निवेदन।


फ़ॉलोअर

शनिवार, 31 अगस्त 2019

1506... अमृता प्रीतम

अमृता प्रीतम की शायरी के लिए इमेज परिणाम

"क्या कर रही हैं अम्मू?" कल शाम में बुचिया का फोन आया प्रणाम-आशीष के बाद- उसका पहला सवाल स्वाभाविक था..
"कुछ खास नहीं... बस पेट-पूजा की तैयारी.. तुम बताओं?"
"कल का क्या प्रोग्राम है? कल सौ साल पूरे हो रहे हैं और कहीं किसी कोने में कुछ सुगबुगाहट नहीं है..., स्त्रियों के साथ ऐसा क्यों किया जाता है?" बुचिया बेहद क्षुब्ध थी...
"मैं तो शहर से बाहर हूँ... फिर भी देखती हूँ क्या कर सकती हूँ!" फिर सोच में डूबी ये मुआ ढ़ाई आखर पर चर्चा करनी होगी... किसी शब्द को लो उसमें आधा वर्ण है... जो खुद आधा समेटे हुए है वह कैसे पूरा होगा...

कहते हैं प्यार एकतरफा भी होता है
तो क्या प्यार हवा में उफनता है
बिना आँच बिना ईंधन पानी बिना अवलम्बन
साहिर का नाम लिखने के लिए इमरोज का पीठ हाजिर था
प्रीतम को खोने के लिए साहिर मौजूद रहा
फिर इमरोज किस आधार पर आज भी जिंदा रखे हुए हैं

अमृता प्रीतम की शायरी के लिए इमेज परिणाम

ज्ञानपीठ प्राप्त मशहूर व संवेदनशील लेखिका अमृता प्रीतम की जन्मशताब्दी के अवसर पर ब्लॉगर परिवार की ओर से सादर नमन...
वह_कौन_थी ?
जानना चाहते हो - वह कौन थी ?!
वह थी सावन की पहली बारिश, बारिश के बाद की निखरी धूप, बागीचे में डाला गया झूला, उसकी पींगे, और हवा में इठलाती लटें ...।खिलखिलाती हुई जब वह आईने के आगे खड़ी होती थी, तो घण्टों खुद को निहारती, लटों से खेलती बन जाती थी एक सपना । सब्ज़ी काटते हुए, सुनती थी अपनी चूड़ियों की खनक, छौंक लगाती अपनी हथेलियों की अदाएं देखती, मसालों के संग एक चुटकी नमक की तरह खुद को डाल देती थी । ताकि मायके में उसका स्वाद बना रहे ...
ढोलक की थाप पर, शहनाइयों की धुन में जब उसके पाँव महावर से रचे गए, तब वह जादुई नमक साथ ले गई थी, ताकि ससुराल में भी उसका स्वाद उभरे । लेकिन, ...
यह जो राम नाम के सत्य की रटन हो रही है न, यह उसी के लिए । सारे नमक उसके ज़ख्मों में भर गए और कहानी खत्म हो गई है । नाम जानकर क्या करोगे, किसी भी नाम से तर्पण अर्पण कर दो - चलेगा ।© Rashmi Prabha
ज्योति स्पर्श : अमृता एक कविता में कहती हैं- ' मैं लौटूँगी...'। अमृता प्रीतम के शब्द जो पढ़ने वाले के पहलू में तसल्ली से बैठ कर अपना अनुभव साझा करते हैं। अमृता सिर्फ इमरोज,अपने बच्चों और अपने दोस्तों की यादों में ही नहीं जिन्दा हैं बल्कि लाखों लड़कियों की इस हसरत में जिन्दा हैं कि उन्हें कोई इमरोज़ की तरह चाहे। अमृता को पढ़ते हुए चाँदी सी उम्र भी बगावती होना चाहती है।
अपने शब्दों की सरलता से अध्यात्म की तारीकी गुफाओं में पाठक के लिए जुगनू उड़ा देती हैं अमृता।

अमृता प्रीतम की शायरी के लिए इमेज परिणाम

अमृता प्रीतम
पुण्यतिथि
प्यार अगर इंसान की शक्ल लेता तो उसका चेहरा अमृता प्रीतम जैसा होता
जैसा अमृता प्रीतम ने अपने लिए चुना, वैसा ही प्यार और
आजादी के मेल से बना चटख रंग वे हर स्त्री के जीवन में चाहती थीं.

अमृता प्रीतम की शायरी के लिए इमेज परिणाम

अमृता प्रीतम

अज्ज आखां वारिस शाह नूं
पंजाबी भाषा में लिखी गई यह बेहद प्रसिद्ध कविता है। इस कविता में भारत विभाजन के समय पंजाब में हुई भयानक घटनाओं का अत्यंत दुखद वर्णन है। इस कविता को भारत और पाकिस्तान दोनों ही देशों में सराहना मिली थी।
एक मुलाकात
यह ऐसे प्रेमी जोड़े की दास्तान है, जो मिल नहीं पाते हैं

अमृता प्रीतम की शायरी के लिए इमेज परिणाम

अमृता प्रीतम



अमृता प्रीतम

बात अनहोनी,
पानी को अंग लगाया
नदी दूध की हो गयी
कोई नदी करामाती
मैं दूध में नहाई
इस तलवण्डी में यह कैसी नदी
कैसा सपना?

अमृता प्रीतम की शायरी के लिए इमेज परिणाम

अमृता प्रीतम

यह दोस्ती और रूहानी अहसास उनकी रचना एक थी सारा में जीवित है. उनकी हर रचना हर पाठ के साथ एक नयी आलोचना तैयार करती है. कहानियाँ और कविताएं भाषिक सरंचना से जाने कैसा ज़ादू पैदा करती है कि उन में डूबा हुआ पाठक इस दुनिया ज़हान के समस्त  प्रसंगों के लिए अपरिचित बन बैठता है. पाठक को हर रचना पाठ के बाद भी कुँआरी जान पड़ती है. वहाँ खामोशी का बोलता हुआ दायरा है जो आपको अपने आगोश में लेने के लिए बेताब जान पड़ता है. अमृता अपनी रचनाओं में सदा जीवित बनी रहेंगी, यही कारण है कि पाठक उनकी कविताओँ में हर बार एक नयी अमृता को पा लेता है, ठीक इन पंक्तियों की तरह-

अमृता प्रीतम की शायरी के लिए इमेज परिणाम

जब शब्द सम्पूर्ण हो तो समझना ज्योत्स्ना शीतल है


33 टिप्‍पणियां:

  1. सुप्रभातम् दी:),
    कितना सुंदर संकलन तैयार की हैं...अभी बस एक नज़र भर डाले हैं आराम से पढ़ेगे..।
    सादर आभार दी शुक्रिया दिल से।
    आपके द्वारा प्रस्तुत हर अंक सबसे अलग होता है हमेशा।

    जवाब देंहटाएं
  2. कहते हैं प्यार एकतरफा भी होता है
    तो क्या प्यार हवा में उफनता है
    बिना आँच बिना ईंधन पानी बिना अवलम्बन
    साहिर का नाम लिखने के लिए इमरोज का पीठ हाजिर था
    प्रीतम को खोने के लिए साहिर मौजूद रहा
    फिर इमरोज किस आधार पर आज भी जिंदा रखे हुए हैं

    इन महान लेखिका के संदर्भ में जब सलीम भाई ने मुझे बहुत कुछ बताया था। आज यहाँ भी सुंदर प्रस्तुति देख मन खुश हो गया।
    शायद इसी को सच्चा प्रेम कहते हैं ...

    जवाब देंहटाएं
  3. सादर नमन..
    लाजवाब प्रस्तुति..
    आभार..
    सादर..।

    जवाब देंहटाएं
  4. अति सुन्दर संकलन एवम प्रस्तुति।सुप्रभात

    जवाब देंहटाएं
  5. सुप्रभात दी जी
    बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति 👌
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  6. सुप्रभात दीदी !
    आज का संकलन यूं लगता है जैसे बहुत दिनों के बाद मनपसन्द उपन्यास आ गया हाथों में...,
    बहुत बहुत आभार दी.. इतनी खूबसूरत प्रस्तुति के लिए 🙏

    जवाब देंहटाएं
  7. बहुत ही खूबसूरत संकलन !

    जवाब देंहटाएं
  8. वाह बेहतरीन संकलन, आभार दीदी

    जवाब देंहटाएं
  9. अत्यंत सार्थक अंक। अमृता जी की अमिय-स्मृति को चिर नमन!!!

    जवाब देंहटाएं
  10. आत्म मुग्ध करता बेसकीमती अंक।

    जवाब देंहटाएं
  11. प्रभु उनकी आत्मा को सकून दे !
    पता नहीं कहना तो शायद ठीक नहीं होगा, क्योंकि मुझे पता है कि उनका उच्च श्रेणी का होना भी क्यों मुझे उनका प्रशंसक नहीं बना पाया !

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. बेबाक़ी से अपनी बात कहना हमेशा ठीक होता है.. पसंद नापसंद सबकी अपनी-अपनी होती है.. लेकिन तय किये दायरे/हद से बाहर निकलने पर बहुत कुछ बदल जाता है...

      हटाएं
  12. बहुत सुंदर,संग्रहणीय संकलन

    जवाब देंहटाएं
  13. बहुत अच्छी संग्रहणीय प्रस्तुति !

    जवाब देंहटाएं
  14. लाजवाब संकलन
    सुंदर प्रस्तुति
    वाह
    सादर नमन

    जवाब देंहटाएं
  15. Are you fed up of handling all Binance troubles but get no positive results? Binance exchange is surrounded by numerous errors be it login issues, sign up issues or sign in issues, you can always ask for guidance from the team of skilled professionals who are there to guide you. You can always call on Binance support number which is always functional and the team is ready to assist you at every step that could help in eliminating all troubles from the roots. They are the best remedy to deal with all troubles instantly from the roots.

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...