पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

शुक्रवार, 2 अक्तूबर 2015

सम्राट चन्द्रगुप्त की विदेशी पत्नी हेलेना.....छिहत्तरवें अंक में

आज महात्मा मोहनदास करमचंद गाँधी जी की जयन्ती है
शत् शत् नमन


सादर अभिवादन...


अगर चाणक्य जीवित रहते तो
भारत में विदेशी राजा कभी भी

राज्य कर ही नही सकता...

आचार्य चाणक्य का लोहा
सच मेंं मानना ही पड़ता है
सदियों पहले आचार्य चाणक्य ने
एक सशर्त विवाह करवाया..

सम्राट चन्द्रगुप्त का....

चलिये चलते हैं कड़ियों की ओर...


सम्राट चन्द्रगुप्त की विदेशी पत्नी हेलेना 
यूनानी आक्रमणकारी सेल्यूकस चन्द्रगुप्त मौर्य से हार गया था उसकी सेना बंदी बना ली गयी। तब उसने अपनी खूबसूरत बेटी हेलेना के विवाह का प्रस्ताव चन्द्रगुप्त के पास भेजा । हेलेन बेहद खूबसूरत थी । आचार्य चाणक्य ने उसका विवाह सम्राट चन्द्रगुप्त से कराया।


बिटिया
मुस्कान तेरी ऐ बिटिया
रखूँ पलको मे छुपाके
तेरे खुशी की खातिर
ये दुनिया रखूँ सजा के


ले लिया मौसम ने करवट
व्योम से बादल गए हट
कनक-नभ से विहग बोले
‘तल्प-प्रेमी'  उठो झटपट
ले लिया मौसम ने करवट


वो कभी भी दिल से दूर नहीं रहा, 
ज़रा भी नहीं। 
बमुश्किल ही कोई ऐसा दिन बीता होगा 
जब उसकी याद में खोई ना रही हो। 
झुंझलाहट, बड़बड़ाना, अपने से बतियाना, 


तुम्हारा इंतज़ार है...
मेरा शहर अब मुझे आवाज़ नहीं देता   
नहीं पूछता मेरा हाल 
नहीं जानना चाहता  
मेरी अनुपस्थित की वजह


सांध्यकालीन निशा ने 
अपनी धुन में मस्त 
निर्झरणी से पूछा ---- 
लोग आते हैं 
डुबकी लगाते हैं  और 
चले जाते हैं ---
उनका ये कृत्य 
तुम्हारे दिल को नहीं दुखाता ?


चल पड़े जिधर दो डग, मग में, चल पड़े कोटि पग उसी ओर
पड़ गई जिधर भी एक दृष्टि, पड़ गये कोटि दृग उसी ओर;
जिसके सिर पर निज धरा हाथ, उसके शिर-रक्षक कोटि हाथ
जिस पर निज मस्तक झुका दिया, झुक गये उसी पर कोटि माथ।



और अंत में बापू को पुनः नमन
के साथ इज़ाज़त मांगती हूँ

यशोदा











5 टिप्‍पणियां:

  1. शुभप्रभात...
    सुंदर लिंक चयन किया है दीदी आपने...
    आभार आपका।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति में मेरी ब्लॉगपोस्ट शामिल करने हेतु आभार!
    बापू-शास्त्री जी की जयंती की सभी को हार्दिक बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  3. धन्यवाद यशोदा जी ----- सही कहा....अगर चाणक्य जीवित रहते तो
    भारत में विदेशी राजा कभी भी
    राज्य कर ही नही सकता...

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...