पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

शुक्रवार, 23 अक्तूबर 2015

गाढ़ी नींद हो या पूरी बेहोशी....अंक संत्यानब्बे

रोता वही है 

जिसने महसूस किया हो 

सच्चे रिश्ते को..

वरना.... 

मतलब के रिश्तें 

रखने वाले को तो 

कोई भी ....

नही रूला सकता..


ये रही आज की पसंदीदा रचनाओं की कड़ियाँ....



तुम नौकरी में थे
तुम्हारी व्यस्तता छीन लेती थी
मेरे हिस्से का वक्त
देर रात लौटते ही
नींद का खुमार तुम पर छा जाता था


गाढ़ी नींद हो या पूरी बेहोशी ...
अगर प्राणी प्राणडोर से बँधा हो तो
उसके जागने की संभावना बनी रहती है।
प्राण निकल गये हों तो अन्य उसे
मृत हुआ जान लेते हैं।


यहीं कहीं तो था.. अब नज़र नहीं आता,
सिर्फ ठिकाने मिलते हैं, कभी घर नहीं आता ।

कैसे बताऊँ किस मुश्किल से आ पहुंचा हूँ!
मुसाफिर के साथ चलकर सफ़र नहीं आता ।


किसी की परवाह करूँ तो मुसीबत बढ़ सी जाती है
कोई मेरी परवाह करे तो बेचैनियाँ बढ़ सी जाती है
चाहता हूँ जीवन में रहूँ अकेले, कुछ याद किये बगैर      
सोचूं अलग तो कैसे जिन्दगी उदास जो हो जाती है



रामलीला इतना आसान नहीं मेरे भाई
ना ही कोई तमाशा है
जिसे कहीं भी किया जाए
किसी को भी पात्र बना दिया जाए !
त्यौहार मनाना ही चाहते हो
तो रावण का ही एक अंश अपने भीतर जगाओ
सीता की इच्छा का मान रखो


शव का इंतजार नहीं 
शमशान का खुला 
रहना जरूरी होता है
हाँ भाई हाँ 
होने होने की 
बात होती है 

ये रही आज की अंतिम कड़ी....

अदम गोंडवी  
आइए महसूस करिए ज़िन्दगी के ताप को
मैं चमारों की गली तक ले चलूँगा आपको

जिस गली में भुखमरी की यातना से ऊब कर
मर गई फुलिया बिचारी एक कुएँ में डूब कर

किसी श़ायर ने लिखा है...यूँ

हुआ था शोर पिछली रात को दो चाँद निकले है,
बताओ क्या जरूरत थी तुम्हे छत पर टहलने की.

सोमवार को शरद पूर्णिमा है और
उसी दिन इस ब्लाग की 100 वीं प्रस्तुति
भी आएगी..

सोच रही हूँ कि हम पाँचों चर्चाकार एक
सम्मिलित प्रस्तुति दें...


अब इज़जात दें यशोदा को....























5 टिप्‍पणियां:

  1. शुभप्रभात...
    दशहरे के व्यस्तता के चलते भी सुंदर लिंक चयन किया है दीदी आपने...

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर प्रस्तुति । आभार 'उलूक' का सूत्र 'शव का इंतजार नहीं शमशान का खुला रहना जरूरी होता है' को स्थान देने के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति हेतु आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  4. मुनव्वर राना : बेइज्जती हो गई
    एक शख्स जिसे शायरी में महारत हासिल है अचानक से TV बेहतरीन तरीके से डिबेट करके अपना सम्मान वापस कर देता है इस बिना पर की
    “अगर दंगाइयों पर तेरा बस नहीं चलता
    तो सुनले ऐ हुकूमत हम तुझे नामर्द कहते है “
    जिसके बाद कई लोगों ने उनकी तारीफ की यह भूल कर की यह वही शख्स है जिसने कुछ दिन पहले लेखकों और कवियों को ‘ थके हुए लोग‘ कह कर आलोचना की थी .
    अब अचानक से वही शख्स अपने सुर बदल लेता है उसी हुकूमत के रहनुमाओं के जूते तक उठाने को तैयार हो जाता है संवाद करने को तैयार हो जाता है और काबिल–ऐ-गौर बात यह है की हुकूमत के बुलावे पर अपनी टोली को (साहित्यकारों) छोड़कर चल देता है जो पग पग इनके साथ खड़ी थी
    “मुनव्वर साहब” बड़ी बेइज्जती करा दिए भाई कौम को बेचने का आरोप आज तक नेताओं पर लगता था लेकिन इन्होने तो सारी हदे पार कर दी
    ....
    “कहने को सिर्फ हुकूमतें ही नामर्द नहीं होती साहेब
    .नामर्द है वो भी साथ छोड़ दे जो मंजिल से पहले”
    .
    .स्थान दीजिये हो सके तो

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...