निवेदन।


फ़ॉलोअर

मंगलवार, 27 जुलाई 2021

3102 ...कुर्सी ख़तरे में है तो प्रजातन्त्र ख़तरे में है

सादर अभिवादन
भाई कुलदीप जी का मैसेज आया
वे कहीं बाहर हैं...
बस इतना काफी है
प्रस्तुति तो लगनी ही है
सो लग गई...
आइए पढ़़ें....

संवेदनहीनता का तो यह आलम था कि इसका एक वेतन भोगी स्तंभकार व्यवस्था की बुराइयां गिनाने में ही इतना मशगूल रहता है कि उसके द्वारा अपने साथी कलमकारों के निधन पर श्रद्धांजलि के दो शब्द तक व्यक्त नहीं किए गए ! वहीं मेहमान लेखकों को मानदेय देने में सदा लापरवाही बरती जाती रही है ! किसी का चेक बाउंस हो जाता था, किसी से हफ़्तों लिखवा भुगतान नहीं किया जाता, अनाप-शनाप कमाई होने के बावजूद !



संभव नहीं
तुम्हारा आना,
बुला लो मुझे
अपने पास
ख़त्म हो यातना का दौर
वरना
भटकता रहेगा
निरुद्देश्य जीवन
एक टूटे पत्ते की तरह
समय की आंधी में
थपेड़े खाता हुआ।


दोस्तों की दोस्ती से
है रोशन जहाँ मेरा
साथ हँसना ..
साथ रोना ...
हर कदम पर ,
साथ देना ,
चाहे दुख हो
या हो सुख


खीर बोले तो ज्यादातर घरों में चावल या साबुदाने की ही बनाई जाती है। लेकिन आज हम बनायेंगे स्वीट कॉर्न खीर sweet corn kheer स्वीट कॉर्न के भुट्टे को कद्दुकस करके बनाई गई स्वीट कॉर्न खीर का स्वाद सभी को बहुत पसंद आएगा। इसके पहले मैं ने स्वीट कॉर्न की कुछ रेसिपी जैसे कि मकई के दानों की इडली, मकई उपमा, मकई चीला और भुट्टे के पकौडे शेयर की थी।


तेरे चेहरे का ये तिल, बड़ा प्यारा सा लगता था,
तेरा दिल भी बड़ा, न्यारा सा लगता था।
करता हूँ अठखेलियां उलझी लटों से,
तो ये सपना भी आवारा सा लगता था।

कहने को तो कयामत थी तेरी ये अदाएं,
पर फिर भी न जाने क्यों झटका सा लगता था,
शायद डर यही था कि तुझे कहीं खो न दूँ,
बस इसी वजह से कुछ कह न पाता था।


कुर्सी की महिमा
बखानने का
यह एक थोथा प्रयास है
चिपकने वालों से पूछिये
कुर्सी भूगोल है
कुर्सी इतिहास है।


11 टिप्‍पणियां:

  1. सुप्रभात🙏🙏
    इतनी जल्दी आकर्षक अंक सजाने के लिए आपका आभार,ऊपर से ज्योति जी की खीर जैसी स्वीट डिश,आनंद आ गया।
    आप की ऊर्जा यूं ही बनी रहे। बहुत शुभकामनाएं,सादर नमन।

    जवाब देंहटाएं
  2. वाह!खूबसूरत प्रस्तुति । मेरी रचना को स्थान देने हेतु हृदयतल से आभार यशोदा जी ।

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर प्रस्तुति। मेरी रचना को पांच लिंको का आनंद में शामिल करने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद, यशोदा दी।

    जवाब देंहटाएं
  4. बढ़िया लिंको से सजी सुंदर प्रस्तुति। आदरणीया यशोदा जी के साथ-साथ सभी रचनाकारों को हार्दिक बधाई और शुभकामनायें।

    जवाब देंहटाएं
  5. रचना को शामिल कर मान देने हेतु अनेकानेक धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत अच्छी हलचल प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  7. अति सुन्दर प्रस्तुति के लिए हार्दिक बधाई ।

    जवाब देंहटाएं
  8. 'पांच लिंकों का आनंद' में मेरी कविता को स्थान देने के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद एवं आभार यशोदा अग्रवाल जी 🙏

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत सुंदर हलचल प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...