पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

मंगलवार, 6 अक्तूबर 2015

नफ़रतें छोड़ कर मिला कोई.... अंक अस्सी

सादर अभिवादन....
शतक से अधिक दूर नहीं
बस ये हुआ ही समझिए..

ये रही आज की पसंदीदा रचनाओ की कड़ियां...


सिलसिला आज तो जुड़ा कोई
नफ़रतें छोड़ कर मिला कोई

आसरो से बँधा रहा जीवन
मोगरा डाल पर खिला कोई


हमारा बन के हम में ख़ुद समा जाने को आतुर हैं।
हृदय के द्वार खुल जाओ–किशन आने को आतुर हैं॥

अगर हम बन सकें राधा तो अपने प्रेम का अमरित।
किशन राधा के बरसाने में बरसाने को आतुर हैं॥


ये काली घनी अँधेरी रात
उनकी यादो की बारात ,
चाहे से ना जिन्हें भूल सके
आती है याद हर एक बात।।


"देखो - सब उन्हें ही घेर रहे हैं.
बुद्धिजीवी, मास्टर, पत्रकार, कवि और मानवाधिकार वाले
सभी हत्यारों को ही दोषी क्यों ठहरा रहे हैं?
यह कहाँ का न्याय है?
आख़िर जो मारा गया - उसका भी तो दोष रहा ही होगा?"


अपने मुक़द्दर में नहीं.. 
मंदिरों में आप मन चाहे भजन गाया करें, 
मैकदा ये है यहाँ तहज़ीब से आया करें। 
रात की ये रौनकें अपने मुक़द्दर में नहीं, 
शाम होते ही हम अपने घर चले आया करें। 


अंधेरों के पीछे के अँधेरे भी 
उतने ही घनेरे होते हैं 
ये जानकर होने लगता है अहसास 
भविष्य की कछुआ चाल का 
जिसमे न गति होगी न रिदम न संगीत 
न सुर न लय न ताल 


और अंत में एक दिन पुराने अखबार की एक कतरन
में लिखी बातें........
हो गया शुरु 
तुम्हारा भी 
देश निकाला 
आ गई है खबर 
सरकार ने सरकारी 
आदेश है निकाला 
‘गाँधी आश्रम’ के 
सूचना पटों से 
अभी निकाले जाओगे .


प्राची की लाली,मेरी पेशानी से होते
गालों को चूमते ,गर्दन तक  उतर जाती है
मैं उस स्निग्ध लालिमा की
रक्तिम आभ में अक्षय ऊर्जा से
भर जाती हूँ और  महसूस करती हूँ



आज्ञा दें यशोदा को...

















4 टिप्‍पणियां:

  1. शुभप्रभात....
    अति उत्तम संकलन...

    आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर प्रस्तुति हलचल सौ की ओर बढ़ती हुई । आभार 'उलूक' का यशोदा जी सूत्र 'गाँधी बाबा देखें कहाँ कहाँ से भगाये जाते हो और कहाँ तक भाग पाओगे' को जगह दी।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बढ़िया हलचल प्रस्तुति ......आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  4. अपने ब्लॉगर.कॉम ( www.blogger.com ) के हिन्दी ब्लॉग का एसईओ ( SEO ) करवायें, वो भी कम दाम में। सादर।।
    टेकनेट सर्फ | TechNet Surf

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...