निवेदन।


फ़ॉलोअर

गुरुवार, 2 जनवरी 2020

1630...कुछ ऊबड़-खाबड़ लिखा जाता है सामाजिक विषमताओं के घने अंधेरों पर...

सादर अभिवादन। 
सन 2020 के द्वितीय दिवस में आपका स्वागत है। 

रंग-ख़ुशबू, 
फूल-ओ-फ़ज़ाएँ, 
हुस्न-ओ-शबाब, 
प्यार-मुहब्बत 
से इतर भी 
कुछ ऊबड़-खाबड़ 
लिखा जाता है 
सामाजिक विषमताओं के 
घने अंधेरों पर!

-रवीन्द्र सिंह यादव   

आइए अब आपको आज की पसंदीदा रचनाओं की ओर ले चलें- 

मेरी फ़ोटो 
जो मन ने कहा   
जो मन में पला   
वह लिखा बस वही लिखा   
कब कौन सी विधा हुई   
किस तराजू पे परखी गई   
किस नियम में सजी लेखनी   
वो त्रिभुज हुई या वृत्ताकार बनी   
समीप रही या समानांतर चली   
नहीं मालूम यह क्या हुआ    

 

सांसों की फिसलती हुई ये डोर थामकर
बेताब दिल की धड़कनों का शोर थामकर
करता हूँ इन्तज़ार इसी आस में कि तुम
आओगी कभी तीरगी* में भोर थामकर


रहते हैं ख़ार ज्यूँ गुलाबों के हमनशीं हो कर
दिल में दर्दों को वैसे ही छुपाया करना !!

तिनके-तिनके में छुपी है मोहब्बत राही
बुलबुल के घरौंदे को मिटाया करना !!



 
  परमात्मा से प्रार्थना तो हम रोज ही करते हैं ,परन्तु उस प्रार्थना में हम ईश्वर से कुछ ना कुछ माँगते ही रहते हैं ,सुख -समृद्धि ,यश -कृति ,संतान-परिवार ,खुशियाँ-स्वस्थ और भी बहुत कुछ लेना या माँगना ही हमारी प्रवृति हैं ,कभी कुछ देने की चाह ही नहीं होती। ये सच हैं कि - माँगना ही हमारी प्रवृति हैं और ईश्वर से नहीं माँगेगें तो और किससे माँगेगेंपरन्तु माँगने के साथ साथ देने की प्रवृति भी होनी ही चाहिए   


 

" हैप्पी न्यू इयर भाई "
"अरे .. अंग्रेजी में क्यों बोल रहे हैं, अरे भाई .. हिन्दी में नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं बोलिए ना .. "
" क्यों भला !? ये तो वही बात हो गई कि .. गुड़ खाए और गुलगुल्ला से परहेज़ .. "
" वो कैसे भाई ? "
" वो ऐसे कि आप ... "



इस वर्ष का नया विषय
यहां देखिए

आज बस यहीं तक 
फिर मिलेंगे अगली प्रस्तुति में। 

रवीन्द्र सिंह यादव 

9 टिप्‍पणियां:

  1. नववर्ष शुभ हो,
    मंगल करे सभी का..
    बेहतरीन प्रस्तुति...
    सादर..

    जवाब देंहटाएं
  2. नमस्ते रवीन्द्र जी ! आभार आपका रचना को मंच से साझा करने के लिए ...

    जवाब देंहटाएं
  3. Suprabhat Sundar Sangathan Anand hi Anand Hai Nav varsh ki shubhkamnaen

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  5. बेहतरीन रचना संकलन एवं प्रस्तुति सभी रचनाएं उत्तम रचनाकारों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं 🙏

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...