पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

मंगलवार, 24 नवंबर 2015

129.......घर तेरा हो या मेरा छूट जाना है एक दिन

घर तेरा हो 
या मेरा 
छूट जाना है एक दिन 
हम गुम हो जायेंगे 
या तुम 
गुम हो ही जाना है !
-रश्मि दीदी

सादर अभिवादन....

चलिए चलते हैं सीधे रचनाओं की ओर...

















किताबों की दुनियां में
दिल में एक तन्हाई घर करने लगी 
बस गयी जब घर-गृहस्थी जिस्म की 

रूह की महफ़िल तभी सज पाती है 
जब उजड़ जाती है बस्ती जिस्म की 



सुधिनामा में
जनम दिया पालन किया, की खुशियाँ कुर्बान
बोझ वही माता पिता, कैसी यह संतान !

झुकी कमर धुँधली नज़र, है जीवन की शाम
जीवन के संघर्ष में, मिला कहाँ विश्राम !


अनकही बातें में
क्या हुआ जो 
कुछ मिला तो 
कुछ नहीं मिला, 
क्या हुआ जो 
कुछ खो गया तो 
कुछ छिन गया... 


उल्लूक टाईम्स में
कौन कहता है 
कुत्ता सोचना 
और कुत्ता हो जाने में 
कुछ अजीब होता है 
हर कुत्ते का 
अपना नसीब होता है
भौंकना सीखना 
चाहता हूँ इसलिये 
कुत्तों के बीच रहता हूँ 



ऑसन ऑफ ब्लिस में
कहीं मिले ज़िंदगी कहीं ज़िंदगी तले मौत जीतना है 
मिली किसी को हजार खुशियाँ कहीं मिली आज वेदना है 

नही मिली ज़िंदगी मुकम्मल यहाँ इसे ढूँढ़ते सभी जन 
मिले हमे ज़िंदगी जहाँ में कभी यही आज कामना है खिले 


अहसासों के सागर में....  
जीवन के विविध पड़ावों का धुंधलका मस्तिष्क में छाया हुआ है | 
कभी मेरे भीतर बसी दुनिया के बचपन में पंहुच जाती हूँ, 
कभी ‘टीनएज’ में, कभी २५ पार तो कभी ३५ के बाद की दुनिया 
भी दिखाई देने लगती है | हर बार कोई एक पड़ाव हावी होने लगता है.. 


कविता मंच में
थी  जो  गुलामी  की  अब  टूट  चुकी  हैं  वो  जंजीरें 
चंद  के  हाथों  से  लिखी  जाती  हैं  सरे  देश  की  तकदीरें 
और  पूरा  भारत  अब  इन्हिकी  मुठी  में  सिकुड़  रहा  है 
और  इसी  तरह  अपना  भारत  आगे  बढ़  रहा  है II


ये रही आज के अंक की अंतिम कड़ी..

भारतीय साहित्य एवं संस्कृति में
सात नदियों के मन्त्र का जप आप स्नान करते समय कर सकते हैं, 
इससे मनुष्य को पुण्य प्राप्ति के साथ-साथ मानसिक शांति का भी अनुव होगा।
गंगे    च    यमुने    चैव    गोदावरि     सरस्वती।
नर्मदे सिन्धु कावेरि जलेSस्मिन् सन्निधिं कुरू।।

आज्ञा दें यशोदा को
फिर मिलेंगे....











8 टिप्‍पणियां:

  1. सुंदर मंगलवारीय हलचल । आभार यशोदा जी 'उलूक' को भी स्थान देने के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आदरणीया यशोदा जी! अच्छे-अच्छे लिंक एक ही स्थान पर पढ़ने को मिले, मेरे लिंक को भी स्थान देने के लिए! धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही सुन्दर लिंक्स ! सारी रचनाएं लाजवाब ! मेरी प्रस्तुति को भी सम्मिलित करने के लिये आपका हृदय से आभार यशोदा जी !

    उत्तर देंहटाएं
  4. उम्दा लिंक्स से सजाया है आपने इसे |

    उत्तर देंहटाएं
  5. शुभ संधया...
    सुंदर लिंक संयोजन...
    देर से आ सका...
    आना तो था ही...
    आभार दीदी आप का...

    उत्तर देंहटाएं
  6. उम्दा लिंक्स से सजाया है .....सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...