निवेदन।


फ़ॉलोअर

सोमवार, 22 फ़रवरी 2021

2047 ..कूदना छोड़, उड़ना सीख मेंढक, बखत पड़े तो तैर भी लिया कर

सादर नमस्कार
रविवार का दिन
लोगों की आवा-जाही में बीत जाता है
हम ठाले-बैठें करें को का करें
चलिए पिटारा ही जमा लेते हैं
देखिए आज क्या है .....

द्रोपदी के मन में भी
कभी सम्मानित न हुए होंगे
उसके मन में तो हमेशा ही
कुछ तीक्ष्ण प्रश्न रहे होंगे  
यूँ तो तुम
कहलाये धर्मराज
लेकिन एक बात बताओ आज
जब तुम स्वयं को
हार चुके थे
जुए के दाँव पर
फिर क्या अधिकार बचा था
तुम्हारा  द्रौपदी पर  ?


ज़िन्दगी भर मैं हिन्दू बना रहा,
पर ज़रूरी नहीं कि मृत्यु के बाद
मेरा शरीर भी हिन्दू बना रहे.

मेरी मौत के बाद
मेरा शरीर थोड़ा जला देना,
थोड़ा दफना देना,
थोड़ा चील-कौवों को खिला देना.


कभी चंचल चपल हिरनी जैसी
दौड़ती फिरती थी  बागानों में
अब उसे अब देख  मन में  ईर्षा होती
क्यूँ न मैं ऐसी रही अब |
इतनी जीवन्त न हो पाई
बिस्तर पर पड़े पड़े मैंने
लम्बा  समय काटा दिया है
अब घबराहट होने लगती है |


जब भी कोई
पेड़
जलता है
तो केवल
उसका शरीर नहीं झुलसता
साथ झुलसते हैं
संस्कार
जीवन
उम्मीद
और भरोसा।
जले हुए
पेड़ के जिस्म की गंध


उलूक -नामा
मन ही मन
अपने कूदने की लम्बाई भी
भूलते जा रहे थे

बेचारों को
याद भी नहीं रह पा रहा था
कि
नम्बर एक और नम्बर दो करने भी
अभी तक वो लोग
खेतों की ओर ही तो जा रहे थे

कितने कुऎं से बना होता होगा
वो समुद्र
जहाँ से उनके राजा जी यहाँ आ रहे थे
....
इज़ाज़त दें
सादर


14 टिप्‍पणियां:

  1. बहुतै शानदार..
    आज संगीता दीदी भी है
    कम लिखती है आजकल
    जब भी लिखती है..
    यादगार रचना ही लिखती है
    आभार..
    सादर..

    जवाब देंहटाएं
  2. सभी अच्छी रचनाएं हैं..। आभार आपका

    जवाब देंहटाएं
  3. सुन्दर लिंक्स से सजा आज का अंक |मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार सहित धन्यवाद |

    जवाब देंहटाएं
  4. सुन्दर लिंक्स.मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार.

    जवाब देंहटाएं
  5. वाह!खूबसूरत प्रस्तुति ।

    जवाब देंहटाएं
  6. शुक्रिया , मुझे शामिल करने के लिए । यशोदा जी याद रखने के लिए आभार ।

    जवाब देंहटाएं
  7. सभी को शुभकामनाएं ! स्वस्थ रहें, प्रसन्न रहें

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...