निवेदन।


फ़ॉलोअर

गुरुवार, 4 अप्रैल 2019

1357....सब होशियार... पिटारा खुल गया....

सादर अभिवादन। 

है 
नाम 
ग़ाएब 
मतदाता
चुनाव आया 
सब होशियार
पिटारा खुल गया।  
आइये अब आपको आज की पसंदीदा रचनाओं की ओर ले चलें -



मृगनयनी चंचल चपल 
 हैं नैन बड़े  विशाल 
 तेरे
पैनी उनकी धार से  जब करते कटाक्ष
हृदय विदीर्ण हो जाता |




कुछ जगहों पर हमेशा किसी का पाया जाना
वहां उसका रहना नहीं है  
मैं बार-बार वहीं चला जाता हूं 
जहां रहना चाहता हूं 
भले ही कोई मुझे किसी बस स्टैंड पर खड़ा देखे या
किसी बहुमंजिली इमारत की
एक छोटी कोठरी में दूसरे का दिया हुआ काम करते  



साथ जिंदगी का निभाया हमने
दुखों  को  ही साथी  बनाते रहे
...
प्रीत मांगी थी सजन तुमसे कभी
आंसुओं  से  नेह  बरसाते  रहे



Screenshot_20190403-101710_Google

 तपती  देह कराहता मरु 
      मुस्कुराते छाले 
    आओ  प्रिय !
           शुष्क मरु पर भाव सरिताएं उलीचें 



कुछ दिनों से पैदल चलने का मन हो रहा है. यह सड़कों से मेरे रिश्ते की बात है. बिना पैदल चले शहरों से रिश्ता नहीं बनता. बिना नंगे पाँव चले घास से रिश्ता नहीं बनता, बिना दूर जाए करीबी से रिश्ता नहीं बनता. बिना जार- जार रोये सुख से रिश्ता नहीं बनता. लकीरों का यह टूटकर गिरना सुखद है. 


हम-क़दम का नया विषय

यहाँ देखिए


रवीन्द्र सिंह यादव

9 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात..
    बेहतरीन अभिव्यक्ति के साथ
    सुन्दर आगाज..
    सादर...

    जवाब देंहटाएं
  2. पिरामिड जोड़ा रहे.. एक होने से अधूरा
    सुंदर संकलन

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ।

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत अच्छा संकलन, विशेष आभार संजय कुंदन जी की कविताएँ पढ़वाने के लिए।

    जवाब देंहटाएं
  5. उम्दा पठनीय लिंक संकलन... शानदार प्रस्तुतिकरण...।

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति 👌
    शानदार रचनाएँ, मुझे स्थान देने के लिए सहृदय आभार आदरणीय
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  7. बेहतरीन रचना संकलन एवं प्रस्तुति सभी रचनाएं उत्तम रचनाकारों को हार्दिक बधाई

    जवाब देंहटाएं
  8. बेहतरीन रचनाओं के संकलन,सभी रचनाकारों को बधाई।
    धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...