समर्थक

शुक्रवार, 9 अक्तूबर 2015

चली प्रिय-मिलन-स्थल की ओर... अंक तिरासी में

सादर अभिवादन..
पितृ-पक्ष समाप्ति की ओर...

कितनी जल्दी गुजरते हैं
ये दिन भी...
साल की शुरुवात होते ही
साल के समापन की बेला
पहुँचने लगती है....

होता है और होता ही रहेगा...
चलिए चलते हैं आज की कड़ियों की ओर..

जग की बहुत देख ली हलचल
कहीं न पहुँचे कहते हैं,
पाया है विश्राम कहे मन
हम तो घर में रहते हैं !


गमलों मे पानी देते हुये
मुझे लगा
पत्तियाँ मुझसे कुछ बोलना चाहती है 
मैंने अपने कान  पास कर दिये 
आवाज आई धन्यवाद 
कई दिनों से प्यास लगी थी 
धमनियों मे भी  रक्त संचार हो गया 
मैं आभारी हूँ 


ढेरों सात्विक अंलकारों संग 
हवा रोशनी ध्वनि  से भी तेज़ भागते मन को थामें   
सूरजमुखी से खिले फूल सी 
चली प्रिय - मिलन- स्थल की ओर   
पूरे चाँद की छाँह तले


शीशे की सुराही में -- नज़रों की शराब है ...
बरसों की राहें चीरकर 
तेरा स्वर आया है 
सस्सी के पैरों को जैसे 
किसी ने मरहम लगाया है ...



बाजुओं में अपनी, तू बल जगा ,
किसान का वंशज है, हल लगा। 
फटकने न दे तन्द्रा पास अपने,
आलस्य निज तन से पल भगा।  
किसान का वंशज है, हल लगा।।  


बेटियाँ हों ना अगर तो बहु मिलेगी फिर कहाँ
कौन सी दौलत बड़ी है इस परी के सामने

बंदगी जब की खुदा की हौसले मिलते गए
झुक न पाया सिर मिरा फिर तो किसी के सामने


अपने थे
देना था  -
कुछ वक़्त, कुछ ख्याल 
लेकिन,
इस देने में मैं रह गया खाली 
हँसी भी गूँजती है खाली कमरे सी !
मैंने सबको बहुत करीब से देखा 



आज का अंक यहीं तक..
फिर मिलेंगे....
आज्ञा दें यशोदा को
चलते-चलते ये गीत सुनते चलिए













4 टिप्‍पणियां:

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...