पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

मंगलवार, 11 अगस्त 2015

और भी है खूबसूरत है ..........चौबीसवां अंक

शुभ प्रभात...
ख़ूबसूरत है वो मुस्कराहट 
जो दूसरों के चेहरों पर भी मुस्कान सजा दे 
ख़ूबसूरत हैं वो जज्बात जो किसी का एहसास करें 
ख़ूबसूरत है वो एहसास जो किसी के दर्द मे दवा बने 
ख़ूबसूरत हैं वह बातें जो किसी का दिल न दुखाएं 
मैं न जानू की कौन हूँ मैं,
लोग कहते है सबसे जुदा हूँ मैं

ये रहे आज की पसंदीदा लिंक्स.....


मैनें रेखाचित्र बनाये,
जगह जगह से कर एकत्रित, 
आकृतियों के ढेर सजाये ।


आज, जो ये आज है 
कल नहीं रह जाएगा। 
बारिश के बादलों सा 
कुछ बरसेगा 
कुछ रह जाएगा॥ 


इश्क में तेरे
बदल लिया है वेश
फिरते हैं दर दर
तलाश में तेरी


बहुत सा बहुत कुछ 
और भी है खूबसूरत है 
खूबसूरती से उतारता है 
खूबसूरत लफ्जों को 
लिखा हुआ हर तरफ 
सभी कुछ खूबसूरत 
और बस खूबसूरत 
सा नजर आता है 


मुझे आज भी याद है,
वो खामोश सी शाम...
ना जाने कितने ही..
अफ़साने छिपाये गुजरती,
जा रही थी..
वो खामोश सी शाम....


सफ़र में मुश्किलें आयें, 
तो जुर्रत और बढती है ,
कोई जब रास्ता रोके , 
तो हिम्मत और बढती है....

इज़ाज़त दीजिए यशोदा को....

अंत में एक गीत..



















5 टिप्‍पणियां:

  1. सुंदर 24वाँ अंक । आभार यशोदा जी 'उलूक' के सूत्र 'समझ में आता है कभी शुतुरमुर्ग क्यों रेत में गरदन घुसाता है' को पाँच में स्थान देने के लिये ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. शुभप्रभात....
    सुंदर लिंकों का संकलन....

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर हलचल प्रस्तुति
    आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  4. bhaut bhaut dhanaywaad mam... jo apne 5 links me mujhe sthan diya aur sarhAana ki....

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...