निवेदन।


फ़ॉलोअर

रविवार, 25 अगस्त 2019

1500....क्या खोया,क्या पाया !


जय मां हाटेशवरी.....
मन हर्षित है......
क्योंकि आज हमारे इस ब्लॉग के.....

1500 अंक हो चुके हैं......
सदस्यों की संख्या भी बढ़ती जा रही है......
भविष्य में भी......
आप सब पाठकों का इसी तरह सहयोग व स्नेह मिलेगा......
कल जन्मष्टमी थी.....
श्रीकृष्ण जी के जीवनदर्शन की......
आज के समाज को बहुत आवश्यक्ता है......
अब पेश है.....
आज के लिये मेरी पसंद.....

नँद नन्दन कित गये
My photo
भ्रमित भई सुनि भँवरे की गुंजन,
ढूंढे सघन करील की कुंजन।
रे मनमोहन तेरे दर्शन बिन,


लिप्सा के शूल मुझे नहीं चुभते -

मुठ्ठी भर मजदूरी से
उदर आग बुझ जाती
चूं चूं करते चूजों देख
तपिस विपन्नता की बड़ जाती

चिकना पथ बनाते बनाते
खुरदरी देह दुखने लगी है
पथ के कंकर नगें पावों को
फूल जैसे लगने लगी है

हृदयी फूल पलाश का !
मेरी फ़ोटो
देखते ही देखते वो राख
शिराओं में पसरने लगी ,और
दहकती नारंगी घुमावदार
चपल पंखुड़ियाँ मानो
मरे सांप सी निस्तेजित हो गयीं 
प्राणरहित, रागरहित, बदरंग !
आखिर कब सह पाया है
स्नेही जीवंत किंशुक
तुषार निठुर विराग का
खिल खिल के बस युहीं
क्षय होता गया

यक्ष प्रश्न

मुरलीधर द्वापर में बड़े-बड़े लीला करने वाले।
कमलनाथ हर क्षण कृष्णा का साथ देने वाले।
सास-ननद का रूप बदल जाओ या सम्बोधन,
निर्गुण तुम्हें ढूंढ रहे अज्ञानी सर्वेश्वर बनने वाले।

देखो ! चरित्र-हत्या मत करो

देखो ! अहिल्या का सतीत्व समय के बहाव में और निखरता गया |
लाँछन न समझो जीवन में मिली अवेहलना को,
देखो !अवगुणों के थे वे सूखे पत्ते समय के साथ झड़ते गये,
बुद्ध ने त्यागा वैभव जली यशोधरा जीवनपर्यंत ,
देखो ! त्याग की बने दोनों मिशाल हमें धैर्य का पाठ पढ़ाते गये |

कृष्ण का प्रेम
मेरी फ़ोटो
घर परिवार,नाते-रिश्तेदारों
अड़ोसी- पड़ोसी
और देश को
वास्तविक प्रेम का पाठ पढ़ाओ
ताकि इस देश के लोग
जीवन में
वास्तविक प्रेम का अर्थ समझ सकें---

क्या खोया,क्या पाया !

घनघोर अंधेरा,
मूसलाधार बारिश,
तूफान,
और उफनती यमुना ...
मैं नारायण बन गया,
अपने लिए,
बाबा वासुदेव और माँ देवकी के लिए ।

धन्यवाद

34 टिप्‍पणियां:

  1. सभी लिंक शानदार। .बढ़िया संकलन हुआ है। ...रचनाये रोचक हैं। कृष्णरंग में सराबोर रचनाएँ हृदय को सकूं पहुंचाती हैं
    मेरी रचना को स्थान देने लिए बहुत बहुत धन्यवाद


    युहीं उत्साह बढ़ाते रहिये

    जवाब देंहटाएं
  2. वाह! 1500 वें अंक तक का शानदार सफ़र तय करने के लिये पाँच लिंकों का आनन्द परिवार अपने स्नेही सुधीजनों का शुक्रिया अदा करता है.
    यह मक़ाम सुखद अनुभव से गुज़रकर हासिल हुआ है.
    सभी चर्चाकारों एवं सहयोगियों का हार्दिक अभिनंदन!
    उम्मीद है ऐसे अनेक सोपानों तक आप सब का स्नेह और आशीर्वाद मिलता रहेगा.

    जवाब देंहटाएं
  3. सस्नेहाशीष व अक्षय शुभकामनाओं के संग हार्दिक बधाई आपलोगों को 1500 से आगे अनगिनत तक यूँ ही सफर चलता रहे..
    सराहनीय संकलन के लिए साधुवाद...

    जवाब देंहटाएं
  4. वाह! मन खुश कर दिया आपने सुमधुर रचनाओं की इस रिमझिम से। बधाई और आभार इस पंचदश शतकीय संकलन का!!!

    जवाब देंहटाएं
  5. 💐🌷😇🌷💐🌷💐🌷💐🌷

    हार्दिक बधाईऔर शुभकामनायें पंच लिंक । सभी रचनाकारों की पहचान और लोकप्रियता को नये आयाम देते हुए प्रस्तुति के जादुई अंक की उपलब्धि तक की रचना यात्रा बहुत रोमांचक है। सुंदर रचनाओ से सजे अंक के लिए हार्दिक बधाई प्रिय कुलदीप जी। सभी को शुभकामनाएं 🙏🙏🙏

    💐🌷💐🌷💐🌷💐🌷

    जवाब देंहटाएं
  6. वाह बेहतरीन लिंक्स चयन के साथ ही 1500वें अंक के लिये बहुत बहुत बधाई की पात्र है आपकी पूरी टीम 🌺🌺

    जवाब देंहटाएं
  7. इस आंगन बाड़ी में यूं ही बहारें आती रहें
    1500/1500000 की गिनती छू ले। हम गाते रहें, तुम जियो हजारो साल साल के दिन हो पचास हजार।
    बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएं सभी अनुगामियों को।
    आज का अंक बहुत सुंदर लगा शानदार प्रस्तुति करण। सुंदर लिंक ।
    सभी रचनाकारों को बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  8. बेहतरीन संकलन..1500 वें संकलन की आप सब को हार्दिक बधाई । इस संकलन को वटवृक्ष सदृश्य बनाने के लिए आप सब
    की मेहनत और लगन अपने आप में बहुत बड़ी उपलब्धि है ।

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत ही सुन्दर संकलन |1500 वें अंक की हार्दिक बधाई सभी चर्चा करो को |यह करवा यूँ ही बढ़ता रहा और नित नये आयाम को छूता रहे, यही दुआ है सृष्टि से |
    मुझे स्थान देने के लिए तहे दिल से आभार आदरणीय
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  10. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  11. बहुत सुंदर प्रस्तुति 1500 वे अंक की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं

    जवाब देंहटाएं
  12. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  13. 1500 वे अंक तक के सफ़र की हार्दिक बधाई और ढेर सारी शुभकामनाएँ
    यूँ ही हलचल मचाते रहिए
    सादर नमन

    जवाब देंहटाएं
  14. 1500 वें अंक के लिये बहुत बहुत बधाई की पात्र है

    जवाब देंहटाएं
  15. वाह बेहतरीन रचनाओं का संगम।एक से बढ़कर एक प्रस्तुति।
    BhojpuriSong.in

    जवाब देंहटाएं
  16. https://halchalwith5links.blogspot.com/2019/08/1499-99.html

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...