक्ला उसे देखते हैं।
आप अचरज में पड़ जायेंगे। अरे, इसे ऐसे भी सोच सकते हैं क्या, और
फिर पढ़ कर कहेंगे कि हाँ, सोच तो सकते थे। एक होती है मुस्कान।
आप देखते हैं मुस्कान और फुरसतिया देखते हैं उसी में कोलगेटिया मुस्कान।
जिसमें दिखे दाँत ज्यादा सफेद। छोटी छोटी से बातें। मगर अंदाज जुदा जुदा।
बेवकूफी पर शायरी के लिए इमेज परिणाम


कुछ लोग लंबा लिखने को ही बेवकूफी मानते हैं.
इसलिए ये सीरीज थोड़ी लंबी चलेगी. बहरहाल मेरे कहने का मकसद 
सिर्फ इतना है कि बेवकूफी सबसे आसान काम है. सबको करना चाहिए. 
बिना किए भी होती रहती है अक्सर. आख़िर में परसाई का लिखा छोड़ के जा रहा हूं.
बेवकूफी पर शायरी के लिए इमेज परिणाम


हद दर्जे की मक्कारी है उन की  बातों  मे
फिर भी हम उन से बाते करते है
सपने दिखाते है वो दिन मे
फिर भी हम सुनते है उनकी
इस कमाल को हम क्या कहेगे
बेवकूफी पर शायरी के लिए इमेज परिणाम


मैं तुम्हारा हाल पूछकर अपनी बेवकूफी का 
प्रमाण पेश नहीं करूंगा. क्योंकि प्यारे, 
तुम अच्छे के सिवा और हो ही क्या सकते हो.
 मैं मान ही नहीं सकता कि तुम्हारा भी मिजाज 
नरम—गरम, तोला—माशा हो सकता है.
बेवकूफी पर शायरी के लिए इमेज परिणाम


इस भूल भुलैया दुनिया में कुछ लोग आपस में टकरा ही जाते हैं,
जिन्हें देख या सोच के आपको लगता है कि अरे वाह !
आज भी ऐसे लोग मिलते हैं या आज भी ऐसा रिश्ता बनता है।
हमारी मैम को भी उनकी टीम में कोई ऐसा ही मिल गया,
जो उन्हें पैम्पर करता…उन्हें हंसाता रहता…नौटंकी करता।
नाम था उसका ‘लबरी'
बेवकूफी पर शायरी के लिए इमेज परिणाम
><><
अब बारी है विषय की
105 नम्बर का विषय
एक चित्र है
इसी को आधार मान 
कर रचना लिखनी है
अंतिम तिथिः 25 जनवरी 2020
रचनाएँ मेल द्वारा ही



5 टिप्‍पणियां:

  1. जी प्रणाम दी,
    सुप्रभात।
    हमेशा की तरह बेहतरीन प्रस्तुति और बढ़िया रचनाएँ।
    सादर।

    जवाब देंहटाएं
  2. सादर नमन दीदी...
    सदाबहार प्रस्तुति...
    सादर..

    जवाब देंहटाएं
  3. सुप्रभात, खूबसूरत रचना प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  4. आभार विभा जी आज के लाजवाब अंक में लाजवाब व्यंगकार शम्भू राणा जी को जगह देने के लिये।

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...