निवेदन।


समर्थक

बुधवार, 14 अगस्त 2019

1489..वंदन मेरे देश,तेरा वंदन मेरे देश..

।।उषा स्वस्ति।।

वंदन मेरे देश,तेरा वंदन मेरे देश! 
पूजन,अर्चन,आराधन,अभिनन्दन मेरे देश! 
पर्वत, सागर,नदियाँ ऐसा दृश्य कहाँ?
स्वर्ग अगर है कहीं धरा पर तो है सिर्फ यहाँ, 
तू ही दुनियाँ की धरती का वंदन मेरे देश! 
वंदन मेरे देश,तेरा वंदन मेरे देश!
..चंद्रसेन विराट जी
के शब्दावली के साथ
आज की लिंकों में शामिल रचनाओं पर नज़र डालें..✍
🇮🇳🇮🇳




सबकी अपनी अपनी ढपली,
अपना अपना राग।
किसी को सुहाता है सावन,
किसी को भाता फाग।
जब सब गाते कजरी-टप्पे,
वे गीत ओज के गाते हैं।
सीमा पर रहते मुस्तैद..

🇮🇳🇮🇳




फिर नदी की बात सुन कर
चहचहाने लग गई है
यह हरी घाटी हवा से बात कर के
लहलहाने लग गई है
झर रहे 
झरने हँसी के
उड़ रहे तूफ़ान में स्वर..

🇮🇳🇮🇳





कुछ तो बात होगी
कि अपनी बेचैनियों का हल
हम कविताओं में जीते हैं
घूँट-घूँट
आँसू
आँखों से रीते हैं!..

🇮🇳🇮🇳





प्रेम एक प्राकृतिक प्रक्रिया है।
प्रेम होना ठीक वैसा ही है जैसे पेड़ों में स्वयं पत्ते लगना, कलियों का स्वयं फूलों में परिवर्तित होना और फलों का स्वयं ही पक कर मीठा हो जाना।


क्योंकि प्रेम एक प्राकृतिक प्रक्रिया है इसलिए प्रेमी प्रेम में पड़कर स्वयं ही प्रकृति की तरफ़ आकर्षित हो जाते हैं। उन्हें अच्छा लगता है प्रकृति का हर वो क्रिया कलाप जिसमें मिलन का सुख समाया हो। फ़िर चाहे वो आसमान से कूदकर आती बारिश का जमीन से मिलना हो..

🇮🇳🇮🇳

शेख़ी बघारता दिनभर
किसी जेठ-सा सूरज
हो जाएगा जब ओट में
शाम के मटमैले चादर के



आएगी तब नववधू-सी रात
जुगनूओं के टाँके लगे
काले परिधानों में हौले-हौले..


🇮🇳🇮🇳

वारों, त्योहारों के
 शुभकामनाओं के संग आज यहीं तक..
🇮🇳🇮🇳
हम-क़दम का नया विषय

यहाँ देखिए
🇮🇳🇮🇳

।।इति शम।।
धन्यवाद
पम्मी सिंह'तृप्ति'..✍

10 टिप्‍पणियां:

  1. बेहतरीन प्रस्तुति...
    भारतीय स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर शुभकामनाएँ
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  2. "पांच लिंकों का आंनद" के इस अंक के गुलदस्ते में मेरी रचना को भी सजा कर मान देने के लिए हार्दिक शुक्रिया पम्मी जी !...
    देशभक्ति से ओतप्रोत रचना के साथ ही प्रकृत्ति और प्रेम से पगी रचनाओं के संकलन केलिए साधुवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेहतरीन प्रस्तुति....मेरी रचना को स्थान देने के लिए हार्दिक आभार आपका

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर सराहनीय प्रस्तुति पम्मी जी
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  5. भुमिका में शानदार विचारों वाली चंद्रसेन विराट जी की उत्कृष्ट पक्तियां।
    बहुत सुंदर हलचल प्रस्तुति पम्मी जी।
    सभी रचनाकारों को बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  6. उम्दा लिंकों से सजी शानदार प्रस्तुति...।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर रचनाएँ हैं पम्मी जी..बढ़िया भूमिका सुंदर संकलन।

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...