निवेदन।


फ़ॉलोअर

गुरुवार, 12 सितंबर 2019

1518....इसे बहा जाता लहरों में वह रहस्यमय कौन?

स्नेहिल अभिवादन
-------

11 सितंबर महादेवी वर्मा की पुण्य तिथि थी,
उनको सादर प्रणाम करते हुये उनकी एक रचना -

शून्य काल के पुलिनों पर-
जाकर चुपके से मौन,
इसे बहा जाता लहरों में
वह रहस्यमय कौन?

कुहरे सा धुँधला भविष्य है,
है अतीत तम घोर ;
कौन बता देगा जाता यह
किस असीम की ओर?
★★★★★

आइये पढ़ते है आज की रचनाएँ-

◆◆◆◆◆



 प्रेम के प्रति मेरी चिर परिचित तटस्थता विचलित
करेगी तुम्हें
तुम्हारा प्रेम मुझे प्रभावित तो करेगा
पर मैं सबसे छुपा लूँगी
क्या तुम नहीं जानते?
हर स्त्री कुशल अभिनेत्री होती है

◆◆◆◆◆◆


हुआ है आजकल कुछ ऐसा
की हर वक़्त जुबां पर,
होता है नाम आपका,
भले ही कॉफी की गर्म भाप,
हो भले किसी पुराने तरानों की धुन,
ये प्यार ही तो है जानाँ,
बस यूँ समझ लो
प्यार को तो इम्तेहान देना ही नहीं आता
रुठा न करो तुम हमसे
हमें तो मनाना भी नहीं आता

◆◆◆◆◆◆◆


नीति ध्वस्त आडम्बर कलुषित
कुंदन शोभा मंद पड़ी थी।
लाल मिला फिर रेत भाव में
द्वार जौहरी पंक्ति खड़ी थी।
अंतः विचलित हो ही जाता
उससे भी ये नीच घड़ी थी।

◆◆◆◆◆◆

गलतियाँ जो भी हुई वो महज गलतियाँ थी,
समझ ज़रा कच्ची रही तेरी भी मेरी भी।

बातें कुछ ऐसी हुई जो तोड़ गई रिश्ते-नाते,
कमजोरियाँ दिखने लगी तेरी भी मेरी भी।

मैं जो मेरे भीतर था, मैं जो तेरे भीतर था,
दुख की बस ये ही वजह थी तेरी भी मेरी भी।

◆◆◆◆◆◆◆◆◆


संभावनाओं की चौखट पर बैठे
वो द्वारपाल हो जो किसी स्त्री के
मैल से उत्पन्न विवेक शून्य प्रतीत होते हो,
अपने न होने में मगर
कभी होना न तलाशना
तुम वो भाव मारकर जा रहे हो
जिसे आत्मीयता की पराकाष्ठा कहते हैं.


देख घटा, पादप विहंसे निज मन में ।
कमल कुमुदिनी हर्षित हो सरसे ,
धरा हरित चुनर ओढ़, मुदित है मन में।
जल प्रागंण निज रूप संवारे लतिका,

●●●●●●
हम-क़दम का नया विषय

यहाँ देखिए
●●●●●●

आज का यह अंक आपको कैसा लगा?
आपकी बहुमूल्य प्रतिक्रियाओं की प्रतीक्षा 
रहती है।
◆◆◆◆◆◆◆


कल का अंक पढ़ना न भूले
कल आ रहे हैं रवींद्र जी।





18 टिप्‍पणियां:

  1. शुभ प्रभात....
    बेहतरीन प्रस्तुति...
    सादर..

    जवाब देंहटाएं
  2. अति सुंदर प्रस्तुतीकरण
    महादेवी वर्मा को शत-शत नमन

    जवाब देंहटाएं
  3. बेहतरीन रचना संकलन एवं प्रस्तुति सभी रचनाएं उत्तम रचनाकारों को हार्दिक बधाई

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत शानदार अंक , सुंदर प्रस्तुति श्वेता ।

    जवाब देंहटाएं
  5. शानदार प्रस्तुतिकरण उम्दा लिंक संकलन...
    सभी रचनाकारों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं।

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...