निवेदन।

*हम अपने पाठकों का हर्षित हृदय से सूचित कर रहे हैं कि शनिवार दिनांक 14 जुलाई, रथयात्रा के दिन हमारे ब्लॉग का तीसरा वर्ष पूर्ण हो रहा है, साथ ही यह ब्लौग अपने 11 शतक भी पूरे कर रहा है, इस अवसर पर आपसे
आपकी पसंद की एक रचना की गुज़ारिश है, रचना किसी भी विषय पर हो सकती है, जिससे हमारा तीसरी वर्ष यादगार वर्ष बन जाएगा* रचना दिनांक 13 जुलाई 2018 सुबह 10 बजे तक हमे इस ब्लौग के संपर्क प्रारूप द्वारा भेजे।
सादर


समर्थक

शुक्रवार, 14 अगस्त 2015

अच्छा संकेत है देश अच्छी दिशा में जा रहा है.......अंक सत्ताईस

सादर अभिवादन बाद में
पहले एक सही 

और सटीक
समाचार है कि
अच्छा संकेत है देश अच्छी दिशा में जा रहा है
सत्ता ईशों का कथन ऐसा ही है....

सादर अभिवादन...

चलिए चलें..... आगे बढ़ें..


छोटे छोटे टांको से 
दर्द की तुरपाई की
खिलखिलाहट पैच
दरके की भरपाई की


बादल...
धूप...
पवन...

बारिश...
छाँव...
सिहरन..


अच्छा संकेत है 
देश अच्छी दिशा 
में जा रहा है 
‘उलूक’ की आदत है 
लिखे जा रहा है 
क्या फर्क पड़ता है 
कौन पढ़ने आ रहा है । 


सोच बात नई उड़ान की, 
नए ख्बाव बुन 
मेरे अल्फ़ाज़ों पर न जा, 
तू मुझको सुन । 


नही सुलझा पायी,
उन उलझनों को जिसमे..
तुम उलझा कर गये थे...
बंध सी गयी उन उलझनों में,


आज्ञा दीजिए....
देवी जी अपने 

स्वास्थ्य फॉलो-अप के लिए
चेन्नई गई हुई है
संभवतः सोमवार को फिर मिलेंगे

स्वतंत्रता दिवस की अग्रिम शुभकामनाएँ..
-दिग्विजय













6 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात आदरणीय
    छोटी बहना का ख्याल रखने का सादर अनुरोध

    एक से बढ़ कर एक लेखन के बीच खुद के लिखे को पाकर हर्षित हूँ

    बहुत बहुत धन्यवाद आपका

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर लिंकों का चयन....
    आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुंदर प्रस्तुति । आभार दिग्विजय जी ‘उलूक’ की आदत है लिखे जा रहा है क्या फर्क पड़ता है कौन पढ़ने आ रहा है को जगह देने के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. स्वतंत्रता दिवस की अग्रिम शुभकामनाएँ...!!

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...