पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

गुरुवार, 6 अगस्त 2015

आनन्द का उन्नीसवां सफ़ा...

ठान लिया था कि, अब और....
नहीं लिखेंगे......
वो दिखाई दी... 
और तत्काल अल्फ़ाज़ों
ने करवट बदल ली....
सोचा...
पानी मे रहकर
.....
कौन बैर मोल लेगा









चलते हैं ....आप भी आइये न...


शशि पुरवार
आजकल व्यंग विधा अच्छी खासी प्रचलित हो गयी है. 
व्यंगकारों ने अपने व्यंग का ऐसा रायता फैलाया है, 
कि बड़े बड़े व्यंगकार हक्के बक्के रह गए, 
अचानक इतने सारे व्यंगकारों का जन्म कैसे हुआ,


सुशील कुमार जोशी  
कुर्सी में बैठा 
एक बड़ा चोर 
घिरा हुआ 
चारों ओर से 
सारे के सारे चोर 
तू भी चोर 
और मैं भी चोर 


चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ 
ज़ुरूरत है मुहब्बत का तराना गुनगुनाने की
हर इक सोए हुए जज़्बात को फिर से जगाने की

बहुत बेताब हो जाता हूँ नख़रों से तिरे हमदम
मुझे अब मार डालेगी अदा ये रूठ जाने की



रजनी मल्होत्रा नैय्यर
दे-दे के वास्ता सीता का हर बार 
अपनी तमन्नाओं को लोग सुलाते रहे

दहलीज़ से निकलकर ना छोड़ी लाज 
दायरे में बंधे आते - जाते रहे लांघते रहे 


और आज की अंतिम पसंदीदा ग़ज़ल


इस्मत ज़ैदी..
उन की आहट 
सिमटा घूँघट

ये कौन आया 
मन के चौखट


दीजिये विदा
-दिग्विजय
















6 टिप्‍पणियां:

  1. हा हा बहुत बढ़िया :)
    अब हम भी रायता ही फैला रहे हैं
    खाने वाले सारे इसी लिये शायद यहाँ से
    धीरे धीरे गायब होते नजर आ रहे हैं
    बहुत सुंदर प्रस्तुति । आभारी हूँ पाँच सूत्रों में 'उलूक' के रायते को भी जगह देने के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आनन्द आ गया आज
    सच में
    सुशील भैय्या को
    कुर्सी पर बिठा दिया आपने
    अब देखना....
    सुशील भैय्या
    आपका क्या हाल करते हैंं

    उत्तर देंहटाएं
  3. क्‍या बात बहुत ख़ूब दिग्‍विजय जी मेरा लिंक यहां देने के लिए बहुत बहुत आभार आपका

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मुझे इतने अच्छे साहित्यकारों के साथ शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद

      हटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...