निवेदन।


फ़ॉलोअर

शनिवार, 24 अक्तूबर 2020

1924... नारी/शक्ति

 

सभी को यथायोग्य

प्रणामाशीष

आज मान्या व माया बेहद उत्साहित थीं। उनकी बेटी मेहा के लिए सेना सेवा कोर में स्थायी कमीशन हेतु मंजूरी पत्र उनके हाथों में था और तीनों के नेत्र संगम का दृश्य बनाने में सफल हो रहे थे।

‘ स्त्रीत्व’ सांस्कृतिक निर्मित है, स्त्रीवाद राजनीतिक दृष्टि एवं लक्ष्यों की अभिव्यक्ति तो ‘स्त्री’ लिंगाधारित शारीरिक पहचान का प्रतीक है।
(पृष्ठ 8, स्त्री-साहित्य के इतिहास लेखन की समस्याएं, स्त्रीवादी साहित्य विमर्श, लेखक: जगदीश्वर चतुर्वेदी)


नारी/शक्ति



नारी/शक्ति

नारी/शक्ति

मज़ा आता


><><><><><><

पुनः भेंट होगी...

><><><><><><

5 टिप्‍पणियां:

  1. दुर्गानवमी
    माता रानी की कृपा सब पर बरसे..
    सादर नमन..

    जवाब देंहटाएं
  2. महत्वपूर्ण अंक..
    आभार..
    सादर नमन..

    जवाब देंहटाएं
  3. दुर्गानवमी के अवसर पर बहुत ही सुंदर प्रस्तुति। हर स्त्री अपने भीतर की दुर्गा को जागृत करे तो नवरात्रि का पर्व मनाना सार्थक होगा।
    सुंदर प्रस्तुति के लिए हृदय से आभार व आप सबों को सादर प्रणाम।

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...