पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

मंगलवार, 3 नवंबर 2015

108......रोम-रोम खिल उठा मेरा

सादर अभिवादन स्वीकार करें
इन आँखों में 
आंसुओ की वजह 
चाहे जो भी हो ,,
पर ज़िन्दगी में 
मुस्कुराने की वजह 
सिर्फ आप ही हैं ...

चलिए एक नज़र आज की पसंदीदा रचनाओं की कड़ियों पर...



पहली खुशी
जब माँ के नर्म 
हांथो का हुआ था स्पर्श,
रोम-रोम खिल उठा मेरा,
बहुत खुश हुआ था मैं|


मैं कहना चाहता हूं, 
इक बात दीवाने से,
कुछ भी हासिल न होगा, 
व्यर्थ में आँसू बहाने से।
उसे तुझ से प्यार होता, 
तेरा जीवन तबाह न करती,


लाला बहुत परेशान था. 
उसने जगह-जगह फ़ोन करने के बाद फ़ैसला कि‍या कि‍ थाने जाना ही ठीक रहेगा. थानेदार को मि‍ला और अपनी आपबीती सुनाई कि‍ -‘साहब, मेरा सेल्‍समैन रामू मेरा तेइस लाख रूपया लेकर भाग गया. दो नंबर का पैसा नहीं था साहब, तीन दि‍न की बि‍क्री का पैसा था. 
इस कहानी का क्लाईमेक्स अवश्य पढ़िए..


रात चाँद को..
मैं खिड़की से देखती रही....
इक यही तो है,
जो हम दोनों को जोड़ता है..
इक दूसरे से...
तुम भी यूँ ही देखते होगे,



जिसकी एक नागा भी नागवार गुजरे ,
वो जब तक ना आये ,बैचैनी  बढ़ती 
जिसके आने से मिलती दिल को राहत ,
जिसका रास्ता ,रोज निगाहें है तकती
मुझसे भी ज्यादा मेरी बीबीजी को ,
इन्तजार होता है जिसके आने का 


दावानल सा
कैसे सहज, मधुर हो बोलूँ,
सौम्य आत्म कोई छलता है ।
वाणी से कुछ दूर दृष्टि में,
दावानल सा जलता है ।।


गहन थी
उदासी...
मन के
किसी कोने में...

वही कोना
जो दिए हुए था समूचा संबल
जीवन को
जीवन होने में...

इज़ाज़त दे यशोदा को
चलते-चलते सुनिए ये गीत




















7 टिप्‍पणियां:

  1. लघुकथा को भी सम्मिलित करने के लिए आपका आभार जी

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभ प्रभात
    सस्नेहाशीष छोटी बहना
    108 जाप के मनके
    लिंक्स उम्दा आपके मनके

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बढ़िया सूत्र संयोजन सुंदर प्रस्तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर हलचल ....मेरी रचना "पहली खुशी" को इस चर्चा में स्थान देने के लिए आभार |

    उत्तर देंहटाएं
  5. उम्दा पोस्ट ... यशोदा जी
    जब व्रत के लिए सेठजी ने पुत्र को भोजन में परोसा http://raajputanaculture.blogspot.com/2015/11/blog-post_2.html

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति
    आभार!

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...