निवेदन।


फ़ॉलोअर

रविवार, 8 मार्च 2020

1696....मैं गाँधारी नहीं बनूंगी, नेत्रहीन पति की आँखे बनूंगी

जय मां हाटेशवरी.....
पांच लिंकों का आनंद परिवार की ओर से......
आप सभी को महिला दिवस की शुभकामनाएं.....

मै नहीं राधा बनूंगी,
मेरी प्रेम कहानी में,
किसी और का पति हो,
रुक्मिनी की आँख की
किरकिरी मैं क्यों बनूंगी
मै नहीं राधा बनूँगी।

मै सीता नहीं बनूँगी,
मै अपनी पवित्रता का,
प्रमाणपत्र नहीं दूँगी
आग पे नहीं चलूंगी
वो क्या मुझे छोड़ देगा
मै ही उसे छोड़ दूँगी,
मै सीता नहीं बनूँगी।

मै न मीरा ही बनूंगी,
किसी मूरत के मोह मे,
घर संसार त्याग कर,
साधुओं के संग फिरूं
एक तारा हाथ लेकर,
छोड़ ज़िम्मेदारियाँ
मैं नहीं मीरा बनूंगी।

यशोधरा मैं नहीं बनूंगी
छोड़कर जो चला गया
कर्तव्य सारे त्यागकर
ख़ुद भगवान बन गया,
ज्ञान कितना ही पा गया,
ऐसे पति के लिये
मै पतिव्रता नहीं बनूंगी
यशोधरा मैं नहीं बनूंगी।

उर्मिला भी नहीं बनूँगी
पत्नी के साथ का
जिसे न अहसास हो
पत्नी की पीड़ा का ज़रा भी
जिसे ना आभास हो
छोड़ वर्षों के लिये
भाई संग जो हो लिया
मैं उसे नहीं वरूंगी
उर्मिला मैं नहीं बनूँगी।

मैं गाँधारी नहीं बनूंगी
नेत्रहीन पति की आँखे बनूंगी
अपनी आँखे मूंदलू
अंधेरों को चूमलू
ऐसा अर्थहीन त्याग
मै नहीं करूंगी
मेरी आँखो से वो देखे
ऐसे प्रयत्न करती रहूँगी
मैं गाँधारी नहीं बनूँगी।

मै उसी के संग जियूंगी,
जिसको मन से वरूँगी,
पर उसकी ज़्यादती
मैं नहीं कभी संहूंगी
कर्तव्य सब निर्वाहुंगी
बलिदान के नाम पर
मैं यातना नहीं संहूँगी
मैं मैं हूँ मै ही रहूँगी

वो सब बहुत महान थी,
शायद मैं उतनी महान नहीं .......
अब पेश है.....आज के लिये मेरी पसंद....


आखिर कब तक ...

भोग वासना, मन के कीड़े
कैंसर का उपचार करो
जो नारी की अस्मत लुटे
वह रावण संहार करो
दूजों की कुंठा का प्रतिफल
आपद से गुजरती बेटियाँ
आखिर कब तक दर्द सहेंगी
क्यों मरती रहेंगी बेटियां
 

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर
किसी के लिए भी ज़िन्दगी आसान नहीं होती,
हमें विश्वास रखना चाहिए कि
हमारे अन्दर भी कोई हुनर छिपा है,
जिसे खोजना अनिवार्य है.

-ओप्रा विन्फ्रे

मलिका की तरह सोचिए.मलिका विफलता से नहीं डरती,क्यूंकि विफलता, सफलता की सीढ़ी ही होती है

तंग होली ...

शून्य हो गया जीवन सारा,
ख़ुशियों से नाता टूटा।
चीख उठी तब मौन वेदना,
जीवन जग से है रूठा।
शेष नहीं है अब अभिलाषा,
जलती इच्छा संग सभी।

जीना सीखिए ....

फल नहीं तो छाँव ,मयस्सर होगी जरुर,
बनकर हमदर्द बिरवों को सींचना सीखिए-
मुतमईन होईये मिल्खा व बोल्ट से बेशक
आपके तो पाँव हैं,बे-पांवों से चलना सीखिए-
आप तो भरे पूरे परिवार के चश्मों चिराग हैं
जिनका कोई नहीं उनसे भी जीना सीखिए -

मैं तेरी सोन चिरैया
मेरी फ़ोटो
घर को तेरे सुना करके
पिया का घर बसाऊँँगी
अब तक तेरी दुलारी थी
अब उस घर की सोनचिरिया कहलाउँँगी



थप्पड़ में प्यार, हक़ ढूँढ़नेवालो

है अपनी बिटिया और अपने काम के साथ।  क्योंकि उसने जो पाया है वह इतना भरपूर है कि कोई तमन्ना अब  बाक़ी नहीं रही। वह कहती भी है उसके साथ सबकुछ एफर्टलेस था।
लेकिन आम भारतीय स्त्रियां जानती हैं कि उनकी पूरी गृहस्थी  उन्हीं के एफर्ट्स पर टिकी हुई है जिसमें थप्पड़ जबरदस्ती, उनका कॅरिअर छोड़ना सब सामान्य  है।

कड़ाही
Fry, Potatoes, Pan, Cook, Oil, Boil
उसमें और कड़ाही में
बस इतना-सा फ़र्क है
कि कड़ाही को कभी-कभार
आराम मिल जाता है.

दुनिया पागल है या फिर मैं दीवाना
दीपक में असंख्य पतंगों को जलकर मरते हुए देख कर भी बाकी
पतंगे अपनी प्राण रक्षा की बात नहीं सोचते।
यह आकर्षण भी बड़ा विचित्र है।
और बहुत इसी पुस्तक से...



2 दिन बाद होली है......
आप सभी को मेरी ओर से.....
पावन होली की भी शुभकामनाएं.....
धन्यवाद।

16 टिप्‍पणियां:

  1. महिला दिवसपर अत्यंत सराहनीय प्रस्तुति।

    नारी समानता से कहीं अधिक सम्मान जाती है। नारीत्व की महिमा के संदर्भ में कहा गया है कि नारी प्रेम ,सेवा एवं उत्सर्ग भाव द्वारा पुरुष पर शासन करने में समर्थ है। वह एक कुशल वास्तुकार है, जो मानव में कर्तव्य के बीज अंकुरित कर देती है।
    परंतु उसकी एक सबसे बड़ी विशेषता कुंठा भी है... ।
    और नारी सर्वाधिक अपमानित पुरुष से नहीं स्वयं अपनों से होती हैं , यह भी सत्य है।

    सभी रचानकारों को प्रणाम और महिला दिवस की शुभकामनाएँ।

    जवाब देंहटाएं
  2. सुन्दर लिंक्स. मेरी कविता शामिल की. आभार.

    जवाब देंहटाएं
  3. आभार आपका
    बढ़िया प्रस्तुति..
    हार्दिक शुभकामनाएँ.
    सादर...

    जवाब देंहटाएं
  4. सराहनीय भूमिका उम्दा लिंक्स चयन
    साधुवाद

    जवाब देंहटाएं
  5. सराहनीय और सारयुक्त भूमिका।
    बहुत सुंदर प्रस्तुति सभी रचनाएँँ एक से बढ़कर एक हैं।
    सुंदर अंक।
    सादर।

    जवाब देंहटाएं
  6. महिला दिवस पर बहुत खूबसूरत प्रस्तुति, होली की हार्दिक शुभकामनाएं

    जवाब देंहटाएं
  7. महिला दिवस पर खूबसूरत प्रस्तूति।

    जवाब देंहटाएं
  8. मैं गाँधारी नहीं बनूंगी
    नेत्रहीन पति की आँखे बनूंगी
    अपनी आँखे मूंदलू
    अंधेरों को चूमलू
    ऐसा अर्थहीन त्याग
    मै नहीं करूंगी
    मेरी आँखो से वो देखे
    ऐसे प्रयत्न करती रहूँगी
    मैं गाँधारी नहीं बनूँगी।
    बहुत खूब ,गांधारी बन खुद का और कुल का नाश करना त्याग नहीं हैं ,
    शानदार प्रस्तुति ,हरएक रचना सोचने पर मजबूर कर रही हैं ,सादर नमन आपको

    जवाब देंहटाएं
  9. गाँधारी नहीं बनूंगी
    नेत्रहीन पति की आँखे बनूंगी
    अपनी आँखे मूंदलू
    अंधेरों को चूमलू
    ऐसा अर्थहीन त्याग
    मै नहीं करूंगी
    मेरी आँखो से वो देखे
    ऐसे प्रयत्न करती रहूँगी
    मैं गाँधारी नहीं बनूँगी।
    लाजवाब अंक प्रिय कुलदीप जी । जोरदार रचनाएँ मन मोह गयी। शुभकामनायें और आभार 😊२

    जवाब देंहटाएं
  10. मुझे तो बस इतना पता है कि माँ नहीं होती तो मैं नही होता और पत्नी नहीं होती तो मेरे बच्चे / बेटियाँ नहीं होती। इसकी पटाक्षेप में नानी व दादी की भूमिका कैसे भूल सकता हूँ ।

    एक पुरुष तो महज कड़ी की भाँति है। हमारा पूर्ण अस्तित्व ही आपकी वजह से है।

    महिला दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सुन्दर प्रतिक्रिया...
      साधुवाद..

      हटाएं
    2. आदरणीय पुरुषोत्तम जी, समस्त नारी समाज के प्रति आपकी उद्दात भावनाओं का अभिनंदन है। कोटि आभार 🙏🙏🙏

      हटाएं
    3. सम्मान हेतु आभार
      कामना है
      सारे लोगों की सोच
      आप जैसी हो
      सादर

      हटाएं
  11. बीनू भटनागर जी की कविता मैं में ही रहूंगी मैं राधा नहीं बनूंगी पढ़कर अच्छा लगा
    सभी लिंक्स अच्छे लगे

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...