पाँच लिंकों का आनन्द

पाँच लिंकों का आनन्द

आनन्द के साथ-साथ उत्साह भी है...अब आप के और हमारे सहयोग से प्रतिदिन सज रही है पांच लिंकों का आनन्द की हलचल..... पांच रचनाओं के चयन के लिये आप सब की नयी पुरानी श्रेष्ठ रचनाएं आमंत्रित हैं। आप चाहें तो आप अन्य किसी रचनाकार की श्रेष्ठ रचना की जानकारी भी हमे दे सकते हैं। अन्य रचनाकारों से भी हमारा निवेदन है कि आप भी यहां चर्चाकार बनकर सब को आनंदित करें.... इस के लिये आप केवल इस ब्लॉग पर दिये संपर्क प्रारूप का प्रयोग करें। इस आशा के साथ। हम सब संस्थापक पांच लिंकों का आनंद। धन्यवाद एक और निवेदन आप सभी से आदरपूर्वक अनुरोध है कि 'पांच लिंकों का आनंद' के अगले विशेषांक हेतु अपनी अथवा अपने पसंद के किसी भी रचनाकार की रचनाओं का लिंक हमें आगामी रविवार तक प्रेषित करें। आप हमें ई -मेल इस पते पर करें dhruvsinghvns@gmail.com तो आइये एक कारवां बनायें। एक मंच,सशक्त मंच ! सादर

समर्थक

बुधवार, 30 नवंबर 2016

502....कभी होता है पर ऐसा भी होता है

सादर अभिवादन..
चालू हो गई फिर से गिनती.....
01,02,03
चलना है...चलते रहना है
रुक गया जो.. 
श्रेणी बदल जाती है उसकी
स्वतः ही...
चरैवेति - चरैवेति
मत पलट के देख..
क्या छूट गया पीछे
वो देख सामने खड़ा है
सत्रह तेरे इन्तज़ार में...

सपनों में जीने वालों का
एक यही तो हासिल है   
दिन भी बीता रीता-रीता
रात बिलखते बीत गयी !

आज मेरी लेखनी ने राजनीति की तरफ देखा,
आँखें इसकी चौंधिया गयी मस्तक पर छायी गहरी रेखा।
                                                                               
संसद भवन मे जाकर इसने नेता देखे बडे-बडे,
कुछ पसरे थे कुर्सी पर ,कुछ भाषण देते खडे-खडे


भाई, नुक्स निकालना हमारा जन्मसिद्ध अधिकार है. देश हो या नियम कायदे, हम तो नुक्स निकालेंगे. 
जल्दी ही चुनाव होंगे लेकिन उसके पहले ही लोगों के हाथों में स्याही लगी होगी, 
कहीं आग लगी होगी तो कहीं धुंआ उठेगा. अब दिल ढूँढता है फिर फुरसत के चार दिन 


मुरारी की तरफ़ मुखातिब होते हुए कहा, "आज तक तुम्हारे खाते में तनख्वाह के अलावा कभी एक धेला भी जमा नहीं हुआ होगा। इस बार उसमें अनायास एक लाख की रकम जमा हो गयी। बदकिस्मती से अगर कोई राजस्व अधिकारी पूछ बैठे कि यह रकम कहां से आई तब क्या स्पष्टीकरण देना होगा इसे भी सोच लेना।


कभी कभी कहानियाँ
यूँ खत्म हो जाती है !
वक़्त का मरहम मिलता नहीं
तो जैसे ज़ख्म हो जाती है !!


महक उठी थी केसर.....स्मृति आदित्य जोशी "फाल्गुनी"
महक उठी थी केसर
जहाँ चूमा था तुमने मुझे,
बही थी मेरे भीतर नशीली बयार
जब मुस्कुराए थे तुम,



देश की धड़कन


एक शहंशाह बहुत समझदार था....ईश मिश्रा
काश चलता होता 
सत्य-अहिंसा से जम्हूरी सियासत का काम
करना पड़े सियासत में कितना भी छल फरेब
खुले न मगर किसी भी चाल का भेद
वह एक भी ऐसा शब्द नहीं बोलता
जो करुणा से हो न ओत-प्रोत
दिखता है वह ऐसे 
हो जैसे मानवीय संवेदनाओं का श्रोत
करता वह शहंशाह रियाया से निरंतर संवाद
बताता है उन्हें गाहे-बगाहे अपने मन की बात
कभी मन-ही-मन शहीदों के साथ दिवाली मनाता
खेलता है होली सरहद पर सैनिकों के साथ
मलाल है उसे इस बात का 
कर न सका सम्मान सैनिक बनने के ख़ाब का
मचा था जब सिक्कों की गफलत से मुल्क में कोलाहल
लगा उसे बह रहा है देशभक्ति का हलाहल 


आज का शीर्षक..

और जिसे 
बस समय 
लिख रहा 
होता है 
समय पढ़ 
रहा होता है 
समय ही 
खुद सब कुछ 
समझ रहा 
होता है ।

आज अति हो गई..
आज्ञा दें यशोदा को
सादर

















5 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर सार्थक सूत्र ! मेरी रचना को सम्मिलित करने के लिए आपका हृदय से आभार यशोदा जी ! धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढ़िया निखरी हुई हलचल । आभार 'उलूक' का सूत्र 'कभी होता है पर ऐसा भी होता है' को जगह देने के लिये यशोदा जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. पाँच लिंकों का आनन्द वाकई मे आनन्द ही आनन्द है ।
    बहुत खूब यशोदा जी
    मेरी रचना सम्मिलित करने के लिए आभार!
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर हलचल प्रस्तुति ...

    उत्तर देंहटाएं

आभार। कृपया ब्लाग को फॉलो भी करें

आपकी टिप्पणियाँ एवं प्रतिक्रियाएँ हमारा उत्साह बढाती हैं और हमें बेहतर होने में मदद करती हैं !! आप से निवेदन है आप टिप्पणियों द्वारा दैनिक प्रस्तुति पर अपने विचार अवश्य व्यक्त करें।

टिप्पणीकारों से निवेदन

1. आज के प्रस्तुत अंक में पांचों रचनाएं आप को कैसी लगी? संबंधित ब्लॉगों पर टिप्पणी देकर भी रचनाकारों का मनोबल बढ़ाएं।
2. टिप्पणियां केवल प्रस्तुति पर या लिंक की गयी रचनाओं पर ही दें। सभ्य भाषा का प्रयोग करें . किसी की भावनाओं को आहत करने वाली भाषा का प्रयोग न करें।
३. प्रस्तुति पर अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .
4. लिंक की गयी रचनाओं के विचार, रचनाकार के व्यक्तिगत विचार है, ये आवश्यक नहीं कि चर्चाकार, प्रबंधक या संचालक भी इस से सहमत हो।
प्रस्तुति पर आपकी अनुमोल समीक्षा व अमूल्य टिप्पणियों के लिए आपका हार्दिक आभार।




Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...