पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

शनिवार, 14 नवंबर 2015

बाल दिवस



सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष



काश हम कभी बड़े नहीं हुए होते 
अपनों से गिले शिकवे नहीं हुए होते




आओ चाचा नेहरु आओ,
           सारे जहाँ को तुम बतलाओ ,
   खेल-खिलोने साथ छीन कर,
    क्यों सब हमे रुलाते है ,
भारी बस्तों और किताबो ,
में हमे उलझाते है ,




बचपन कितना सरल और भोला होता है..झूठ सच नहीं जानता || 
जिसने जैसा बताया मानता है  | 
विस्मित होता है किन्तु विश्वास करता है  
क्यूंकि उसके लिए दुनिया की हर चीज
 नयी और विस्मय से भरी होती है |




सुबह हुई नहीं कि दिमाग़ मे
शरारत का मीटर भागना शुरू!
शरारत मे मैं अपने
मोहल्ले का था गुरु!

कॉलेज तक मुझे भी चंडाल चौकड़ी का लिडिर कह देते थे शिक्षक 




आज जरूरत है कि बालश्रम और बाल उत्पीड़न की स्थिति से राष्ट्र को उबारा जाये। ये बच्चे भले ही आज वोट बैंक नहीं हैं पर आने वाले कल के नेतृत्वकर्ता हैं। उन अभिभावकों को जो कि तात्कालिक लालच में आकर अपने बच्चों को बालश्रम में झोंक देते हैं, भी इस सम्बन्ध में समझदारी का निर्वाह करना पड़ेगा कि बच्चों को शिक्षा रूपी उनके मूलाधिकार से वंचित नहीं किया जाना चाहिये।




पर वो माँग रहा रेडलाइट पे सिक्का
जिसके लिए होगा लाखों का खर्चा।
जिसके खातिर भर दिये अखबारों के पन्ने
बाँट रहा वो बेख़बर चौराहों पे पर्चा॥




इस  बाल-दिवस पर  मंचो से।
 लफ़्फाजी    होगी   बार - बार। 
जयकारों  से  घिर ,  नेतागण, 
भाषण     उगलेंगे    लगातार।। 



शायद कुछ के जवाब ही मिल जायेंगे  ? 
हम बाल दिवस को बच्चो के दिन के रूप में मानते है , 
तो क्या आज हमने बच्चों को बच्चा रहने दिया है ?

कल भी किसी के पास जबाब नहीं था 
कल भी किसी के पास कोई जबाब नहीं होगा


फिर मिलेंगे
तब तक के लिए 

आखरी सलाम


विभा रानी श्रीवास्तव


7 टिप्‍पणियां:

  1. शुभप्रभात...
    बाल दिवस पर सुंदर व सामाइक प्रस्तुति...
    आंटी आप का आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभ प्रभात
    पता नहीं क्यूँ
    हर रोज की तरह
    नींद ही नहीं खुली
    बाल दिवस पर
    हक तो बच्चों का ही होता है
    और ज़ुल्म -अन्याय भी बच्चों
    पर ही होता है
    शानदार प्रासंगिक प्रस्तुति
    साधुवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुंदर बाल दिवस चर्चा । नेहरू जी का नाम नहीं लेना है बस ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर हलचल .......बधाई |

    http://hindikavitamanch.blogspot.in/
    http://kahaniyadilse.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  5. आम आदमी का पैगाम ...

    पिछले कई सालों से धर्म सत्ता और राजनेतिक सत्ता मिल कर जनता का शोषण करती रही है .
    पता नही इंसान का कितना खून धर्म के नाम पर बहाया गया है .
    आज भी मंदिर मस्जिद के नाम पर इंसान को नफरत की घूटी पिलाई जा रही है .
    क्या मंदिर मस्जिद और धर्म के नाम पर लड़ने से रोजी रोटी का मसला हल हो जायेगा ?
    आज हमे आम आदमी को हिन्दू मुस्लिम के नाम पर बांटा जा रहा है और आपस में भाईचारे के बजाये नफरत के बीज बोये जा रहे है
    दुष्ट नेताओं को इस से क्या , उनको तो वोट बैंक की राजनेति करनी है .
    और कुछ लोग जो धर्म का चोला ओढ़े ..धर्म और अंधविश्वास की सीड़ी का उपयोग करके जनता को असली मुद्दे से भटकाने का काम कर रहे है ........
    जिसका फ़ायदा भृष्ट राज-नेता उठा रहे है. उनका मकसद भी यही है की जनता धर्म का चोला ओढ़े इन पाखंडियों के चक्कर में सोई रहे और यह भृष्ट नेता आम आदमी के वोट को लूट खसूट कर सत्ता पर काबिज रहे....
    हद तो तब हो जाती है जब हमारे लोकतंत्र का चौथा स्तम्ब कहलाने वाला मीडिया इन पाखंडी और धर्म के ठेकेदारों को जनता के समुख परस्तुत कर के जनता को धर्म के नाम पर नफरत की अफीम पिलाने का काम कर रहा है ..............यह सब क्या हो रहा है ?
    क्या यह सब आम आदमी को सुलाने का सोचा समझा षड्यंत्र नहीं है
    क्या आम आदमी को सुलाने के षड्यंत्र में सभी धर्मों के कुछ पाखंडी और मीडिया बखूबी
    शामिल नही है.?....आखिर कबतक हम एक दुसरे का खून सिर्फ धर्म के नाम पर बहाते रहेंगे
    आओ हम सब मिल कर विचार करें की यह कोनसी साजिश हो रही है
    हमे अपने दुश्मन और दोस्तों की पहचान हर हालत में करनी होगी
    दोस्तों आज हमारा हिन्दुस्तान बड़े ही नाजुक और खतरनाक दौर से गुजर रहा है .
    आओ अपने घरों से बाहर निकलें और अपनी जिम्मेदारी को पूरा करें ......
    और यह तभी होगा जब हम इनका जवाब सिर्फ #मोहब्बत_के_दंगों से देंगे ...तो आईये और जिम्मेदार नागरिक बनकर इस मुहीम में शामिल हो जाईये ............

    .यह एक आम आदमी की आवाज़ है .........MJ RAAJ

    उत्तर देंहटाएं
  6. suprabhat sundar links hai hardik abhar aapne hamen sthan diya

    उत्तर देंहटाएं
  7. बाल दिवस पर आपकी प्रस्तुती से हमे भी आपने स्कूल के दिन याद आ गये ।Seetamni. blogspot. in

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...