पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

सोमवार, 8 अगस्त 2016

388...जिसका मिलता नहीं जवाब कभी

सादर अभिवादन
भाई विरम सिंह ने कल की प्रस्तुति
काफी से अधिक वज़नदार बनाई थी
कल उनके मस्तक मे देवी सरस्वती का वास था

चलिए चलते हैं मेरी पसंदीदा रचनाओं की ओर...



तुम तक दिल के भावों को लाऊँ कैसे..... महेश चन्द्र गुप्त ’ख़लिश’
तुम तक दिल के भावों को लाऊँ कैसे
तुमसे उल्फ़त है ये समझाऊँ कैसे

शब्दों में जो पूछा वो तो समझा है
नज़रों का मतलब लेकिन पाऊँ कैसे

बेचारी बनी हिंदी.... विभा दीदी
सब समझौता माँ ही करती है न
हिंदी भी क्या करे संस्कृत की बेटी संस्कृत से संस्कार ली
सबके परिवर्तन को अपनाते जाओ
अस्तित्व ही मिटाते जाओ


सुबह शाम 
कैसे हो दोस्‍त कहे 
मेरा ये मित्र !

फरमा रहा है फख्र से ,ये मुल्क शान से ,
कुर्बान तुझ पे खून की ,हर बूँद शान से।

फराखी छाये देश में ,फरेब न पले ,
कटवा दिए शहीदों ने यूँ शीश शान से .

बचपन में इक दूजे की 
थाम उँगली चलना
खेलना -कूदना 
लडना -झगडना
एक ही खिलौने के लिए 
कभी शाला में 
गलती होने पर
एक -दूसरे को 
डाँट से बचाने की कोशिश


फिर उठा वो सवाल सकते हो....... लक्ष्मीनारायण ‘पयोधि’
मेरे अरमान फ़लक पर रोशन,
कोई पत्थर उछाल सकते हो.

जिसका मिलता नहीं जवाब कभी,
फिर उठा वो सवाल सकते हो.

कौवे जब नेता बन गए....जन्मेजय तिवारी
इनकी तपस्या से प्रसन्न होकर ब्रह्मा जी प्रकट हो गए और वरदान मांगने को कहा । वही बुजुर्ग कौवा हाथ जोड़ते हुए बोला, ‘प्रभु, आप हमें ऐसा वरदान दीजिए कि हमारा रूप-परिवर्तन हो जाए और हम इज्जत के पात्र बन सकें ।’ ‘तथास्तु ! अब जल्दी ही दुनिया तुम लोगों को मनुष्य-रूप में देखेगी । राज-नेता के रूप में नया अवतार होगा तुम सभी का ।’


आज बस इतना ही..
आज्ञा दें यशोदा को
सादर

9 टिप्‍पणियां:

  1. शुभप्रभात
    सस्नेहाशीष छोटी बहना
    शानदार प्रस्तुतिकरण
    मेरे लिखे को मान देने के लिए आभारी हूँ

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुप्रभात
    सादर प्रणाम
    यह तो आपका बड़प्पन है
    बहुत शानदार प्रस्तुति
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  3. शुभप्रभात...
    सुंदर संकलन...
    आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  4. मेरी रचना को इन सभी सुंदर रचनाओं के बीच स्थान देने के लिए बहुत -बहुत धन्यवाद यशोदा जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. मेरी रचना को इन सभी सुंदर रचनाओं के बीच स्थान देने के लिए बहुत -बहुत धन्यवाद यशोदा जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति ....

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...