निवेदन।


फ़ॉलोअर

शनिवार, 27 अक्तूबर 2018

1198... परीक्षा-परिणाम


सभी को यथायोग्य
प्रणामाशीष
जिन्दगी का हर एक पल है
हमारी नज़र में तुम वह गम हो
बीस ओवरीय प्रतियोगिता में
देश क्या जीता
बाजार के साथ तुम्हारे हाथ लग गया
जैसे जनता को बहलाने वाला एक पपीता


परीक्षा-परिणाम

वैसे इस एक दिन वह जिस बनावटी खुशी और
जिसका श्रेय खुद लेने की खुशफहमी पालते हैं,
वह उनकी है ही नहीं। यह सब वह मकड़जाल है
 जिसमें पूरे तंत्र को उलझाकर एक हौवा बनाया हुआ है।
एक ऐसी कुव्यवस्था का इंतजाम है कि
 बढ़ते बच्चे अधिकाधिक सवाल न करें।


जब डाक आती थी

 दूर गए पति का पत्नी के लिए पत्र मे पैसा
बच्चों के परीक्षा का परिणाम
रिजल्ट पाने के लिए उसके इर्दगिर्द घूमना
डाकिया को मिठाई खिलाना
वह भी घर के सदस्य जैसा

जिंदगी सिर्फ कविता नहीं

काली सूची में डालता
पलकों को गीला करने वाले
कुटिल वाक्यों को
मैं छांट कर
उन शब्दों को
हरी दूब पर
बिखरा देता
जिन शब्दों में
बसते हैं प्यार - दुलार


कविता
रूपक से इस अर्थ में भिन्न होता है कि प्रतीक का अस्तित्व वास्तविक होता है, जबकि रूपक का चिह्न स्वेच्छाचारी बिचौलिए का होता है। यह संकेत से भी भिन्न होता है। संकेत तो जिस के बारे में कहा जा रहा है और जो कहा जा रहा है, उसमें एकता स्थापित करने को होता है। लेकिन प्रतीक में एक के भावमय से दूसरे बात की जाती है। अब शब्द स्वयं ही प्रतीक हैं, तो भी कविता में शब्द एक बिम्ब और अवधारणा को स्युक्त कर बनता है। ये व्यक्तिगत भी हो सकते हैं और सार्वजनिक भी। उनकी एक व्याख्या भी हो सकती है और अमूर्त भी। ये संरचनात्मक भी हो सकते हैं।सर्जनात्मक भी।

<><>
फिर मिलेंगे...
हम-क़दम का बयालिसवाँ अंक का विषय..
आदरणीय मुनव्वर जी राणा का एक अश़आर
.....
उन घरों में जहाँ मिट्टी के घड़े रहते हैं
क़द में छोटे हों मगर लोग बड़े रहते हैं
......
आप सभी को को इस श़ेर को दृष्टिगत रखकर
कविताएँ लिखनी है....
रचना भेजने की अंतिम तिथिः आज शनिवार 27 अक्टूबर 2018
प्रकाशन तिथिः 29 अक्टूबर
रचनाएं ब्लॉग सम्पर्क प्रारूप में ही आनी चाहिए





8 टिप्‍पणियां:

  1. आदरणीय दीदी
    सादर नमन...
    सदा की तरह बेहतरीन प्रस्तुति
    सादर...

    जवाब देंहटाएं
  2. सुप्रभात दी:)
    हमेशा की भाँति शानदार रचनाओं सजा जानदार अंक।
    सभी रचनाएँ बहुत अच्छी हैं।

    जवाब देंहटाएं
  3. वाह!!बेहतरीन प्रस्तुति ।

    जवाब देंहटाएं
  4. वाह.. बहुत सुंदर प्रस्तुति।

    जवाब देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...